BREAKING NEWS

उत्तर भारत में बारिश का कहर, हिमाचल, पंजाब, उत्तराखंड में 28 की मौत ◾PM मोदी की UAE, बहरीन की तीन दिवसीय यात्रा 23 अगस्त से ◾सोनिया को अनुच्छेद 370 पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए : शिवराज◾पाकिस्तानी सेना ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, भारतीय सेना ने दिया मुहतोड़ जवाब ◾जब रात गहराती है : कश्मीर को सुरक्षित रखने के लिए जागे रहते हैं जवान◾गिलगित-बल्तिस्तान पर PAK ने समय-समय पर लिये फैसले◾कांग्रेस ने लद्दाख को उचित तवज्जो नहीं दी, इसीलिए चीन डेमचोक में घुसा : BJP सांसद नामग्याल ◾जेटली के स्वास्थ्य की जानकारी लेने और कई नेता पहुंचे AIIMS◾अभियान चलाकर भरे जाएं आरक्षण कोटे के खाली पद : मायावती◾तीन तलाक पर बोले शाह - समाज सुधारकों में लिखा जाएगा PM मोदी का नाम◾TOP 20 NEWS 18 August : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भूटान की दो दिवसीय यात्रा से वापस लौटे प्रधानमंत्री मोदी, विदेश मंत्री जयशंकर ने किया स्वागत ◾हुड्डा ने किया अनुच्छेद 370 हटाए जाने का समर्थन, कांग्रेस को बताया रास्ते से भटकी हुई पार्टी ◾महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में भाजपा के अपने मौजूदा मुख्यमंत्रियों के तहत चुनाव लड़ने की संभावना◾पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली से मिलने AIIMS पहुंचे अरविंद केजरीवाल, ट्वीट कर कही ये बात◾जम्मू के सभी जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं फिर से बंद◾राजनाथ सिंह की पाक को चेतावनी, बोले - बातचीत होगी तो सिर्फ POK पर◾PM मोदी बोले- भूटान के छात्रों में है असाधारण चीजें करने की शक्ति एवं क्षमता◾JDS के नेतृत्व वाली सरकार के दौरान हुए फोन टैपिंग केस को CBI को सौंपेंगी येदियुरप्पा सरकार◾हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण कई नेशनल हाईवे क्षतिग्रस्त◾

जम्मू-कश्मीर

सरकार जम्मू कश्मीर में भारत-पाक सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को देगी आरक्षण का फायदा

जम्मू कश्मीर में भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एएलओसी) के पास रहने वालों की तरह सीधी भर्ती, पदोन्नति तथा पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश में आरक्षण का लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला किया गया। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक मंत्रिमंडल ने जम्मू और कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019 को मंजूरी दे दी। 

बयान में कहा गया जन कल्याणकारी पहलों तथा विशेष रूप से विकास के अंतिम पायदान पर खड़े लोगों को ध्यान में रखते हुए तथा प्रधानमंत्री मोदी के वायदों को पूरा करने के लिए केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने आज जम्मू और कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019 को अपनी स्वीकृति दे दी। संसद के अगले सत्र में दोनों सदनों में इस आशय का प्रस्ताव लाया जाएगा। 

बयान में कहा गया ,‘‘मंत्रिमंडल का यह निर्णय सबका साथ, सबका विकास तथा सबका विश्वास के प्रति समर्पित जन कल्याणकारी सरकार के प्रधानमंत्री मोदी के विजन को दिखाता है।’’ इस कदम से जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों को राहत मिलेगी। अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले लोग सीधी भर्ती, पदोन्नति तथा विभिन्न पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश में लाभ उठा सकते हैं। 

यह विधेयक जम्मू और कश्मीर आरक्षण अधिनियम, 2004 में संशोधन द्वारा जम्मू और कश्मीर आरक्षण (संशोधन) अध्यादेश, 2019 का स्थान लेगा और यह अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एएलओसी) से लगे क्षेत्रों में रह रहे लोगों के समान आरक्षण के दायरे में लाएगा। जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रह रहे लोगों को जम्मू और कश्मीर आरक्षण अधिनियम, 2004 तथा वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों के निवासियों सहित विभिन्न श्रेणियों के लिए प्रत्यक्ष भर्ती, पदोन्नति तथा विभिन्न पेशेवर पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए आरक्षण का प्रावधान करने वाले नियम, 2005 में शामिल नहीं किया गया था। इसलिए लंबे समय से उन्हें इसके लाभ नहीं मिल रहे थे। 

सीमा पार से लगातार तनाव, अंतरराष्ट्रीय सीमा के आसपास रह रहे लोगों के सामाजिक, आर्थिक तथा शैक्षणिक पिछड़ापन तथा सीमा पार से होने वाली गोलीबारी के कारण यहां के निवासी सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए बाध्य होते रहे और इससे उनकी शिक्षा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा, क्योंकि शैक्षणिक संस्थान लंबे समय तक बंद रहे। इसलिए उचित रूप से यह महसूस किया गया कि वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की तरह ही अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए आरक्षण के लाभ का विस्तार किया जाए। राष्ट्रपति शासन के दौरान राज्य विधानसभा की शक्तियां संसद में निहित होती हैं। इसलिए जम्मू और कश्मीर आरक्षण (संशोधन) अध्यादेश, 2019 के स्थान पर विधेयक लाने का निर्णय लिया गया है, जो संसद के दोनों सदनों में पेश किया जाएगा।