BREAKING NEWS

कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾येद्दियुरप्पा ने किया दावा, बोले- सौ फीसदी भरोसा है कि विश्वास मत प्रस्ताव गिर जाएगा◾22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्च होगा चंद्रयान-2◾सरकार कुलभूषण जाधव की सुरक्षा और जल्द भारत लाने की कोशिश जारी रखेगी : जयशंकर ◾अयोध्या मामला : SC का आदेश, 2 अगस्त से होगी सुनवाई◾रामनाथ कोविंद ने नौ क्षेत्रीय भाषाओं में फैसले उपलब्ध कराने के प्रयासों की प्रशंसा की ◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ के फैसले की पकिस्तान PM इमरान ने की सराहना◾राहुल गांधी बोले- फिर उम्मीद जगी है कि जाधव एक दिन भारत लौटेंगे◾कर्नाटक : कांग्रेस विधायक रामालिंगा रेड्डी इस्तीफा लेंगे वापस, करेंगे सरकार के पक्ष में मतदान ◾कर्नाटक : कुमारस्वामी सरकार का फ्लोर टेस्ट आज◾हाफिज सईद की गिरफ्तारी का डोनाल्ड ट्रंप ने किया स्वागत, ट्वीट कर कही ये बात ◾पीएम मोदी सहित कई दिग्गज नेताओं ने कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले का किया स्वागत◾कुलभूषण जाधव ICJ के फैसले पर सुषमा ने मोदी को कहा शुक्रिया◾ICJ में भारत की बड़ी जीत : 15-1 से कुलभूषण यादव के पक्ष में गया फैसला , फांसी पर रोक ◾ICJ : जाधव मामले में पाकिस्तान ने विएना संधि का उल्लंघन किया, अब लगा तगड़ा झटका◾प्रधानमंत्री मोदी ने 47 से 56 वर्ष आयु वर्ग के भाजपा सांसदों से की मुलाकात ◾

जम्मू-कश्मीर

श्रीनगर में शहीदों के कब्रिस्तान में आधिकारिक कार्यक्रम से दूर रहे राज्यपाल मलिक

श्रीनगर/जम्मू : जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक शनिवार को शहीदों की याद में आयोजित एक आधिकारिक कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके और उनकी ओर से उनके सलाहकार ने इन शहीदों की कब्रों पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। 

यह कार्यक्रम सन 1931 में आज ही के दिन डोगरा शासक महाराजा हरि सिंह की सेना की गोलीबारी में शहीद हुए लोगों की स्मृति में आयोजित किया गया था। 

मलिक के पूर्ववर्ती एन एन वोहरा भी पिछले साल आधिकारिक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे थे लेकिन 2017 में उन्होंने इन शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी।

राज्यपाल मलिक ने शुक्रवार को अपने संदेश में कहा कि जम्मू कश्मीर को अपने बहुलवादी संस्कृति और समरसता के लिए जाना जाता है। उन्होंने राज्य में शांति और समृद्धि के लिए एकता और बंधुत्व पर बल दिया।
 
राज्यपाल मलिक के सलाहकार खुर्शीद अहमद गनई ने इन 22 शहीदों की कब्रों पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। दरअसल, ये लोग महाराजा हरि सिंह के निरकुंश शासन का विरोध करने के दौरान शहीद हो गए थे। 

इस अवसर पर नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी के वरिष्ठ नेता एआर वेरी और कांग्रेस के नेता पीरजादा सईद भी मौजूद थे। राज्य के अलगाववादियों ने इस दिन की स्मृति में बंद का आह्वान किया है। 

हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नरमपंथी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक समेत अलगाववादी नेताओं को कब्रिस्तान जाने से रोकने के लिये नजरबंद कर दिया गया था। अलगाववादियों ने इस मौके पर बंद का आह्वान किया था। अधिकारियों ने कहा कि पुराने शहर में एहतियात के तौर पर लोगों की आवाजाही पर पाबंदी लगा दी गई। 

उन्होंने कहा कि घाटी में आम जनजीवन बंद की वजह से प्रभावित रहा और दुकानें व कारोबारी प्रतिष्ठान बंद रहे। अधिकारियों ने कहा कि एहतियाती कदम के तौर पर अमरनाथ यात्रा को भी शनिवार को एक दिन के लिये रोक दिया गया था। 

वहीं जम्मू में विस्थापित कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व कर रहे कुछ संगठनों ने 13 जुलाई को ‘काला दिवस’ मनाया और कहा कि 1931 में इसी दिन कश्मीर घाटी में समुदाय को ‘अत्याचार’ का सामना करना पड़ा। 

संगठन के सदस्यों ने यहां राजभवन के बाहर प्रदर्शन किया जबकि जम्मू कश्मीर में शहीदी दिवस मनाया गया।
 
ऑल स्टेट कश्मीरी पंडित कॉन्फ्रेंस (एएसकेपीसी) के महासचिव टी के भट ने संवाददाताओं को बताया कि 13 जुलाई को राजनीतिक दलों और सरकार द्वारा शहीदी दिवस मनाया जाना, ‘विस्थापित (कश्मीरी पंडित) समुदाय के जख्मों पर नमक डालने जैसा है।’