BREAKING NEWS

आगामी दिल्ली विधानसभा चुनावों को एक और 'स्वतंत्रता संग्राम' मानें : केजरीवाल ◾अयोध्या मामला : मध्यस्थता समिति ने न्यायालय में सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंपी ◾राहुल गांधी ने कहा- भूख सूचकांक में भारत का लुढ़कना मोदी सरकार की घोर विफलता◾श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम से जानी जाएगी जम्मू-कश्मीर की चेनानी-नासरी सुरंग : नितिन गडकरी ◾वोट की खातिर लोकलुभावन वादों से बचें राजनीतिक दल : वेंकैया नायडू ◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- 5 साल में घुसपैठियों को देश से बाहर करेंगे◾देवेन्द्र और नरेन्द्र महाराष्ट्र में विकास के दोहरा इंजन हैं : PM मोदी◾TOP 20 NEWS 16 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या विवाद मामले पर सुनवाई पूरी, SC ने फैसला रखा सुरक्षित ◾PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-परिवार भक्ति में ही राष्ट्र भक्ति आती है नजर ◾अर्थव्यवस्था को लेकर प्रियंका का केंद्र पर तंज, कहा-विश्व बैंक के बाद IMF ने भी दिखाया सरकार को आईना◾साक्षी महाराज बोले- 6 दिसंबर से शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण◾महाराष्ट्र रैली में PM मोदी ने कहा-राष्ट्र निर्माण का आधार हैं सावरकर के संस्कार◾कपिल सिब्बल का PM पर तंज, बोले- मोदी जी, राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए◾आईएनएक्स मीडिया मामला: तिहाड़ जेल में पूछताछ के बाद ED ने पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार◾अयोध्या विवाद : CJI गोगोई ने मामले की सुनवाई को आज शाम 5 बजे पूरी करने का दिया निर्देश◾होमगार्ड मामले में मायावती का यूपी सरकार पर वार, बेरोजगारी बढ़ाने का लगाया आरोप◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए 3 आतंकवादी◾होमगार्ड मामले पर प्रियंका का सवाल- योगी सरकार पर कौन सा फितूर है सवार ◾आईएनएक्स मीडिया: चिदंबरम से पूछताछ करने तिहाड़ पहुंची ED टीम, कार्ति और नलिनी भी मौजूद◾

जम्मू-कश्मीर

श्रीनगर में शहीदों के कब्रिस्तान में आधिकारिक कार्यक्रम से दूर रहे राज्यपाल मलिक

श्रीनगर/जम्मू : जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक शनिवार को शहीदों की याद में आयोजित एक आधिकारिक कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके और उनकी ओर से उनके सलाहकार ने इन शहीदों की कब्रों पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। 

यह कार्यक्रम सन 1931 में आज ही के दिन डोगरा शासक महाराजा हरि सिंह की सेना की गोलीबारी में शहीद हुए लोगों की स्मृति में आयोजित किया गया था। 

मलिक के पूर्ववर्ती एन एन वोहरा भी पिछले साल आधिकारिक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे थे लेकिन 2017 में उन्होंने इन शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी।

राज्यपाल मलिक ने शुक्रवार को अपने संदेश में कहा कि जम्मू कश्मीर को अपने बहुलवादी संस्कृति और समरसता के लिए जाना जाता है। उन्होंने राज्य में शांति और समृद्धि के लिए एकता और बंधुत्व पर बल दिया।

 

राज्यपाल मलिक के सलाहकार खुर्शीद अहमद गनई ने इन 22 शहीदों की कब्रों पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। दरअसल, ये लोग महाराजा हरि सिंह के निरकुंश शासन का विरोध करने के दौरान शहीद हो गए थे। 

इस अवसर पर नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी के वरिष्ठ नेता एआर वेरी और कांग्रेस के नेता पीरजादा सईद भी मौजूद थे। राज्य के अलगाववादियों ने इस दिन की स्मृति में बंद का आह्वान किया है। 

हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के नरमपंथी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक समेत अलगाववादी नेताओं को कब्रिस्तान जाने से रोकने के लिये नजरबंद कर दिया गया था। अलगाववादियों ने इस मौके पर बंद का आह्वान किया था। अधिकारियों ने कहा कि पुराने शहर में एहतियात के तौर पर लोगों की आवाजाही पर पाबंदी लगा दी गई। 

उन्होंने कहा कि घाटी में आम जनजीवन बंद की वजह से प्रभावित रहा और दुकानें व कारोबारी प्रतिष्ठान बंद रहे। अधिकारियों ने कहा कि एहतियाती कदम के तौर पर अमरनाथ यात्रा को भी शनिवार को एक दिन के लिये रोक दिया गया था। 

वहीं जम्मू में विस्थापित कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व कर रहे कुछ संगठनों ने 13 जुलाई को ‘काला दिवस’ मनाया और कहा कि 1931 में इसी दिन कश्मीर घाटी में समुदाय को ‘अत्याचार’ का सामना करना पड़ा। 

संगठन के सदस्यों ने यहां राजभवन के बाहर प्रदर्शन किया जबकि जम्मू कश्मीर में शहीदी दिवस मनाया गया।

 

ऑल स्टेट कश्मीरी पंडित कॉन्फ्रेंस (एएसकेपीसी) के महासचिव टी के भट ने संवाददाताओं को बताया कि 13 जुलाई को राजनीतिक दलों और सरकार द्वारा शहीदी दिवस मनाया जाना, ‘विस्थापित (कश्मीरी पंडित) समुदाय के जख्मों पर नमक डालने जैसा है।’