BREAKING NEWS

UP चुनाव: SP-RLD के समर्थन में बयान देकर फंसे नरेश टिकैत, यूटर्न लेते हुए कहा- हम ज्यादा बोल पड़े... ◾अखिलेश से लोगों को उम्मीदें, जिंदा लोग BJP को नहीं देंगे वोट : संजय राउत ◾भाजपा ने किया दावा- यूपी में 10 फरवरी से ही शुरू हो जाएगा जीत का सफर, अंतिम चरण तक रहेगा कायम◾UP चुनाव : पीएम मोदी कल अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भाजपा के कार्यकर्ताओं से वर्चुअली करेंगे बातचीत ◾गोवा में कांग्रेस और BJP के बीच मुकाबला, AAP-TMC कर रही गैर-भाजपा मतों को 'विभाजित' करने का काम ◾रावत के निष्कासन पर बोले CM धामी-वंशवाद से दूर और विकास के साथ चलने वाली पार्टी है BJP◾कांग्रेस में शामिल हुए बिना भी कांग्रेस के लिए करूंगा काम : हरक सिंह रावत◾Corona Cases in India : पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 2 लाख 58 हजार से अधिक केस दर्ज◾पंजाब में चुनाव टालने की मांग पर आज विचार करेगा निर्वाचन आयोग◾UP विधानसभा चुनाव : निषाद पार्टी ने UP की 15 सीटों पर ठोंका दावा, BJP ने अभी नहीं की पुष्टि ◾PM मोदी आज करेंगे दावोस शिखर सम्मेलन को संबोधित, कोविड समेत कई वैश्विक मुद्दों पर कर सकते हैं बात◾राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में शीतलहर का कहर जारी, जानें कब तक रहेगा ऐसा मौसम◾Covid-19 : विश्वभर में संक्रमण के आंकड़े 32.57 करोड़ से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश◾किसी व्यक्ति की सहमति के बिना जबरन टीकाकरण नहीं कराया जा सकता : SC को केंद्र ने बताया ◾दिग्गज कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का हुआ इंतकाल, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांस◾SP-RLD को नहीं दिया समर्थन, लोगों को समझने में हुई गलती: राकेश टिकैत◾हरक सिंह रावत को उत्तराखंड मंत्रिमंडल और पार्टी से किया बर्खास्त, कांग्रेस में हो सकते हैं शामिल ◾भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने पुरी शंकराचार्य से की मुलाकात ◾ नेपाल सरकार का दावा- लिंपियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी उसके अभिन्न अंग, निर्माण रोके भारत◾दिल्ली में कोविड-19 के 18,286 मामले आए सामने , 28 रोगियों की मौत ◾

आतंकी बुरहान वानी की बरसी पर घाटी में हाई अलर्ट, बढ़ाई सुरक्षा, सर्च अभियान जारी

नई दिल्ली: घाटी में आतंक के पोस्टर ब्वाय बुरहान वानी के मारे जाने के साल भर बाद भी हालात सामान्य नहीं हो पाए हैं। अब उसकी बरसी पर घाटी का माहौल बिगाड़ने की तैयारी है। पाकिस्तान में बैठा सलाहुद्दीन अगले हफ्ते को 'शहीदों का हफ्ता' के तौर पर मनाने की बात कर रहा है। हालात बेकाबू न हों, इसके लिए सरकार ने अभी से कमर कस ली है।

\"\"

Source

किसी भी अप्रिय घटना से निपटने और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात करते हुए प्रशासन ने सभी एहतियाती कदम उठाना शुरू कर दिए हैं।

सुरक्षा बलों की कुल 214 कम्पनियां घाटी में भेजी गई \"\"

Source

केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक राज्य प्रशासन के कहने पर सुरक्षा बलों की कुल 214 कम्पनियां घाटी में भेजी गई हैं। दक्षिण कश्मीर - खासकर त्राल, पुलवामा, कुलगाम और श्रीनगर के कुछ इलाकों में सर्च अभियान जारी है। यासीन मलिक को गिरफ्तार और गिलानी और मीरवाइज़ को नजरबंद कर लिया गया है, साथ ही सोशल मीडिया साइटें बंद कर दी गई हैं। बताया जा रहा है कि पिछले 30 महीने में 41 बार सोशल साइटे बैन की जा चुकी हैं।

हुर्रियत का अपना कैलेंडर दुबारा जारी \"\"

Source

उधर लम्बे समय के बाद हुर्रियत ने अपना कैलेंडर दुबारा जारी कर दिया है। इस बार कैलेंडर 13 जुलाई तक का है। इसमें हर रोज कहीं न कहीं चलने की अपील है। 8 जुलाई को त्राल चलो का नारा है। बुरहान त्राल का रहने वाला था। गृह मंत्रालय के एडवाइज़र अशोक प्रसाद ने कहा कि \"राज्य प्रशासन से खास तौर पर कहा गया है कि हालात न बिगड़ें इसलिए जितनी फोर्स उन्होंने मांगी थी, उन्हें दे दी गई।\"

डीजीपी ने की हिंसा से दूर रहने  की अपील \"\"

Source

उधर जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भी एक अपील जारी की है जिसमें नौजवानों को हिंसा से दूर रहने को कहा गया है। डीजीपी जम्मू कश्मीर एसपी वैद्य ने अपील में कहा है कि \"इस्लाम में एक शख़्स का कत्ल करना पूरी इंसानियत के कत्ल के बराबर है। हमारी पुलिस कई भटके हुए नौजवानों को वापस राह पर लाई है।\" उनके मुताबिक नौजवानों को दहशतगर्दी का रास्ता इख़्तियार नहीं करना चाहिए बल्कि अच्छे कल की और बढ़ना चाहिए। वैद्य ने कहा \"मैं यकीन दिलाता हूं जो बच्चे वापस अपनी जिंदगी ठीक करना चाहते हैं और अगर उन्होंने कुछ अपराध नहीं किए हैं तो हम पूरी कोशिश करेंगे कि वे वापस अपनों के साथ दुबारा मिल जाएं।\"

घाटी में स्कूल-कॉलेज बंद \"\"

वैसे प्रशासन को अंदेशा है कि घाटी में हालात बिगड़ सकते हैं। इसलिए स्कूल-कॉलेज बंद किए जा चुके हैं। बुरहान ने आतंकियों को बांट दिया है। कुछ आजादी के लिए लड़ रहे हैं, कुछ इस्लाम के नाम पर खिलाफत के लिए। ऐसे में इन भटके हुए नौजवानों को रास्ते पर लाना केंद्र और राज्य प्रशासन के लिए चुनौती है।