BREAKING NEWS

ऑड-ईवन योजना विस्तार पर निर्णय सोमवार को : केजरीवाल ◾कश्मीर में हालात हो रहे सामान्य, हिरासत से नेताओं को रिहा किया जाएगा, समयसीमा तय नहीं : गृह मंत्रालय ◾शिवसेना 25 सालों तक राज करेगी : संजय राउत ◾भाजपा ने कांग्रेस मुख्यालय पर लगाए नारे, राहुल ने क्या किया, देश को किया शर्मसार◾शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार कार्यकाल पूरा करेगी : पवार ◾शीतकालीन सत्र के लिए सरकार के एजेंडा में नागरिकता विधेयक ◾कश्मीर में आतंकियों एवं शहरी नक्सलियों के खिलाफ प्रभावी एवं निर्णायक कार्रवाई करे सीआरपीएफ : शाह ◾पाकिस्तान अगर भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो वांछित भारतीय अपराधियों को सौंपे : जयशंकर ◾बाबरी मस्जिद के पास रहने वाले परिवार ने खोलीं अयोध्या विवाद की परतें ◾दिल्ली -NCR में प्रदूषण पर बैठक से सांसद गंभीर और शीर्ष अधिकारी गैरहाजिर रहे ◾दिल्ली की जिला अदालतों में वकीलों की हड़ताल खत्म ◾CJI गोगोई ने सेवानिवृत्त होने से पहले अयोध्या पर फैसले के साथ इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया ◾प्रधानमंत्री ने प्रदूषण की ‘आपात स्थिति’ पर मुख्यमंत्रियों के साथ कितनी बैठकें कीं?: कांग्रेस ◾दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए सभी एजेंसियों को साथ मिलकर काम करना होगा : जावड़ेकर ◾प्रदूषण पर संसदीय समिति की बैठक में नहीं आने पर गंभीर की सफाई◾महाराष्ट्र : चन्द्रकांत पाटिल बोले- भाजपा के पास 119 विधायकों का समर्थन, जल्दी ही सरकार बनाएंगे◾TOP 20 NEWS 15 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾प्रियंका गांधी बोली- भाजपा सरकार भी डींगें हांकने के लिए डाटा छिपाने में लगी है◾प्रदूषण को लेकर SC ने 4 राज्यों के चीफ सेक्रेटरी को किया तलब, कहा- ऑड-ईवन स्थायी समाधान नहीं◾INX मीडिया : दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज की चिदंबरम की जमानत याचिका ◾

जम्मू-कश्मीर

जम्मू कश्मीर में प्रतिबंधों पर इस्तीफा देने वाले आईएएस अधिकारी को गृह मंत्रालय ने नोटिस भेजा

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आईएएस अधिकारी कन्नन गोपीनाथन के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है जिन्होंने जम्मू कश्मीर में प्रतिबंधों को लेकर अगस्त में इस्तीफा दे दिया था। 

वर्ष 2012 बैच के अरुणाचल प्रदेश-गोवा-मिजोरम और केंद्रशासित क्षेत्र (एजीएमयूटी) कैडर के आईएएस अधिकारी गोपीनाथन ने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने के मद्देनजर जम्मू कश्मीर में प्रतिबंध लगाने के केंद्र के फैसले को अनुचित बताते हुए त्यागपत्र भेज दिया था। प्रतिबंधों को उन्होंने ‘‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से वंचित करना’’ करार दिया था। 

स्वामीनाथन ने गृह मंत्रालय द्वारा खुद को जारी किए गए नोटिस को अपने टि्वटर हैंडल पर पोस्ट करते हुए कहा कि उन पर संभवत: ये आरोप लगाए गए हैं कि उन्होंने ‘‘सरकार की नीतियों पर अनधिकृत रूप से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया से बात कर विदेशी देश सहित अन्य संगठनों से केंद्र के संबंधों को उलझन में डाला है।’’ 

गृह मंत्रालय ने अपने नोटिस में कहा है कि अखिल भारतीय सेवाएं (अनुशासन और अपील) नियम 1969 के तहत गोपीनाथन के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की जा रही है। 

मंत्रालय ने कहा कि अधिकारी का त्यागपत्र ‘‘सक्षम प्राधिकार के अधीन लंबित निर्णय परीक्षण की स्थिति में है।’’ 

इसने अधिकारी से 15 दिन के भीतर जवाब देने को कहा है। 

गोपीनाथन विद्युत विभाग, केंद्रशासित क्षेत्र दमन दीव और दादर नगर हवेली के सचिव थे। उन्होंने 21 अगस्त को गृह मंत्रालय को अपना इस्तीफा भेजा था। 

अधिकारियों ने इसके एक सप्ताह बाद उनसे कहा था कि वह ड्यूटी शुरू करें और इस्तीफा स्वीकार होने तक काम करना जारी रखें।