BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा : AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर को किया गया सील, SIT करेगी हिंसा की जांच◾दिल्ली HC में अरविंद केजरीवाल, सिसोदिया के निर्वाचन को दी गई चुनौती◾दिल्ली हिंसा की निष्पक्ष जांच हो, दोषियों को मिले कड़ी से कड़ी सजा -पासवान◾CAA पर पीछे हटने का सवाल नहीं : रविशंकर प्रसाद◾बंगाल नगर निकाय चुनाव 2020 : राज्य निर्वाचन आयुक्त मिले पश्चिम बंगाल के गवर्नर से◾दिल्ली हिंसा : आप पार्षद ताहिर हुसैन के घर से मिले पेट्रोल बम और एसिड, हिंसा भड़काने की थी पूरी तैयारी ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾सीएए हिंसा : चांदबाग इलाके में नाले से मिले दो और शव, मरने वालो की संख्या बढ़कर 34 हुई◾दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन, गृह मंत्री को हटाने की हुई मांग◾न्यायधीश के तबादले पर बोले रणदीप सुरजेवाला : भाजपा की दबाव और बदले की राजनीति का हुआ पर्दाफाश ◾दिल्ली हिंसा : दंगाग्रस्त इलाकों में दुकानें बंद, शांति लेकिन दहशत का माहौल ◾जज मुरलीधर के ट्रांसफर पर बोले रविशंकर- कोलेजियम की सिफारिश पर हुआ तबादला ◾उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सीएए को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों का आकंड़ा 32 पहुंचा◾दिल्ली हिंसा : जज मुरलीधर के ट्रांसफर को कांग्रेस ने बताया दुखद और शर्मनाक◾

घुसपैठ तथा दक्षिण कश्मीर की स्थित बनी सुरक्षा बलों के लिए परेशानी का सबब

जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पार से घुसपैठ पर लगाम लगाने तथा स्थानीय युवाओं को आतंकवादी संगठनों में भर्ती होने से रोकने में नाकामयाबी कुछ ऐसे मुद्दे हैं जो सुरक्षा एजेंसियों की परेशानी का लगातार सबब बने हुए हैं। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि अगर 2018 के मामलों के देखा जाए तो यह स्पष्ट है कि घुसपैठ की घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है। इस अवधि में कम से कम 140 आतंकवादी कश्मीर घाटी में घुसे। इनमें से अधिकतर आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के माने गए हैं।

घुसपैठ के दौरान कम से कम 110 आतंवादी मारे गए लेकिन सीमा पार कर इस ओर आतंकवादियों का सफलतापूर्वक आना सुरक्षा एजेंसियों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है।

राजनाथ लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा घोषणापत्र कमेटी के प्रमुख होंगे 

सेना और सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों की हाल ही में हुई बैठक में यह बात सामने आई कि घुसपैठ निरोधक ग्रिड को और मजबूत करने की जरूरत है क्योंकि आतंकवादी सर्दी के मौसम में घुसपैठ की और घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश कर सकते हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया, ‘‘यह केवल जम्मू के पुंछ से ले कर कश्मीर के कुपवाड़ा तक फैली नियंत्रण रेखा की बात नहीं है बल्कि अंतरराष्ट्रीय सीमा की भी समस्या है जिसे आतंकवादी संगठन पार करते हैं।’’

प्रदेश की सुरक्षा स्थिति की जानकारी रखने वाले एक अन्य अधिकारी ने बताया कि कश्मीर घाटी में अब भी 130 विदेशी आतंकवादी सक्रिय हैं जिनका काम स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षण देना है।

घुसपैठ के अलावा स्थानीय युवाओं को आंतकवादी संगठन में शामिल होने से रोक पाने में नाकामयाबी सुरक्षा बलों को परेशान किए हुए है। दक्षिण कश्मीर के चार जिलों से 100 से ज्यादा लोग आतंकवाद की राह पकड़ चुके हैं।

यदि दक्षिण कश्मीर से मामलों को बारीकी से देखा जाए तो पिछले साल यहां 104 स्थानीय आतंकवादी ढेर किए जा चुके हैं। इससे पता चला है कि यह इलाका स्थानीय आतंकवादियों के प्रभुत्व वाला है।

गौरतलब है कि अनंतनाग,कुलगाम, पुलवामा और शोपियां-चार जिले से बना दक्षिण कश्मीर क्षेत्र हिजबुल मुजाहिदीन के पोस्टर ब्वॉय बुरहान वानी के जुलाई 2016 में मारे जाने के बाद से ही अशांत है।

अधिकारियों ने बताया कि ऐसा माना जाता है कि आतंकवादी गुटों के खुफिया नेटवर्क ने फिर से काम करना शुरू कर दिया है जिससे आतंकवादियों को सुरक्षा बलों की गतिविधियों के बारे में पता चल जाता है और उन्हें भागने में मदद मिलती है। भाषा शोभना उमा