BREAKING NEWS

AIIMS अस्पताल में लगी भीषण आग, मोके पर दमकल की कई गाड़ियां भेजी◾पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद◾प्रियंका गांधी बोलीं- देश में 'भयंकर मंदी' लेकिन सरकार के लोग खामोश◾ मायावती का ट्वीट- देश में आर्थिक मंदी का खतरा, इसे गंभीरता से लें केंद्र◾AAP के पूर्व विधायक कपिल मिश्रा भाजपा में शामिल◾चिदंबरम बोले- मीर को नजरबंद करना गैरकानूनी, नागरिकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करें अदालतें◾राजनाथ के आवास पर ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक शुरू, शाह समेत कई मंत्री मौजूद◾भूटान पहुंचे मोदी का PM लोटे ने एयरपोर्ट पर किया स्वागत, दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर◾शरद पवार बोले- पता नहीं राणे का कांग्रेस में शामिल होने का फैसला गलत था या बड़ी भूल◾उत्तर कोरिया ने किया नए हथियार का परीक्षण, किम ने जताया संतोष◾12 दिन बाद आज से घाटी में फोन और जम्मू समेत कई इलाकों में 2G इंटरनेट सेवा बहाल◾राम माधव बोले- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को मिलेगा देश के कानूनों के अनुसार लाभ◾वित्त मंत्रालय के अधिकारियों संग PMO की बैठक आज, इन मुद्दों पर होगी चर्चा◾कोविंद, शाह और योगी जेटली को देखने AIIMS पहुंचे, जेटली की हालत नाजुक : सूत्र ◾आर्टिकल 370 : UNSC में Pak को बड़ा झटका, कश्मीर मामले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में पाकिस्तान को सिर्फ चीन का मिला समर्थन◾जम्मू में हमारे ''नेताओं की गिरफ्तारी'' निंदनीय, आखिर यह पागलपन कब खत्म होगा : राहुल ◾परमाणु हथियार के पहले प्रयोग न करने की नीति पर बोले राजनाथ: परिस्थितियों पर निर्भर करेगा फैसला◾कश्मीर में किसी की जान नहीं गई, कुछ दिनों में हालात होंगे सामान्य◾कश्मीर मुद्दे पर UNSC में बोले अकबरुद्दीन- जेहाद के नाम पर हिंसा फैला रहा है PAK◾भूटान की यात्रा समय की कसौटी पर खरी उतरने वाली मित्रता को और मजबूत करेगी : PM मोदी◾

जम्मू-कश्मीर

तय हो गई तारीख, 31 अक्टूबर को J-K और लद्दाख बन जाएंगे UT

जम्मू-कश्मीर राज्य आगामी 31 अक्टूबर को दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित हो जायेगा।राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम, 2019 को अपनी स्वीकृति दे दी। अधिनियम में राज्य को दो केन्द, शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने का प्रावधान है। 

जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी जबकि लद्दाख में विधानसभा नहीं होगी। इसके तुरंत बाद गृह मंत्रालय ने एक अधिसूचना जारी कर विभाजन की तिथि 31 अक्टूबर तय कर दी।

 

अधिनियम के अनुसार, नवगठित केन्द्र शासित प्रदेश लद्दाख में करगिल और लेह जिलों को शामिल किया जायेगा जबकि मौजूदा राज्य के अन्य 12 जिले केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का हिस्सा बनेंगे। 

जम्मू-कश्मीर राज्य में इस समय लोकसभा की छह सीटें हैं। विभाजन के बाद केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में पाँच और केन्द्र शासित प्रदेश लद्दाख में एक लोकसभा सीट होगी। दोनों केंद, शासित प्रदेशों में अब राज्यपाल की जगह उप राज्यपाल होंगे। 

केन्द्र शासित जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल पाँच वर्ष का होगा। मौजूदा समय में वहाँ की विधानसभा का कार्यकाल छह साल का होता है। नवगठित केन्द्र शासित प्रदेश की विधानसभा में 107 सदस्यों का चुनाव मतदान के जरिये होगा। इनमें पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की 24 सीटें शामिल हैं। जम्मू-कश्मीर की मौजूदा विधानसभा में भी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लिए 24 सीटें रखी गयी थीं। 

अधिनियम में कहा गया है कि ‘‘जब तक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को वापस नहीं पा लिया जाता और वहाँ के लोग खुद अपना प्रतिनिधि नहीं चुनते जम्मू-कश्मीर केन्द्र शासित प्रदेश की विधानसभा में 24 सीटें खाली रहेंगी और विधानसभा की कुल सदस्य संख्या के उल्लेख के समय उनकी गिनती नहीं की जायेगी।’’ इस प्रकार नया केन्द्र शासित प्रदेश बनने के बाद 83 सीटों के लिए चुनाव होगा जिनमें छह अनुसूचित जाति के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित होंगी। 

उप राज्यपाल को यदि यह लगता है कि विधानसभा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व कम है तो उन्हें दो महिला सदस्यों को मनोनीत करने का अधिकार होगा। मौजूदा जम्मू-कश्मीर राज्य की विधान परिषद, को समाप्त कर दिया जायेगा। 

अधिसूचना में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय दोनों केंद, शासित प्रदेशों के संयुक्त उच्च न्यायालय के रूप में काम करेगा। 

उल्लेखनीय है कि संसद ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे से संबंधित अनुच्छेद 370 को हटाने वाले संकल्प और राज्य को दो हिस्सों में बांटने में वाले विधेयक को इसी सप्ताह पारित किया था। इसके बाद राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने इन पर हस्ताक्षर किये थे।

 इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त हो गया था। राष्ट्रपति ने जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को विशेष अधिकार देने वाले अनुच्छेद 35 ए को इससे पहले ही हटा दिया था।