BREAKING NEWS

4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾Today's Corona Update : एक दिन में 8 हजार से ज्यादा नए मामले, 1 लाख से कम हुए एक्टिव केस◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर◾Winter Session: लोकसभा में आज 'ओमिक्रॉन' पर हो सकती है चर्चा, सदन में कई बिल पेश होने की संभावना ◾महंगाई : महीने की शुरुआत में कॉमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, रेस्टोरेंट का खाना हो सकता है मंहगा◾UPTET 2021 पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार◾कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾

J&K : कब्र से निकाले गए हैदरपोरा एनकाउंटर में मारे गए 2 स्थानीय निवासियों के शव

हैदरपोरा मुठभेड़ में मारे गए नागरिक मोहम्मद अल्ताफ भट और मुद्दसिर गुल के शवों को बृहस्पतिवार को अधिकारियों ने जमीन से खोदकर बाहर निकाला ताकि उन्हें उनके परिवार को सौंपा जा सके। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

उन्होंने बताया कि सूर्यास्त के बाद उनके शवों को बाहर निकाला गया और रात में शवों को उनके परिवार को सौंपा जा सकता है।

पिछले वर्ष मार्च में कोविड-19 महामारी फैलने के बाद से पहली बार है जब पुलिस की निगरानी में दफनाए गए शव को उनके परिजन को लौटाया जा रहा है।

अधिकारियों ने बताया कि हंदवाड़ा से शवों को श्रीनगर लाया जा रहा है जिसके साथ पुलिस की टीम भी है। शुरू में शवों को हंदवाड़ा में ही दफनाया गया था।

आजाद ने हैदरपुरा मुठभेड़ की न्यायिक जांच की मांग की

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने हैदरपुरा मुठभेड़ की बृहस्पतिवार को न्यायिक जांच की मांग की। पुलिस ने हैदरपुरा मुठभेड़ में दो आतंकवादियों और दो आतंकी सहयोगियों को मार गिराने का दावा किया है।

मुठभेड़ में मारे गए चार लोगों में से तीन के परिवारों के विरोध के बाद प्रशासन ने मुठभेड़ की मजिस्ट्रेट जांच का आदेश दिया। मृतकों के परिवारों का दावा है कि वे निर्दोष थे।

आजाद ने कठुआ में संवाददाताओं से कहा, ''मैं हैदरपुरा मुठभेड़ की न्यायिक जांच की मांग करता हूं ताकि यह पता लगाया जा सके कि लोग कैसे और क्यों मारे गए। यह पुलिस का मामला है, न कि सेना का। उच्च न्यायालय के किसी न्यायाधीश के अधीन जांच होनी चाहिए।''

उन्होंने सवाल किया कि पुलिस की टीम खुद पुलिस पर लगे आरोपों की जांच कैसे कर सकती है।

मजिस्ट्रेट जांच शुरू, राजनीतिक दलों ने मृत लोगों के परिजनों का किया समर्थन 

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने हैदरपोरा में हुई मुठभेड़ की बृहस्पतिवार को जांच शुरू कर दी। मुठभेड़ में मारे गए चार में से तीन लोगों के परिजनों का दावा है कि वे बेगुनाह थे। वहीं राजनीतिक दल भी परिवारों के समर्थन में उतर आए हैं और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के नेतृत्व में शांतिपूर्ण धरना दिया गया।

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की ओर से मौतों की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश के कुछ घंटों बाद, श्रीनगर के उपायुक्त मोहम्मद एजाज असद ने अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट खुर्शीद अहमद शाह को जांच अधिकारी नियुक्त किया।

शाह ने एक सार्वजनिक नोटिस जारी किया, जिसमें उन लोगों से आग्रह किया गया जो सोमवार की मुठभेड़ के संबंध में अपना बयान दर्ज करना चाहते हैं। वे 10 दिनों के अंदर उनके कार्यालय से संपर्क सकते हैं। सोमवार को हुई इस मुठभेड़ में चार लोगों की मौत हो गई थी।

सोमवार को मुठभेड़ में मारे गए चार लोगों में से तीन के परिवार के सदस्यों द्वारा किए जा रहे प्रदर्शनों के बीच मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं। उनका दावा है कि मृतक बेगुनाह थे।

पुलिस के मुताबिक, हैदरपोरा की एक इमारत में एक पाकिस्तानी आतंकवादी और उसका स्थानीय साथी आमिर माग्रे तथा दो आम नागरिक मोहम्मद अल्ताफ भट व मुदस्सिर गुल सोमवार को हुई मुठभेड़ में मारे गए। आरोप है कि इस इमारत में अवैध कॉल सेंटर चलाया जा रहा था और यह आतंकवादियों के छुपने का ठिकाना था।

भट (इमारत मालिक), गुल (किरायेदार) और माग्रे (गुल का ऑफिस बॉय) के परिवारों के सदस्य उनके मारे जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका आरोप है कि यह ‘हत्या” है।

भट और गुल के परिजन बुधवार सुबह से ही प्रेस कॉलोनी में डेरा डाले हुए थे, ताकि शव वापस लेने के लिए दबाव बनाया जा सके। हालांकि शवों को उत्तरी कश्मीर के हंदवारा में सोमवार की रात को ही दफन कर दिया गया है।

दिन की शुरुआत वायरल वीडियो के साथ हुई, जिसमें दिख रहा है कि पुलिस दो मृतकों के परिवारों को रेजीडेंसी रोड पर विरोध स्थल से आधी रात के आसपास हटा रही है।

परिजनों को कश्मीर के पुलिस नियंत्रण कक्ष में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मुलाकात के लिए ले जाया गया जहां उन्होंने शवों को सौंपने की मांग दोहराई।

भट के परिवार ने प्रशासन द्वारा जांच के आदेश का स्वागत किया लेकिन सिन्हा से शव सौंपने की अपील की ताकि उनके बच्चे उन्हें आखिरी बार देख सकें।

उमर अब्दुल्ला ने मुख्य न्यायाधीश के घर के पास दिया अंहिसक धरना 

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने आम नागरिकों के शव लौटाने की मांग को लेकर पार्टी नेताओं के साथ जम्मू कश्मीर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के घर के पास अंहिसक धरना दिया। अब्दुल्ला ने यहां म्युनिसिपल पार्क में संवाददाताओं से कहा, “हम सरकार के विरोध में नहीं बोल रहे हैं, हम केवल शव वापस करने की मांग कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “हम यहां शांतिपूर्वक बैठे हैं। अगर हम चाहते तो सड़कें, पुल अवरुद्ध कर सकते थे लेकिन नहीं किया। कोई नारेबाजी नहीं हो रही , कानून व्यवस्था को कोई खतरा नहीं और सड़क मार्ग अवरुद्ध नहीं किया गया है।”

अब्दुल्ला ने कहा कि पुलिस ने यह स्वीकार किया है कि दोनों पक्षों की ओर से हुई गोलीबारी में आम नागरिक की मौत हुई और इसके बावजूद शव को परिजनों को देने की बजाय हंदवाड़ा में दफन कर दिया गया।

गुपकर घोषणापत्र गठबंधन ने इसके अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के घर पर मुठभेड़ के बाद उपजी स्थिति पर चर्चा की।

पीएजीडी के प्रवक्ता और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी नेता मोहम्मद यूसुफ तारिगामी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम आज शाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखेंगे और हैदरपोरा मामले में विश्वसनीय जांच कराए जाने का अनुरोध करेंगे। हमारी राय में, केवल न्यायिक जांच ही विश्वसनीय एवं न्यायसंगत हो सकती है।’’

तारिगामी ने बताया कि हैदरपोरा में ‘‘तीन निर्दोष आम नागरिकों के मारे जाने’’ के कारण पैदा हुई ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति’’ पर चर्चा के लिए पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी  की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को छोड़कर पीएजीडी के नेताओं ने नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला से उनके आवास पर मुलाकात की।

उन्होंने दावा किया कि महबूबा को अधिकारियों ने नजरबंद कर दिया है।

तारिगामी ने कहा कि मामले में जम्मू-कश्मीर सरकार ने मजिस्ट्रेट से जांच कराने का आदेश दिया है, यह जांच न्यायसंगत नहीं हो सकती, क्योंकि ‘‘आरोपी प्रशासन का अपने ऊपर लगे आरोपों की जांच करना’’ न्याय के सिद्धांतों के खिलाफ है।

उन्होंने कहा, ‘‘पीएजीडी देशवासियों और देश के नेतृत्व से भी अपील करता है कि वे जम्मू-कश्मीर में रहने वाले भारतीय नागरिकों के लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए भी खड़े हों। इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, कश्मीर का दर्द साझा करने की आवश्यकता है।’’

पीपुल्स कॉन्फ्रेंस और उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन ने भी आम नागरिकों के मारे जाने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

हुर्रियत कांफ्रेंस ने मृत आम नागरिकों के शवों को उनके परिवारों को सौपने की मांग को लेकर 19 नवंबर को हड़ताल का आह्वान किया है।