BREAKING NEWS

Pakistan: इमरान खान ने कहा- वजीराबाद में तीन शूटरों मुझे जाने से मारने की कोशिश की थी◾भाजपा का दावा, केजरीवाल के करीबी लोग सत्येंद्र जैन के वीडियो करा रहे हैं लीक◾बीजेपी सरकारें बिना तुष्टीकरण के सशक्तीकरण करती हैं: मुख्तार अब्बास नकवी◾ब्लेक गोवर्स की शानदार हैट्रिक से पस्त हुई टीम इंडिया, ऑस्ट्रेलिया ने 7-4 से दी पटखनी◾UP News: गाजीपुर में बड़ी सड़क दुर्घटना, अज्ञात वाहन ने कार को बुरी तरह कुचला, मौके पर 3 की मौत◾गुजरात ATS का एक्शन, पीएम मोदी को आपत्तिजनक ई-मेल भेजने वाले बदायूं के युवक को पकड़ा ◾कनाडा में भारतीय छात्र की मौत, रोड क्रॉस करते हुए ट्रक ने साइकिल को कुचला, पुलिस ने लिया तुरंत एक्शन◾अशोक गहलोत और सचिन पायलट के मसले को सुलझाने के लिए जयराम लेंगे कठोर निर्णय◾आजम खान का गंभीर आरोप, कहा- सपा कार्यकर्ताओं को धमकाने के लिए पुलिस, प्रशासन का उपयोग कर रही भाजपा◾Delhi News : भागीरथ पैलेस में लगी आग को बुझाने का अभियान चौथे दिन भी जारी◾दिल्ली: MCD चुनाव पर भाजपा की रणनीति, BJP अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा- संविदा शिक्षकों को करेंगे नियमित◾सियासी पिच पर जीतने का प्रयास, ओडिशा के पदमपुर उपचुनाव के लिए तेज हुआ प्रचार◾हिमाचल में फिर खिलेगा कमल? पूर्व सीएम धूमल ने ठोका दावा- कांग्रेस खोखले दावे जनता के सामने परोस रही ◾महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने स्वामी रामदेव को भेजा नोटिस, रामदेव ने महिलाओं को लेकर दिया था बयान ◾Maharashtra: फसल नष्ट होने के बाद बीमा की नगण्य राशि मिलने से निराश हैं किसान, क्या सरकार सुनेगी फरियाद?◾Gujarat: गुजरात चुनाव में सियासत गर्म! ओवैसी ने केजरीवाल पर जमकर साधा निशाना- कह डाली यह बात◾जेपी नड्डा ने किया दावा, कहा- AAP से तंग आकर एमसीडी चुनाव में BJP को वोट देने को बेताब लोग◾सीएम केजरीवाल ने कहा, BJP Video बनाने वाली कंपनी है, हर वार्ड में खोलेगी दुकान◾जनसंख्या नियंत्रण पर गरजे गिरिराज सिंह, कहा- चीन से मुकाबला करना है तो लाना ही पड़ेगा विधेयक◾Belarus: बेलारूस के विदेश मंत्री व्लादिमीर मेकी का निधन, 64 वर्ष में ली आखिरी सांस, देश में शोक की लहर ◾

J-K NEWS: फारूक अब्दुल्ला ने कहा- मतदाता सूची में गैर स्थानीय लोगों को शामिल करना.....राजनीतिक दलों को स्वीकार नहीं

जम्मू कश्मीर की नेशनल क्रांफ्रेस की पार्टी के अध्यक्ष अब्दुल्ला  ने औपचारिक तौर से कहा कि राज्य में मतदाता सूची मेंं ‘‘गैर-स्थानीय निवासी को सम्मिलत करना काफी चिंतापूर्ण हैं, यह प्रक्रिया राज्य के  राजनीतिक दलों को किसी भी प्रकार से मंजूर नहीं हैं। इस, निर्णय से जम्मू कश्मीर की पहचान में एक प्रश्न चिंह लग सकता हैं। 

अब्दुल्ला द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के खिलाफ

अब्दुल्ला ने इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। उन्होंने कहा कि इस फैसले को कानूनी चुनौती दिये जाने के साथ-साथ अन्य तरीकों से भी विरोध किया जाएगा।उच्च सुरक्षा वाले गुपकर इलाके में नेकां अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला के आवास पर हुई बैठक में उनकी पार्टी के नेताओं के अलावा पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती, कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष विकार रसूल, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता एम. वाई. तारिगामी और शिवसेना के नेताओं ने हिस्सा लिया।

जिस 'एक्‍ट' में फारुख अब्‍दुल्‍ला को 'नजरबंद' किया था वो उनके 'पिता' ही  लेकर आए थे

वहीं, सज्जाद लोन-नीत पीपुल्स कॉन्फ्रेंस और अल्ताफ बुखारी के नेतृत्व वाली ‘अपनी पार्टी’ के नेताओं ने इस बैठक में हिस्सा नहीं लिया।अब्दुल्ला द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के खिलाफ ‘‘जवाबी रणनीति’’ तय करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने भी सोमवार को एक बैठक बुलाई है।बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि सरकार का यह कदम ‘‘जम्मू-कश्मीर की पहचान को खत्म’’ कर देगा।उन्होंने कहा, ‘‘विधानसभा बाहरी लोगों के हाथों में होगी और यहां के लोग वंचित होंगे। हमने इस मुद्दे पर यहां चर्चा की और इस नतीजे पर पहुंचे कि हम इसे स्वीकार नहीं करेंगे।’’

नेकां और पीडीपी जैसे दलों ने दावा किया कि.....

अब्दुल्ला ने कहा कि बैठक में शामिल हुए सभी दल ‘बाहरी’ लोगों को मताधिकार देने के कदम के खिलाफ एकजुट हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम इसे स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं।’’अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर की मतदाता सूची में ‘‘गैर-स्थानीय लोगों’’ को शामिल करने के’’ मुद्दे पर चर्चा करने के लिए यह बैठक बुलाई थी। उन्होंने संशोधित मतदाता सूची में मतदाताओं को शामिल करने को लेकर केंद्र शासित प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी हृदेश कुमार की टिप्पणी के बाद यह बैठक बुलाई थी।सरकार ने हालांकि, शनिवार को एक स्पष्टीकरण जारी कर कहा था कि मतदाता सूची में संक्षिप्त संशोधन के बाद संभवतया 25 लाख से अधिक मतदाताओं को जोड़ने की खबरें ‘‘निहित स्वार्थों की गलतबयानी’’ हैं।

संशोधित मतदाता सूची के मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर प्रशासन के स्पष्टीकरण से असंतुष्ट दलों -नेकां और पीडीपी- ने कहा था कि वे मुद्दे पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाएंगे।नेकां और पीडीपी जैसे दलों ने दावा किया कि प्रशासन ने उनकी इस मुख्य चिंता का समाधान नहीं किया है कि क्या जम्मू-कश्मीर में सामान्यतया रहने वाले ‘‘बाहरी’’ लोगों को मतदाता सूची में अपना नाम शामिल कराने की अनुमति दी जाएगी या नहीं।वहीं, लोन ने पत्रकारों से कहा कि बैठक केवल चर्चा में बने रहने की कवायद लग रही है और वह इसका हिस्सा नहीं बनना चाहेंगे।

मुख्यधारा के राजनीतिक दलों ने आरोप लगाया

 मिली जानकारी के मुताबिक  लोन ने कहा, ‘‘ एक महिला (महबूबा मुफ्ती) ने कहा कि सर्वदलीय बैठक बुलाएं और दूसरे ने इसके लिए फोन किए। मुझे यह भी बताएं कि हम कितना दिखावा कर सकते हैं? हम चौबीसों घंटे एक-दूसरे की राजनीतिक रूप से आलोचना करते रहते हैं। मैंने कल ही उनकी आलोचना की और उससे एक दिन पहले उन्होंने मेरी आलोचना की थी। हम सब कुछ सही होने का दिखावा कब तक कर सकते हैं?’’उन्होंने कहा, ‘‘अपनी खोई जगह वापस पाने को बेताब महबूबा जी सर्वदलीय बैठक बुलाने के लिए फरमान जारी करती हैं.. महाराजा हरि सिंह का युग काफी पहले बीत चुका है।’’

लोन ने हालांकि कहा कि अगर गैर-स्थानीय लोगों को जम्मू-कश्मीर की मतदाता सूची में शामिल किया जाता है तो उनकी पार्टी देश के सभी संवैधानिक संस्थानों के बाहर अनशन और विरोध प्रदर्शन करेगी।मुख्यधारा के राजनीतिक दलों ने आरोप लगाया है कि ‘‘गैर-स्थानीय लोगों को शामिल करना जम्मू-कश्मीर के लोगों को मताधिकार से वंचित करने की एक स्पष्ट चाल है।’’