BREAKING NEWS

पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾शरद पवार बोले - जो प्यार पाकिस्तान से मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला◾इमरान खान ने माना, भारत से हुआ युद्ध तो हारेगा पाकिस्तान◾मंत्रियों के अटपटे बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा : यशवंत सिन्हा◾अर्थव्यवस्था में सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी - मुश्किल वक्त है बीत जाएगा◾शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी◾चिन्मयानंद मामला : पीड़िता ने एसआईटी को सौंपे 43 वीडियो, स्वामी को बताया 'ब्लैकमेलर'◾हरियाणा के लिए कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी ◾काशी, मथुरा में मस्जिद हटाने के लिए दी जाएगी अलग जमीन : स्वामी ◾सारदा मामला : कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त CBI के समक्ष नहीं हुए पेश◾कांग्रेस 2 अक्टूबर को करेगी पदयात्रा◾अमित शाह 18 सितंबर को जामताड़ा से रघुवर दास की जनआशीर्वाद यात्रा करेंगे शुरू◾PAK ने आतंकवाद को नहीं रोका तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता : राजनाथ ◾मॉब लिंचिंग : NCP ने मोदी सरकार पर साधा निशाना , कहा - ऐसी घटना पहले कभी सुनाई नहीं देती थी लेकिन अब अक्सर सुन सकते हैं◾

जम्मू-कश्मीर

जम्मू एवं कश्मीर बैंक के चेयरमैन बर्खास्त

श्रीनगर : राज्य सरकार ने शनिवार को परवेज अहमद को जम्मू एवं कश्मीर बैंक के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक पद से हटा दिया। 

शनिवार को जारी एक सरकारी आदेश में कहा गया, 'परवेज अहमद अब बैंक के निदेशक मंडल में नहीं रहेंगे। इसके परिणामस्वरूप अब वह बोर्ड के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक के पद पर भी नहीं रहेंगे।' 

आदेश में आगे कहा गया, 'आर.के. छिब्बर को बोर्ड में निदेशक के रूप में नामित किया गया है और आगे चलकर अंतरिम अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक के रूप में उनकी नियुक्ति की जा सकती है। बैंक के कंपनी सचिव को संबोधित आदेश तुरंत प्रभाव से लागू किया जाता है।'

 

राज्य सरकार के पास जम्मू एवं कश्मीर बैंक की 59 प्रतिशत हिस्सेदारी है। 

यह एकमात्र निजी क्षेत्र का बैंक है, जो बैंकिंग व्यवसाय के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के एजेंट के रूप में नामित है और सीबीडीटी के लिए केंद्रीय करों को इकट्ठा करने के अलावा केंद्र सरकार के बैंकिंग व्यवसाय को देखता है। 

बैंक को 1938 में शामिल करके इसे एनएसई और बीएसई में सूचीबद्ध किया गया था। 

राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में राज्य प्रशासनिक परिषद (एसएसी) के छह महीने बाद यह कार्रवाई हुई, जिसने बैंक को पीएसयू के रूप में मानने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी और इसे सूचना के अधिकार के दायरे में लाया गया।