BREAKING NEWS

अफ्रीका में सामने आये कोरोना वायरस के नये स्वरूप को लेकर दुनियाभर में आशंकाएं◾तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान हुए एकत्र◾अचानक से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के AIIMS में भर्ती◾संविधान के लिए समर्पित सरकार, विकास में भेद नहीं करती और ये हमने करके दिखाया: PM मोदी ◾संसद सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने बुलाई विपक्षी नेताओं की बैठक, सरकार को घेरने की होगी तैयारी ◾ प्रयागराज हत्याकांडः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात ◾केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का बड़ा इलान, देश में 15 दिसंबर से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से होगीं शुरू◾छह दिसंबर को भारत आयेंगे रूसी राष्ट्रपति पुतिन, पीएम मोदी के साथ करेंगे शिखर बैठक◾दिल्ली सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, CM तीर्थयात्रा योजना में करतारपुर साहिब को किया शामिल ◾मध्य प्रदेश: मुरैना के नजदीक उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में लगी भयानक आग, चार कोच धू-धू कर जले◾दक्षिण अफ्रीका से निकले कोरोना के नए वैरियंट से दहशत में आयी दुनिया, कड़ी पाबंदियां लगनी शुरू ◾अखिलेश ने योगी की चुटकी ली, कहा-बाबा को लैपटॉप चलाना नहीं आता इसलिए टैबलेट दे रहे हैं ◾26/11 आतंकी हमले की बरसी पर बोले राहुल - शहीदों के बलिदान को जानो, साहस को पहचानो◾महाराष्ट्र में मार्च तक बनेगी BJP की सरकार! केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के दावे से मचा बवाल ◾संविधान दिवस: कांग्रेस का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा- आयोजन में नहीं किया शामिल, दर्शक बनना स्वीकार नहीं ◾पूर्व ACP का दावा - परमबीर सिंह के पास था आतंकी कसाब का फोन, पेश करने के बजाय किया नष्ट◾संविधान दिवस पर विपक्ष ने किया सेंट्रल हॉल कार्यक्रम का बहिष्कार, जानिए राजनितिक दलों ने क्या बताई वजह ◾जबरन वसूली मामला : जांच के सिलसिले में ठाणे पुलिस के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह ◾PM मोदी ने परिवारवाद पर कसा तंज, कहा- लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी पार्टियां नहीं कर सकती लोकतंत्र की रक्षा ◾बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकारों पर साधा निशाना, कहा कोई नहीं कर रहा है संविधान का पालन ◾

जम्मू कश्मीर: आतंकवाद पर तेज प्रहार करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाबल की तैनाती, सड़कों पर बंकरों की वापसी

जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद का सफाया करने के लिए केंद्र सरकार ने बड़ा ऐलान किया है। दरअसल, कश्मीर घाटी में पिछले कुछ दिनों से आतंकवादियों की नापका हिमाकत बढ़ती ही जा रही है। कश्मीर में पिछले दो हफ्तों में आतंकवादियों द्वारा आम लोगों की हत्या किए जाने की घटनाओं के करीब आठ साल बाद शहर की सड़कों पर सुरक्षा बंकरों की वापसी हो रही है तथा अर्धसैनिक बलों के और अधिक जवान तैनात किए जा रहे हैं।

केंद्रीय सशस्त्र अर्धसैनिक बलों (सीएपीएफ) द्वारा श्रीनगर के कई इलाकों में सुरक्षा बंकर तैयार किए जा रहे हैं जहां कश्मीर में सुरक्षा स्थिति में समग्र सुधार के बाद 2011 और 2014 के बीच इन्हें हटा दिया गया था।

आतंकवादियों की आवाजाही पर लगेगी रोक

सूत्रों ने कहा कि नए बंकरों का निर्माण तथा अधिक सुरक्षाकर्मियों की तैनाती आतंकवादियों की मुक्त आवाजाही को कम करने के लिए की जा रही है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद की हालिया घटनाओं से पता चलता है कि आतंकवादी अपराध करने के बाद कुछ ही समय में एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में चले जाते हैं, जिसे केवल क्षेत्र में वर्चस्व स्थापित कर और उनकी मुक्त आवाजाही पर अंकुश लगाकर ही रोका जा सकता है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि आम लोगों की हत्याओं के मद्देनजर घाटी में, विशेष रूप से श्रीनगर में सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की 50 कंपनियां तैनात की जा रही हैं।

2010 में श्रीनगर में 50 से अधिक सुरक्षा चौकियां और बंकर हटा दिए गए थे

वर्ष 2010 में कश्मीर का दौरा करने वाले एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल द्वारा की गई सिफारिशों पर श्रीनगर में 50 से अधिक सुरक्षा चौकियां और बंकर हटा दिए गए थे। 2010 में केंद्र द्वारा नियुक्त वार्ताकारों की एक टीम ने भी इसी तरह की सिफारिशें की थीं। टीम का नेतृत्व वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पडगांवकर ने किया था और प्रोफेसर राधा कुमार तथा पूर्व सूचना आयुक्त एम एम अंसारी इसके सदस्य थे।

तब स्थिति में इस हद तक सुधार हुआ था कि तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम को जम्मू-कश्मीर से चरणबद्ध तरीके से सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (आफ्सपा) को निरस्त करने के पक्ष में माना जाता था। हालांकि, इस बार उन जगहों पर नए बंकर बनाए गए हैं जहां 1990 के दशक में घाटी में आतंकवाद के चरम पर होने के दौरान भी ऐसी कोई चीज मौजूद नहीं थी। श्रीनगर में हवाई अड्डा मार्ग पर बरजुल्ला पुल पर ऐसे दो बंकर बनाए गए हैं। बहरहाल,, पुलिस अधिकारियों ने घाटी में उठाए गए नए कदमों पर कोई टिप्पणी नहीं की।

दक्षिण कश्मीर के कुछ इलाकों में इंटरनेट भी बंद

पुलिस ने श्रीनगर के कुछ हिस्सों और दक्षिण कश्मीर के कुछ इलाकों में इंटरनेट भी बंद कर दिया है तथा शहर में दोपहिया वाहनों के कागजों की पड़ताल का सघन अभियान शुरू किया है। कश्मीर जोन के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा था कि ये कदम पूरी तरह आतंकी हिंसा से संबंधित हैं।

कोविड-19 के खिलाफ सामूहिक प्रयास जरूरी, भारत ने अभूतपूर्व कीर्तिमान स्थापित किया-ओम बिरला

तीन दिन पहले एक दर्जन टॉवरों का इंटरनेट बंद कर दिया गया था और यह अधिकांशत: उन इलाकों में किया गया है जहां पिछले सप्ताह आतंकवादियों ने गैर-स्थानीय लोगों की हत्या कर दी थी। आतंकवादियों ने इस महीने नौ आम लोगों की हत्या की है जिनमें पांच गैर-स्थानीय मजदूर और जम्मू कश्मीर के निवासी तीन हिन्दू और सिख शामिल हैं।