BREAKING NEWS

चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾हिंदू मंदिरों के अधिकार हिंदू श्रद्धालुओं को सौंपे जाएं, कुछ मंदिरों में हो रही है लूट - मोहन भागवत◾जनरल नरवणे भारत-श्रीलंका के बीच सैन्य अभ्यास के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए, दोनों दस्तों के सैनिकों की सराहना की◾अफगानिस्तान: कंधार में शिया मस्जिद को एक बार फिर बनाया गया निशाना, विस्फोट में कई लोगों की मौत ◾सिंघु बॉर्डर आंदोलन स्थल पर जघन्य हत्या की SKM ने की निंदा, कहा - निहंगों से हमारा कोई संबंध नहीं ◾अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना कठिन◾सिंघु बॉर्डर पर युवक की विभत्स हत्या पर बोली कांग्रेस - हिंसा का इस देश में स्थान नहीं हो सकता◾पूर्व PM मनमोहन की सेहत में हो रहा सुधार, कांग्रेस ने अफवाहों को खारिज करते हुए कहा- उनकी निजता का सम्मान किया जाए◾रक्षा क्षेत्र में कई प्रमुख सुधार किए गए, पहले से कहीं अधिक पारदर्शिता एवं विश्वास है : पीएम मोदी ◾PM मोदी ने वर्चुअल तरीके से हॉस्टल की आधारशिला रखी, बोले- आपके आशीर्वाद से जनता की सेवा करते हुए पूरे किए 20 साल◾देश ने वैक्सीन के 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान ने कायम किया रिकॉर्ड◾शिवपाल यादव ने फिर जाहिर किया सपा प्रेम, बोले- समाजवादी पार्टी अब भी मेरी प्राथमिकता ◾जेईई एडवांस रिजल्ट - मृदुल अग्रवाल ने रिकॉर्ड के साथ रचा इतिहास, लड़कियों में काव्या अव्वल ◾दिवंगत रामविलास पासवान की पत्नी रीना ने पशुपति पारस पर लगाए बड़े आरोप, चिराग को लेकर जाहिर की चिंता◾सिंघू बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास बैरिकेड से लटकी मिली लाश, हाथ काटकर बेरहमी से हुई हत्या ◾कुछ ऐसी जगहें जहां दशहरे पर रावण का दहन नहीं बल्कि दशानन लंकेश की होती है पूजा◾एनसीबी ने अदालत में आर्यन को 'नशेड़ी' करार दिया, जेल में कैदी न. 956 बनकर पड़ेगा रहना ◾

जम्मू कश्मीर: रामबन जिले में करीब 50 सरपंचों और पंचों ने सामूहिक इस्तीफा दिया

जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले के दो ब्लॉकों के करीब 50 सरपंचों और पंचों ने विभिन्न मुद्दों को लेकर सामूहिक इस्तीफा दे दिया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि निर्वाचित प्रतिनिधियों ने वादों के अनुसार सशक्तिरण नहीं करने, अनावश्यक हस्तक्षेप और केंद्र शासित प्रदेश में जनता तक पहुंचने के कार्यक्रमों में प्रशासन द्वारा उनकी अनदेखी किये जाने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दिया है।

पीडीपी ने भाजपा पर साधा निशाना

ग्रामीण निकाय में प्रतिनिधियों के इस्तीफे के बाद पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ काल्पनिक सामान्य हालात और आंडबर जो दिखाया जा रहा था उसकी पोल खुल गई है।’’अधिकारियों ने बताया कि जिला पंचायत अधिकारी अशोक सिंह ने विरोध कर रहे सदस्यों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है और उनसे इस्तीफा वापस लेने का अनुरोध किया है और आश्वासन दिया है कि उनकी शिकायतों का यथा शीघ्र निस्तारण किया जाएगा।

सिंह और इस्तीफा देने वाले प्रतिनिधियों की सोमवार को दूसरे चरण की बैठक प्रस्तावित है। अधिकारियों ने बताया कि बनिहाल और रामसू ब्लॉक के करीब 50 सरपंचों और पंचों ने शुक्रवार को आपात बैठक के बाद सामूहिक रूप से ब्लॉक विकास परिषद के अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

सरपंच गुलाम रसूल मट्टू, तनवीर अहमद कटोच और मोहम्मद रफीक खान ने आरोप लगाया कि सरकार द्वारा उनसे किए गए वादें अब भी कागजों तक सीमित हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी अनदेखी की जा रही है और विकास कार्यों में बेवजह हस्तक्षेप किया जा रहा है जबकि 30 सरकारी विभागों के कार्यों में ग्राम सभा की हिस्सेदारी का वादा ‘क्रूर मजाक’ साबित हो रहा है।

स्थानीय प्रशासन उनके प्रोटोकॉल का सम्मान नहीं कर रहा है 

जनसंपर्क अभियान के तहत हाल में केंद्रीय मंत्रियों के दौरों का संदर्भ देते हुए उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन उनके प्रोटोकॉल का सम्मान नहीं कर रहा है और केवल चुनिंदा प्रतिनिधियों को ही मंत्रियों से मुलाकात के लिए आमंत्रित किया जा रहा है ताकि सरकार को भ्रमित किया जा सके।

शाहरुख खान के ड्राइवर को NCB ने भेजा समन, आर्यन को लेकर करेगी पूछताछ

पंचों और सरपंचों के दो पन्नों का इस्तीफा ट्विटर पर साझा करते हुए पीडीपी के प्रवक्ता मोहित भान ने लिखा, ‘‘ 55 पंचों और सरपंचों ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया है। काल्पनिक समान्य हालत और आडंबर जिसका प्रदर्शन किया जा रहा था, उसकी पोल खुल गई है। सरकार न तो इन जनप्रतिनिधियों को सुरक्षित रख सकी और न ही उन्हें जनकल्याण के लिए सशक्त कर सकी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ सरकार का जमीनी स्तर तक लोकतंत्र ले जाने के दावे की पोल इन सामूहिक इस्तीफों से खुल गई है। पंचों और सरपंचों की केंद्रीय मंत्रियों के हालिया दौरों के दौरान अनदेखी की गई और प्रशासन उनके साथ सजावट की वस्तुत की तरह व्यवहार करना जारी रखे हुए है।’’