BREAKING NEWS

केजरीवाल सरकार ने सर गंगा राम अस्पताल के खिलाफ दर्ज कराई FIR, नियमों के उल्लंघन का लगाया आरोप◾पूर्वी लद्दाख गतिरोध - मोल्डो में खत्म हुई भारत और चीन सेना के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत◾UP : एक साथ 25 जिलों में पढ़ाने वाली फर्जी टीचर हुई गिरफ्तार , साल भर में लगाया 1 करोड़ का चूना◾केजरीवाल सरकार ने दिए निर्देश, कहा- बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों को 24 घंटे के अंदर अस्पताल से दें छुट्टी◾एकता कपूर की मुश्किलें बढ़ी, अश्लीलता फैलाने और राष्ट्रीय प्रतीकों के अपमान के आरोप में FIR दर्ज◾बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर अमित शाह कल करेंगे ऑनलाइन वर्चुअल रैली, सभी तैयारियां पूरी हुई ◾केजरीवाल ने दी निजी अस्पतालों को चेतावनी, कहा- राजनितिक पार्टियों के दम पर मरीजों के इलाज से न करें आनाकानी◾ED ऑफिस तक पहुंचा कोरोना, 5 अधिकारी कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद 48 घंटो के लिए मुख्यालय सील ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत-चीन सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी◾राहुल गांधी का केंद्र पर वार- लोगों को नकद सहयोग नहीं देकर अर्थव्यवस्था बर्बाद कर रही है सरकार◾वंदे भारत मिशन -3 के तहत अब तक 22000 टिकटों की हो चुकी है बुकिंग◾अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से होगी शुरू,15 दिनों तक जारी रहेगी यात्रा, भक्तों के लिए होगा आरती का लाइव टेलिकास्ट◾World Corona : वैश्विक महामारी से दुनियाभर में हाहाकार, संक्रमितों की संख्या 67 लाख के पार◾CM अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना,कहा- कोरोना संकट के बीच राज्यों को मदद देने में विफल रही है सरकार◾UP में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सबसे बड़ा उछाल, पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा दस हजार के करीब ◾कोरोना वायरस : देश में महामारी से संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 36 हजार के पार, अब तक 6642 लोगों की मौत ◾प्रियंका गांधी ने लॉकडाउन के दौरान यूपी में 44,000 से अधिक प्रवासियों को घर पहुंचने में मदद की ◾वैश्विक महामारी से निपटने में महत्त्वपूर्ण हो सकती है ‘आयुष्मान भारत’ योजना: डब्ल्यूएचओ ◾लद्दाख LAC विवाद : भारत और चीन वार्ता के जरिये मतभेदों को दूर करने पर हुए सहमत◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 1330 नए मामले आए सामने , मौत का आंकड़ा 708 पहुंचा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जम्मू-कश्मीर : रोजा खोलने के लिये रोटी लेने गए बीएसएफ जवान पर आतंकी हमला, दो जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर में बीएसएफ के दो जवान आतंकी हमले में शहीद होने से कुछ ही मिनट पहले इफ्तार करने के लिये रोटी लेने गए थे। इस दौरान एक व्यस्त बाजार में बेकरी से गुजर रहे मोटरसाइकिल सवार आंतकवादियों ने ताबड़तोड़ गोलीबारी की, जिसमें बीएसएफ कांस्टेबल जिया-उल-हक और राणा मंडल ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। हमला बुधवार की शाम श्रीनगर के बाहरी इलाके सूरा में हुआ था। पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े ‘द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों ने बेहद नजदीक से जवानों को गोलियां मारीं और भीड़भाड़ वाले इलाके की गलियों से निकलते हुए भाग गए।

उन्होंने कहा कि हक और मंडल पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद के निवासी थे, लेकिन अम्फान चक्रवात के चलते राज्य में हवाई अड्डे बंद होने की वजह से उनके पार्थिव शरीर उनके घर नहीं भेजे जा सके। हक (34) और मंडल (29) दोनों के सिर में गंभीर चोटें आई थीं। अधिकारियों ने बताया कि दोनों दोस्त सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की 37वीं बटालियन से थे और पंडाक कैंप में तैनात थे।

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने लश्कर के 3 आतंकियों को किया गिरफ्तार

उनका काम नजदीकी गंदेरबल जिले से श्रीनगर के बीच आवाजाही पर नजर रखना था। उन्होंने बताया कि मौत से कुछ ही मिनट पहले वे रोजा खोलने (इफ्तार) के लिये रोटी लेने गए थे। लेकिन वे इफ्तार नहीं कर सके और रोजे की हालत में ही शहीद हो गए। बीएसएफ की 37वीं बटालियन के जवानों ने कहा कि वे रोजा होने की वजह से पूरे दिन पानी की एक बूंद पिये बिना ही इस दुनिया से रुख्सत हो गए।

जवानों ने अपने साथियों की मौत पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह बहुत जल्दी हमेशा के लिये अलविदा कह गए। साल 2009 में बीएसएफ में शामिल हुए हक के परिवार में माता-पिता, पत्नी नफीसा खातून और दो बेटियां... पांच साल की मूकबधिर बेटी जेशलिन जियाउल और और छह महीने की जेनिफर जियाउल हैं। वह मुर्शिदाबाद कस्बे से लगभग 30 किलोमीटर दूर रेजिना नगर में रहते थे।

मंडल के परिवार में माता-पिता के अलावा एक बेटी और पत्नी जैस्मीन खातून है। वह मुर्शिदाबाद में साहेबरामपुर में रहते थे। दोनों जवान केन्द्र सरकार द्वारा 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लेकर उसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने के बाद से कश्मीर में तैनात थे। वे 24 या 25 मई को आने वाला ईद का त्योहार भी नहीं मना सके।