BREAKING NEWS

Udaipur Murder Case: उदयपुर हत्याकांड के बाद अलर्ट पर यूपी पुलिस ◾Maharashtra News: हमारे पास 50 विधायकों का समर्थन......., एकनाथ शिंदे का बड़ा दावा◾ कन्हैयालाल की हत्या पर बोले औवेसी- घटना आतंकी कृत्य ◾उदयपुर में हत्या के मामले पर अनुराग ठाकुर बोले- गहलोत हमेशा अपनी जिम्मेदारी से बचते रहते है ◾Vice President Election: उपराष्ट्रपति चुनाव की रूपरेखा तैयार, 6 अगस्त को होगा मतदान, इस दिन भरा जाएगा नामांकन ◾ युवाओं को अग्निवीर बनने का चढ़ रहा जुनून, छह दिन में वायुसेना को प्राप्त हुए दो लाख से ज्यादा आवेदन ◾Kanhaiya Lal Murder: कन्हैया लाल का हुआ अंतिम संस्कार, उदयपुर हत्याकांड की जांच एनआईए को सौंपी गई ◾GST के दायरे में आएंगे खाद्य पदार्थ, राहुल बोले-PM का ‘गब्बर सिंह टैक्स’ बना ‘गृहस्थी सर्वनाश टैक्स’ ◾बिहार में ओवैसी को बड़ा झटका, AIMIM के चार विधायक RJD में शामिल ◾नवाब मलिक और अनिल देशमुख ने किया SC का रुख, शक्ति परीक्षण में भाग लेने की मांगी अनुमति◾मुकेश अंबानी को सुरक्षा देने के मामले में SC ने त्रिपुरा HC के फैसले पर लगाई रोक, जानिए क्या है मामला ◾कराह उठा हर कोई, राक्षस से ऊपर बढ़कर किया गया कन्हैयालाल का कत्ल, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा ◾उदयपुर हत्याकांड को लेकर उमा भारती ने गहलोत सरकार को घेरा, प्रज्ञा बोली- कांग्रेस अभी भी जिंदा है देश शर्मिंदा है◾कन्हैयालाल मर्डर केस : राज्यवर्धन राठौर बोले-राजस्थान में कांग्रेस की नंपुसक सरकार◾ जीटीए चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने खोला खाता, एक सीट जीती , मतगणना जारी ◾'दोषियों को तुरंत ठोंक देना चाहिए', कन्हैयालाल की हत्या पर बोले प्रताप सिंह खाचरियावास◾असम में बाढ़ राहत कार्य के लिए शिवसेना के बागी विधायकों ने दिए 51 लाख रुपए, कल पेश करेंगे विश्वास मत ◾उदयपुर : NIA अपने हाथ में लेगी कन्हैया लाल हत्याकांड की जांच, गृह मंत्रालय का निर्देश◾उदयपुर हत्याकांड पर बोले CM गहलोत- यह कोई मामूली घटना नहीं, जांच के लिए गठित की SIT ◾नवीन कुमार जिंदल को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में भेजा उदयपुर हत्याकांड का वीडियो◾

जम्मू-कश्मीर:आतंकवादियों से भी ज्यादा खतरनाक है सफेदपोश जिहादी, जानें कैसे युवाओं को करते है प्रभावित

जम्मू-कश्मीर पुलिस साइबर आतंकवादियों पर नकेल कस रही है, जिन्हें ‘‘सफेदपोश जिहादियों’’ के रूप में भी जाना जाता है और क्योंकि पुलिस की नजरों में वे ‘‘सबसे बुरे किस्म के आतंकवादी’’ हैं जो गुमनाम रहते हैं, लेकिन वे युवाओं की सोच को प्रभावित कर बड़े नुकसान का कारण बनते है।
जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह, वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों और सुरक्षा प्रतिष्ठान के अधिकारियों द्वारा प्रदत्त आकलन के अनुसार, इस बात का डर है कि ये ‘‘सफेदपोश जिहादी’’ सांप्रदायिक दंगे भड़का सकते हैं या सोशल मीडिया पर झूठी और गलत खबरों के जरिये कुछ युवाओं को प्रभावित कर सकते हैं।
युद्ध का मैदान नया है जहां पारंपरिक हथियारों और संकरी गलियों और जंगलों के युद्ध क्षेत्रों का स्थान कंप्यूटर और स्मार्टफोन ने ले लिया है ताकि वे अपनी सुविधानुसार अपने घरों या सड़कों से कश्मीर या इससे बाहर कहीं से भी युद्ध छेड़ सकें।

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने उन्हें ‘‘सफेदपोश जिहादी’’ करार दिया, जो सोशल मीडिया पर झूठ बोलकर और अलगाववादियों या आतंकवादी समूहों के अनुकूल स्थिति को तोड़-मरोड़ कर युवाओं और आम जनता को गुमराह करते हैं। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हाल में पांच संदिग्ध ‘‘सफेदपोश जिहादियों’’ को गिरफ्तार किया है, जो देश की संप्रभुत्ता के बारे में झूठ फैलाने के अभियान में शामिल थे।
पुलिस के अनुसार, उन्हें लोगों में डर पैदा करने के लिए सरकारी अधिकारियों, पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, वकीलों और राजनीतिक कार्यकर्ताओं की रणनीतिक सूची तैयार करने का काम सौंपा गया था। डीजीपी सिंह ने कहा, ‘‘एक साइबर आतंकवादी वास्तव में एक वास्तविक आतंकवादी की तुलना में घातक होता है क्योंकि एक तो, वह छिपा हुआ है और दूसरा, वह बिल्कुल अज्ञात है और आप तब तक अज्ञात है जब तक कुछ बहुत ही विशिष्ट विवरणों में शामिल नहीं हो जाते।’’
उन्होंने कहा, ‘‘उन प्रकार के विवरणों और डिजिटल दुनिया में वास्तव में उस विशेष पहचान का उपयोग कौन कर रहा है, का पता लगाना बहुत मुश्किल है। लोगों ने साइबर दुनिया में गुमनामी का फायदा उठाया है और इसीलिए वे इस तरह की गतिविधियों में लिप्त हैं।’’ सिंह साइबर आतंकवादियों पर रोक लगाने पर विशेष जोर दे रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि वे ‘‘सबसे बुरे प्रकार के आतंकवादी हैं और वे अज्ञात हैं, लेकिन वे युवाओं की सोच को प्रभावित करके बड़ा नुकसान पहुंचाते है।’’
उन्होंने कहा कि ये वे लोग हैं जो भर्ती के लिए जिम्मेदार हैं, वे वही हैं जो सोशल मीडिया पर कुछ प्रकार की टिप्पणियां और बयान देते हैं जिससे वे विभिन्न समुदायों के बीच, हिंदुओं और मुसलमानों और अन्य लोगों के बीच एक सांप्रदायिक दरार पैदा करते हैं। सिंह ने हाल में से कहा, ‘‘इसलिए, उन्हें काबू में करना बहुत महत्वपूर्ण है, इसलिए हम उस मोर्चे पर काम कर रहे हैं और कुछ क्षेत्रों में कुछ सफलता हासिल की है। ऐसे लोगों पर अधिक ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। हम इस संबंध में जो भी आवश्यक है वह करना जारी रखेंगे।’’
पुलिस प्रमुख ने इस साल की शुरुआत में नौगाम में एक मुठभेड़ का हवाला दिया और कहा कि अचानक एक ट्वीट आया जिसमें दावा किया गया कि एक अल्पसंख्यक समुदाय के व्यक्ति ने सुरक्षा एजेंसी को वहां आतंकवादी होने की जानकारी दी थी। सिंह ने कहा, ‘‘यह बिल्कुल झूठ और निरर्थक बात थी।’’ सिंह ने कहा कि सोशल मीडिया का उपयोग केवल सांप्रदायिक विभाजन पैदा करने के उद्देश्य से किया गया था।
जम्मू और कश्मीर पुलिस ने इंटरनेट पर पुलिस के लिए स्वयंसेवियों के रूप में निजी नागरिकों का पंजीकरण शुरू कर दिया है जो इंटरनेट पर नजर रखेंगे और संदिग्ध साइबर अपराधों की रिपोर्ट देंगे। इस साल फरवरी में शुरू की गई इस पहल में स्वयंसेवियों की तीन श्रेणियां हैं - 'गैरकानूनी सामग्री फ्लैगर्स', ‘साइबर जागरूकता प्रमोटर’ और ‘साइबर विशेषज्ञ’।
पुलिस के अनुसार, गैरकानूनी सामग्री फ्लैगर्स ‘‘बलात्कार/सामूहिक बलात्कार, आतंकवाद, कट्टरता, राष्ट्र विरोधी गतिविधियों जैसी ऑनलाइन अवैध / गैरकानूनी सामग्री की पहचान करने में भूमिका निभाएंगे।’’ साइबर जागरूकता प्रमोटर महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों, ग्रामीण आबादी जैसे कमजोर समूहों सहित नागरिकों के बीच साइबर अपराध के बारे में जागरूकता पैदा करेंगे, जबकि साइबर विशेषज्ञ साइबर अपराधों से निपटेंगे।