BREAKING NEWS

तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच को भेजा जवाब, कहा- अभी सेल्फ क्वारनटीन में हूं, बाकी सवाल बाद में◾स्वास्थ्य मंत्रालय का बयान : देश के कुल कोरोना संक्रमित मामलों में 30 फीसदी तबलीगी जमात के लोग◾राहुल गांधी ने PM मोदी पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾कोविड-19 पर सरकार ने जारी किया परामर्श, चेहरे और मुंह के बचाव के लिए घर में बने सुरक्षा कवर का करे प्रयोग◾जानिये क्यों, पीएम की 9 मिनट लाइट बंद करने की अपील के बाद अलर्ट मोड पर है बिजली विभाग की कंपनियां◾तबलीगी जमातियों पर भड़के राज ठाकरे,कहा- ऐसे लोगों को गोली मार देनी चाहिए ◾PM मोदी ने अटल बिहारी बाजपेयी की कविता को शेयर करते हुए कहा- आओ दीया जलाएं◾देश में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, गौतम बुद्ध नगर में वायरस के 5 नए मामले आए सामने ◾PM मोदी की दीया अपील पर महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री ने दी प्रतिक्रिया, कहा- दोबारा सोचने की है जरुरत ◾बिजनौर के आइसोलेशन वार्ड में रखे गए जमातियों ने किया हंगामा, अंडे और बिरयानी की फरमाइश की◾दिल्ली : कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए गंगाराम अस्पताल के 108 स्वास्थ्यकर्मियों को किया गया क्वारनटीन◾प्रियंका ने किया योगी सरकार पर वार, कहा- स्वास्थ्यकर्मियों को सबसे ज्यादा सहयोग की है जरूरत◾देश में 2900 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित, अब तक 68 की मौत◾कोविड-19 : अमेरिका में पिछले 24 घंटे में 1,480 लोगों की मौत, इराक में 820 पॉजिटिव मामलों की पुष्टि◾राजस्थान : कोरोना संक्रमित 60 वर्षीय महिला की मौत, संक्रमण के 191 मामलों की पुष्टि◾जम्मू-कश्मीर में सेना के जवानों ने मुठभेड़ में 2 आतंकवादियों को मार गिराया, ऑपरेशन जारी◾कर्नाटक में कोरोना वायरस से 75 वर्षीय बुजुर्ग की मौत, राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 4 हुई ◾कोरोना वायरस दिल्ली में नहीं फैला, घबराने की जरूरत नहीं: केजरीवाल ◾कोविड-19 : राज्यों में संक्रमण के 500 से ज्यादा मामले आये सामने , इसके साथ ही संक्रमित लोगों की संख्या 3,000 पार ◾दुनिया भर के 180 से ज्यादा देशों में कोरोना का कहर जारी, अब तक 53448 लोगों की मौत, करीब 1015191 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित◾

J&K : मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर, 4 के छुपे होने की आशंका, सर्च अभियान जारी

जम्मू कश्मीर के उरी के जोरावर इलाके में सुरक्षा बलों ने मंगलवार तड़के मुठभेड़ में एक आतंकी को मार गिराया। मारे गए आतंकी के पास से अत्याधुनिक हथियार बरामद हुए हैं। सेना की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक करीब चार आतंकी और भी इस इलाके में छुपे हुए हैं। उन्होंने बताया कि आतंकी सीमापार से घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे, जिसके बाद सुरक्षा बलों की उनपर नजर पड़ गई।सुरक्षा बलों ने जब उन्हें रोकने की कोशिश की तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया है। बाकी के तीन की तलाश जारी है।

सितंबर को जम्मू कश्मीर के बारामुला के पास उरी सेक्टर के एक गांव में सुरक्षा बलों ने चार आतंकियों को मार गिराया था। सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया गया है और तलाशी अभियान चलाकर आतंकियों को मार गिराया। यह सेना और पुलिस का ज्वाइंट ऑपरेशन रहा। ये आतंकी शनिवार रात के अंधरे में सीमा पार से घुसपैठ की है। सुरक्षा बलों के नजर में आने के बाद आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई के बाद आतंकी गांव में घुस गए और वहीं से फायरिंग कर रहे हैं। आतंकी जिस गांव में छुपे हुए हैं वह नियंत्रण रेखा के करीब है।

दहशतगर्द आएंगे तो दफन हो जाएंगे: सेना प्रमुख

मालूम हो कि एक दिन पहले ही भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पाकिस्तान को सख्त संदेश देते हुए कहा था कि जरूरत पड़ने पर नियंत्रण रेखा के पार स्थित आतंकवादी शिविरों पर लक्षित हमले दोहराये जा सकते हैं। सेना प्रमुख रावत ने कहा कि सीमापार से घुसपैठ जारी रहेगी क्योंकि नियंत्रण रेखा के पार स्थित वे शिविर अभी भी सक्रिय हैं जहां से आतंकवादी भेजे जाते हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि थल सेना उन्हें (आतंकवादियों) उनके कब्रों में भेजने के लिए तैयार हैं।

Will conduct #surgicalstrikes again if '#Pakistan' doesn't mend its ways: Army Chief Read @ANI | https://t.co/EowU0DcviH pic.twitter.com/eTRfOcu7tt

— ANI Digital (@ani_digital) September 25, 2017

रावत ने कहा, 'लक्षित हमला एक संदेश था जो हम उन्हें देना चाहते थे और वे वह समझ गए हैं जो हमारा तात्पर्य था कि चीजें जरूरत पड़ने पर दोहरायी जा सकती हैं।' उन्होंने यह बात पुस्तक ‘इंडियाज मोस्ट फीयरलेस’ के विमोचन के मौके पर कही। यह पुस्तक रक्षा मामले कवर करने वाले दो पत्रकारों शिव अरूर और राहुल सिंह ने लिखी है।

लक्षित हमले के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर रावत ने कहा, 'इसने एक संदेश दिया कि: हम एक ताकतवर देश हैं और समय आने पर निर्णय करने में सक्षम हैं।' पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) दलबीर सिंह ने भी इसी तरह का विचार व्यक्त करते हुए कहा कि इससे विदेश में भारत की छवि बेहतर हुई है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में किये गए लक्षित हमले के सबसे मुश्किल हिस्से के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा कि चिंता वाला हिस्सा, सैनिकों को सुरक्षित तरीके से निकालना था।