BREAKING NEWS

'असंवैधानिक' नागरिकता विधेयक पर लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में होगी : चिदंबरम◾हरियाणा : होमवर्क पूरा न करने पर दलित लड़की का मुंह काला कर स्कूल में घुमाया गया ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश◾अनुच्छेद 370 को खत्म किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज से करेगा सुनवाई ◾PM मोदी ने की शाह की तारीफ, बोले- नागरिकता विधेयक समावेश करने की भारत की सदियों पुरानी प्रकृति के अनुरूप◾नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में आज छात्र संगठनों की तरफ से पूर्वात्तर भारत में बंद ◾लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पारित, पक्ष में पड़े 311 वोट, विपक्ष में 80◾जब तक मोदी प्रधानमंत्री हैं, किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं : शाह ◾महिलाओं के खिलाफ अत्याचार, चिंताजनक और शर्मनाक : नायडू ◾ओवैसी ने लोकसभा में नागरिकता विधेयक की प्रति फाड़ी भाजपा सदस्यों ने संसद का अपमान बताया ◾पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों के दलों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया ◾अनुच्छेद 370 को रद्द किये जाने के खिलाफ याचिकाओं पर संविधान पीठ कल से करेगी सुनवाई ◾दुष्कर्म की राजधानी बना भारत, फिर भी चुप हैं मोदी : राहुल गांधी◾कांग्रेस कभी गठबंधन के भरोसे पर खरा नहीं उतरती : नरेन्द्र मोदी ◾TOP 20 NEWS 09 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भीकाजी कामा प्लेस मेट्रो स्टेशन के नजदीक जेएनयू के छात्रों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज ◾नागरिकता संशोधन विधेयक भाजपा के घोषणापत्र का हिस्सा रहा, जनता ने इसे मंजूर किया : अमित शाह◾कर्नाटक उपचुनाव : BJP को 12 सीटों पर जीत मिली, विधानसभा में मिला स्पष्ट बहुमत ◾कर्नाटक : सिद्धारमैया ने कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से दिया इस्तीफा◾JNU छात्रों ने राष्ट्रपति भवन तक शुरू किया मार्च, पुलिस ने की शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील◾

जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर प्रशासन राज्य में पाबंदियों पर हर सवाल का जवाब दे : SC

 sc2

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को जम्मू-कश्मीर प्रशासन से कहा कि उसे पूर्ववर्ती राज्य से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद वहां लगाए गए प्रतिबंधों के बारे में हर सवाल का जवाब देना होगा। न्यायमूर्ति एन वी रमन के नेतृत्व वाली पीठ ने प्रशासन की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि प्रतिबंधों को चुनौती देने वाली याचिकाओं में व्यापक पैमाने पर तर्क दिए गए हैं और उन्हें सभी सवालों का जवाब देना होगा। 

पीठ में न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति बी आर गवई भी शामिल हैं। इसने कहा, ‘‘मिस्टर मेहता, आपको याचिकाकर्ताओं के हर सवाल का जवाब देना होगा जिन्होंने विस्तार में तर्क दिए हैं। आपके जवाबी हलफनामे से हमें किसी नतीजे पर पहुंचने में कोई मदद नहीं मिली है। यह संदेश न दें कि आप इस मामले पर पर्याप्त ध्यान नहीं दे रहे हैं।’’ 

जम्मू-कश्मीर : श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर आईईडी मिला, यातायात रुका

मेहता ने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने प्रतिबंधों पर जो भी बात कही है, वह ज्यादातर ‘‘गलत’’ है और कोर्ट में बहस के दौरान वह हर बात का हर पहलू से जवाब देंगे। सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि उनके पास मामले की स्थिति रिपोर्ट है लेकिन उन्होंने अभी वह कोर्ट में दाखिल नहीं की है क्योंकि जम्मू-कश्मीर में हर रोज हालात बदल रहे हैं तथा रिपोर्ट दाखिल करने के समय वह एकदम वास्तविक हालात का ब्योरा देना चाहते हैं। 

मामले की सुनवाई शुरू होते ही पीठ ने कहा, ‘‘हम जम्मू-कश्मीर के मामले में किसी हिरासती मामले की सुनवाई नहीं कर रहे हैं। हम इस समय दो याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे हैं जो अनुराधा भसीन और गुलाम नबी आजाद ने दायर की हैं । ये आवाजाही की स्वतंत्रता और प्रेस आदि से जुड़ी हैं।’’ 

इसके साथ ही पीठ ने कहा कि केवल एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लंबित है जो कि एक कारोबारी की हिरासत के खिलाफ है क्योंकि याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट के साथ ही जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट में भी यह याचिका दाखिल की थी। पीठ ने कहा,‘‘ अब उन्होंने हाई कोर्ट से याचिका वापस ले ली है और यहां दाखिल याचिका लंबित है।’’