BREAKING NEWS

महाराष्ट्र एटीएस ने ठाणे से कानपुर हत्याकांड में शामिल विकास दुबे के दो साथियों की किया गिरफ्तार◾हांगकांग से जान बचाकर भागी वैज्ञानिक ने खोली चीन की पोल, कहा - कोरोना की जानकारी छुपाई गयी ◾सीएम गहलोत का दावा - भाजपा के लोग षड्यंत्र रच रहे हैं लेकिन उनकी सरकार स्थिर है और पांच साल चलेगी ◾सिर्फ कानपुर ही नहीं विदेशों में भी है विकास दुबे की करोड़ों की प्रॉपर्टी, ईडी ने भी शुरू की जांच ◾दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला : कोरोना के मद्देनजर स्टेट यूनिवर्सिटीज की सभी परीक्षाओं को किया रद्द◾सोनिया के साथ कांग्रेस के लोकसभा सदस्यों की बैठक में राहुल से फिर से पार्टी अध्यक्ष बनने की मांग◾शरद पवार का भाजपा पर निशाना, कहा मतदाताओं को हल्के में न लें ,इंदिरा और अटल भी हारे थे ◾लॉकडाउन में ढील के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था सामान्य स्थिति में वापस आ रही है : RBI गवर्नर ◾पीएम द्वारा रीवा सौर ऊर्जा परियोजना को एशिया में सबसे बड़ी बताने पर राहुल गांधी ने साधा निशाना ◾पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के आगामी कार्यक्रम के लिए जनता से सुझाव आमंत्रित किये◾देश में कोरोना के 27 हजार से अधिक नए मामलों का रिकॉर्ड, संक्रमितों का आंकड़ा सवा आठ लाख के करीब ◾World Corona cases: दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 1.24 करोड़ के पार, अब तक हुई 559,481 मौतें◾J&K : नौशेरा सेक्टर में LOC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकवादी ढेर◾UP में आज से फिर लॉकडाउन, गौतमबुद्धनगर DM ने 10 जुलाई से 13 जुलाई तक के लिए जारी की एडवाइजरी◾कांग्रेस सांसदों के साथ आज वर्चुअल बैठक करेंगी सोनिया, इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾कांग्रेस का आरोप- खरीद फरोख्त से गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रही है BJP◾राहुल गांधी की सरकार से मांग, कहा- चीन की घुसपैठ की शिनाख्त के लिए स्वतंत्र तथ्यान्वेषी मिशन की अनुमति दी जाए◾भाजपा ने केजरीवाल सरकार पर साधा निशाना, कहा- केंद्र के हस्तक्षेप के कारण दिल्ली में कोरोना स्थिति सुधरीं◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 7,862 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.38 लाख के पार◾दिल्ली में कोरोना के 2089 नए मामले की पुष्टि, 42 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पठानकोट मे होगी कठुआ गैंगरेप मामले की सुनवाई , SC ने बंद कमरे में कार्यवाही का दिया निर्देश

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले की सुनवाई को जम्मू से पठानकोट ट्रांसफर कर दिया है। हालांकि जम्मू-कश्मीर सरकार ने राज्य से बाहर केस ट्रांसफर किए जाने का विरोध किया। जम्मू-कश्मीर सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि वह राज्य में निष्पक्ष सुनवाई के लिए तैयार है और वह मामले को दूसरे राज्य में भेजे जाने का विरोध करती है।

आपको बता दें कि, मृतका के परिजनों ने इस मामले को चंडीगढ़ कोर्ट में ट्रांसफर करने की मांग की थी। परिजनों ने जान का खतरा होने की भी आशंका व्‍यक्‍त की थी। जिसके बाद इस मामले को कठुआ से ट्रांसफर करने की सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करके हुए सोमवार को आदेश दिया कि केस को सुनवाई के लिए पठानकोट ट्रांसफर किया जा रहा है। इस मामले की रोजाना सुनवाई की जाएगी। सारी कार्यवाही को कैमरे में रिकॉर्ड किया जाएगा। आपको बता दे कि मामले की सुनवाई की अगली तारीख 9 जुलाई तय की गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर सरकार को पठानकोर्ट के कोर्ट में सरकारी वकील नियुक्त करने की अनुमति दी है। कोर्ट ने इसी के साथ जम्मू-कश्मीर सरकार से पीड़ित परिवार, उनके वकील और गवाहों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए कहा है। कठुआ मामले की बीते दिनों केद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराए जाने की मांग उठाई जा रही थी। कोर्ट ने इस संबंध में राज्य स्तरीय जांच पर भरोसा जताया है और सीबीआई जांच की मांग को खारिज कर दिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने 26 अप्रैल को मामले की सुनवाई की थी। बेंच ने कहा था कि अगर उन्हें कहीं भी ऐसा लगा कि मामले की निष्पक्ष सुनवाई नहीं हो रही है तो वो केस को ट्रांसफर करने में देर नहीं करेंगे।

जानिए ! पूरा मामला जनवरी में कठुआ में आठ साल की बच्ची से गैंगरेप कर उसकी हत्या कर दी गई थी। बलात्कार और हत्या मामले को लेकर अप्रैल में चार्जशीट दाखिल किया गया। इस चार्जशीट में सांझी राम, दीपक खजूरिया, सुरेंद्र वर्मा, प्रवेश कुमार (मन्नू), सांझी राम के भतीजे, विशाल जंगोत्रा और एक नाबालिग को अभियुक्त बनाया गया है। अभियुक्तों में एक मंदिर का पुजारी और चार पुलिसवाले भी शामिल हैं।

चार्जशीट के मुताबिक बच्ची के साथ रेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई। मारने के बाद भी आरोपियों ने यह सुनिश्चित करने के लिए कि मासूम मर जाए, उसके सिर पर पत्थर से कई वार किए और बाद में जांच के दौरान सांजीराम ने पुलिसकर्मियों को मामला दबाने के लिए 1.5 लाख रुपये की रिश्वत भी दी।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।