BREAKING NEWS

राम जन्मभूमि घोटाले पर बोले चंपत राय- सारे आरोप भ्रामक, पारदर्शिता के साथ खरीदी गई जमीन ◾देश में पिछले 24 घंटे में 60471 नए कोरोना केस की पुष्टि, 2726 मरीजों ने तोड़ा दम ◾दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 17.6 करोड़ से अधिक, अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना ◾TOP - 5 NEWS 15TH JUNE : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾UP में 2022 में होनें वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एक्शन में BJP सरकार, सभी मंत्री उतरेंगे मैदान में◾कोरोना वायरस के नए प्रकार ‘डेल्टा प्लस’ का पता चला, वैज्ञानिकों ने कहा-चिंता की कोई बात नहीं◾गलवान झड़प के 1 साल बाद LAC के पास डटे हुए है चीनी सैनिक, भारत ने मुकाबला करने के लिए की खास तैयारी ◾पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में LJP के नेता के रूप में मान्यता दी गई◾राजस्थान : BSP से कांग्रेस में आए विधायकों ने बढ़ाई गहलोत की टेंशन, कहा- मंत्रिमंडल का विस्तार हो तो अच्छा है◾भूमि क्षरण ने दुनिया के दो-तिहाई हिस्से को प्रभावित किया : PM मोदी◾बढ़ती महंगाई पर चिदंबरम का केंद्र पर तंज, कहा- हर रोज ईंधन की कीमतें बढ़ाने वाले PM मोदी का शुक्रिया◾ममता बनर्जी का केंद्र पर कटाक्ष, कहा- सरकार की बेरुखी के चलते देश के किसान कष्ट में हैं ◾खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से आउट ऑफ कंट्रोल हुई खुदरा महंगाई दर, मई में बढ़कर 6.3 फीसदी पर पहुंची◾आगरा : 130 फीट गहरे बोरवेल से सुरक्षित निकाला गया 3 साल का शिवा, 8 घंटे तक चला सेना और NDRF का रेस्क्यू ऑपरेशन◾राजस्थान: गोवंश की तस्करी के शक में भीड़ ने शख्स की पीट-पीटकर की हत्या, दूसरे की हालत भी नाजुक◾राम मंदिर भूमि घोटाले की राहुल गांधी ने की कड़ी निंदा, कहा - श्रीराम के नाम पर धोखा अधर्म है ◾अनलॉक की राह पर बंगाल, जानिए किन चीजों में छूट के साथ ममता सरकार ने 1 जुलाई तक बढ़ाई पाबंदियां◾राम जन्मभूमि घोटाले के आरोपों पर बोले दिनेश शर्मा- बदनाम करने के लिए कोई मौका नही छोड़ता विपक्ष◾अडाणी ग्रुप ने अपने तीन विदेशी फंडों के खातों को जब्त किए जाने की खबर को बताया भ्रामक और गलत ◾स्टडी के दावे में Novavax वैक्सीन निकली अत्याधिक प्रभावी, कोरोना के खिलाफ 90 फीसदी असरदार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

ED की पूछताछ के बाद बोली महबूबा मुफ्ती - देश में अब सत्ता का विरोध बन चुका है एक अपराध

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती ने गुरुवार को सरकार पर यह कहते हुए निशाना साधा कि देश को भारत के संविधान के अनुसार नहीं चलाया जा रहा है और असंतोष जताने वालों को अपराधी घोषित कर दिया जाता है। 

मुफ्ती ने यह टिप्पणी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से मनी लॉन्ड्रिंग जांच के सिलसिले में उनके साथ करीब साढ़े पांच घंटे से अधिक समय तक की गई पूछताछ के बाद की। इससे पहले दिन में, मुफ्ती ईडी कार्यालय में राजबाग इलाके में स्थित वित्तीय जांच एजेंसी के कार्यालय में कड़ी सुरक्षा के बीच पहुंची थीं। ईडी अधिकारियों के अनुसार, उनका बयान धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत दर्ज किया गया है। 

मीडिया से बात करते हुए, पीडीपी नेता ने कहा, "इस देश में अब सत्ता का विरोध एक अपराध बन चुका है। इस देश को ईडी, सीबीआई और एनआईए जैसी एजेंसियां चला रही हैं।"मुफ्ती ने कहा कि या तो आपके खिलाफ देशद्रोह का आरोप लगाया जाता है या आपके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया जाता है। उन्होंने कहा, "और जब आप बोलते हैं, तब प्रवर्तन निदेशालय और अन्य एजेंसियों का उपयोग किया जाता है।"

केंद्र सरकार पर हमला करते हुए, मुफ्ती ने कहा, "देश भारत के संविधान के अनुसार नहीं चल रहा है और यह भारत की एक राजनीतिक पार्टी के अनुसार चल रहा है। जो लोग बोलते हैं, वे त्रस्त हैं। जो लोग विरोध करते हैं या बोलते हैं, उन्हें ईडी, एनआईए आदि द्वारा परेशान किया जाता है।" 

उन्होंने आगे कहा कि उनके पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। मुफ्ती ने कहा, "मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है और मेरे हाथ साफ हैं। यही कारण है कि उन्हें दो साल लग गए और अब वे मेरे पिता की संपत्ति के बारे में पूछ रहे हैं और यह कह रहे हैं कि आपने विधवाओं को अपना समर्पित धन कैसे दिया।"

मुफ्ती ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी जम्मू एवं कश्मीर के मुद्दों पर संघर्ष करती रहेगी, जिसके लिए पीडीपी का गठन किया गया था। उन्होंने कहा, "हम इसके लिए काम करना जारी रखेंगे और हम धारा 370 को बहाल करने के लिए भी काम करेंगे।"

इससे पहले मुफ्ती ने राष्ट्रीय राजधानी में पूछताछ के लिए ईडी की ओर से जारी किए गए समन को दरकिनार कर दिया था और वह पेश नहीं हुईं थी। उन्होंने ईडी से एजेंसी के श्रीनगर कार्यालय में पूछताछ करने का अनुरोध किया है, जिसे एजेंसी ने स्वीकार कर लिया।