BREAKING NEWS

दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾DND फ्लाईओवर पर लगा भारी जाम, लाल किला मेट्रो स्टेशन की एंट्री व एग्जिट बंद ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में 12 हजार नए केस, 137 मरीजों की हुई मौत ◾वीडियो वायरल होने के बाद बोले राकेश टिकैत-लाठी कोई हथियार नहीं◾विश्व में कोरोना का प्रकोप जारी, मरीजों का आंकड़ा 10 करोड़ से पार ◾किसानों की ट्रैक्टर परेड में बवाल, दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 22 FIR दर्ज की ◾TOP 5 NEWS 27 DECEMBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾राकांपा अध्यक्ष शरद पवार बोले- दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मुफ्ती ने केन्द्र पर जम्मू कश्मीर में ‘प्रेशर कुकर’ जैसी स्थिति उत्पन्न करने का लगाया आरोप

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने अनुच्छेद 370 को निरस्त किये जाने को लेकर केन्द्र पर निशाना साधते हुए शुक्रवार को कहा कि लोगों की आवाज को दबाकर जम्मू कश्मीर में एक ‘प्रेशर कुकर’ जैसी स्थिति बनाई गई थी। 

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समय आएगा जब केंद्र लोगों से ‘‘हाथ जोड़कर’’ पूछेगा कि वे तत्कालीन राज्य के विशेष दर्जे की बहाली के अलावा और क्या चाहते हैं। 

मुफ्ती ने हिरासत से अपनी रिहाई के बाद अपने पहले सार्वजनिक कार्यक्रम में कहा, ‘‘उन्होंने (केंद्र) लोगों की आवाज को दबा दिया है और उन्हें बात करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। यह एक प्रेशर कुकर की तरह है ... उन्होंने ऐसा माहौल बनाया है। लेकिन जब प्रेशर कुकर में विस्फोट होता है तो यह पूरे घर को जला देता है।’’ 

पीडीपी प्रमुख गुपकर गठबंधन घोषणा पत्र (पीसीजीडी) की शनिवार को यहां प्रस्तावित बैठक में भाग लेने के बृहस्पतिवार को पहुंचीं थीं। 

मुफ्ती ने कहा कि पीडीपी मौजूदा स्थिति में मूकदर्शक नहीं बनी रहेगी और जब तक अनुच्छेद 370 बहाल नहीं हो जाता तब तक चुप नहीं बैठेगी। 

यहां पार्टी मुख्यालय में पीडीपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘एक समय आएगा जब नई दिल्ली की सरकार हाथ जोड़कर (कश्मीर के लोगों से) पूछेगी कि 'विशेष दर्जे की बहाली के अलावा और क्या चाहते है।’’ 

उन्होंने कहा कि भाजपा ‘‘हमेशा के लिए शासन नहीं करने वाली है।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र ने अनुच्छेद 370 को खत्म करके संविधान का ‘‘दुरुपयोग’’ किया है। 

मुफ्ती ने आरोप लगाया कि देश को भाजपा के एजेंडे के अनुसार चलाया जा रहा है न कि भारत के संविधान के अनुसार। उन्होंने कहा कि भाजपा वोट बैंक की राजनीति में लिप्त है। 

उन्होंने कहा कि भाजपा दुनिया को बता रही है कि कश्मीर में स्थिति सामान्य है, लेकिन लोगों को बाहर निकलने और विरोध प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं है। 

मुफ्ती ने कहा कि पीडीपी कार्यकर्ताओं को विरोध प्रदर्शन के लिए पुलिस ने पकड़ लिया और उनकी रिहाई के लिए हलफनामा देने के लिए कहा गया है। 

उन्होंने पूछा, ‘‘वे हर आवाज को दबा रहे हैं। प्रदर्शनकारियों को जेलों में बंद किया जा रहा है और उन्हें देशद्रोही करार दिया जा रहा है ... यह कैसा लोकतंत्र है? क्या यह रामराज्य है? आप पीडीपी से क्यों डरते हैं?' 

चीनी घुसपैठ को लेकर केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए पीडीपी प्रमुख ने कहा, ‘‘चीन ने हमारी जमीन का 1000 वर्ग किलोमीटर हिस्सा ले लिया। वे आधारभूत संरचना और इमारतें खड़ी कर रहे हैं लेकिन किसी भी मंत्री ने इसके बारे में बात नहीं की है।’’ 

उन्होंने सवाल किया कि मोदी ने गलवान, लेह में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बारे में बिहार की चुनावी रैलियों में बात क्यों नहीं की थी।