BREAKING NEWS

राहुल ने किया ट्वीट- इस हफ्ते हमारे देश में आंकड़ा 10,00,000 पार कर जाएगा◾आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में फार्मा कारखाने में लगी आग, एक घायल ◾राजस्थान : कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक आज, सचिन पायलट नहीं होंगे शामिल ◾पूर्वी लद्दाख विवाद : भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच आज होगी उच्च स्तरीय वार्ता ◾नेपाल के पीएम ओली का बेतुका बयान, कहा - भगवान राम नेपाली है और भारत की अयोध्या है नकली◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,246 नए केस◾राजस्थान में जारी सियासी उठापटक पर भाजपा ने कहा- विधायकों की गिनती के लिए सड़क या होटल नहीं, विधानसभा उपयुक्त स्थान ◾महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 2.60 लाख के पार, मरने वालों का आंकड़ा 10,482 पहुंचा◾पायलट को मनाने में लगे राहुल और प्रियंका, कई वरिष्ठ नेताओं ने भी किया संपर्क ◾एलएसी विवाद : कल होगी भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक◾बौखलाए चीन ने निकाली खीज, अमेरिका के शीर्ष अधिकारियों - नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगाया ◾कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित, हाईकमान के नेतृत्व में जताया विश्वास ◾बच गई राजस्थान की कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों के संग दिखाया शक्ति प्रदर्शन◾सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित, 88.78% परीक्षार्थी रहे उत्तीर्ण ◾श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर प्रबंधन पर शाही परिवार का अधिकार SC ने रखा बरकरार◾सियासी संकट के बीच CM गहलोत के करीबियों पर IT का शकंजा, राजस्थान से लेकर दिल्ली तक छापेमारी◾राहुल ने केंद्र पर साधा सवालिया निशाना, कहा- क्या भारत कोरोना जंग में अच्छी स्थिति में है?◾जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी, एक आतंकवादी ढेर ◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख 78 हजार के पार, साढ़े पांच लाख से अधिक लोगों ने महामारी से पाया निजात ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरीजों की संख्या 1 करोड़ 29 लाख के करीब ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

NC, PDP ने कश्मीर में सामान्य हालात बताने पर केंद्र की आलोचना की

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने पार्टी सांसद फारूक अब्दुल्ला समेत अन्य राजनीतिक नेताओं की हिरासत को न्यायोचित ठहराने के लिए जम्मू कश्मीर के हालात और आपाताकाल की तुलना को बुधवार को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि यह साफ तौर पर केंद्र की ‘ओछी मानसिकता और पाखंड’ को दर्शाता है। 

पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने भी घाटी में सामान्य हालात होने के केंद्र के बयान के लिए उस पर हमला किया और अपनी इस मांग को दोहराया है कि तीन पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत सभी राजनीतिक कैदियों को रिहा किया जाए। 

संसद सत्र में अब्दुल्ला को हिस्सा लेने की इजाजत देने की विपक्ष की मांग पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने संसद में दिए बयान में कहा कि कांग्रेस ने आपातकाल के दौरान 30 सांसदों को हिरासत में रखा था।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कहा कि यह तुलना और राजनीतिक नेताओं की हिरासत को न्यायोचित ठहराना हास्यास्पद है। यह हास्यास्पद सिर्फ इसलिए नहीं है कि भाजपा स्पष्ट रूप से आपातकाल का विरोध करने में सबसे आगे रही है, लेकिन यह कश्मीर स्थिति पर केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी के भीतर के विरोधाभासों को भी उजागर करता है। 

पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि रेड्डी की टिप्पणी इस बात की स्वीकार्यता है कि जम्मू-कश्मीर आपताकाल के बुरे दौर से गुजर रहा है। 

उन्होंने कहा कि यह बीते 70 साल से देश के लोकतांत्रिक उच्च मूल्यों को बरकरार रखने के लिए कुर्बानी की पेशकश करने वाले लोकतांत्रिक लोगों के लिए चिंता का सबब है। 

उन्होंने कहा कि ऐसे बयान भारत के विचार के साथ विश्वासघात करते हैं। 

प्रवक्ता ने कहा कि गृह राज्य मंत्री का दावा अपने ही गृह मंत्री अमित शाह के बयान का खंडन कर रहा है जो कह रहे हैं कि जम्मू कश्मीर में स्थिति सामान्य है। 

प्रवक्ता ने पूछा कि अगर स्थिति सामान्य है तो संचार माध्यमों पर रोक क्यों है? राजनीतिक नेताओं को हिरासत में क्यों रखा गया है? 

पीडीपी ने भी यहां एक बयान जारी कर जम्मू कश्मीर में राजनीतिक गतिविधियों को शुरू करने की मांग की। 

पीडीपी के प्रवक्ता फिरदौस अहमद टाक ने एक बयान में कहा कि भारतीय जनता पार्टी को दोहरी बात करने की कला में महारत हासिल है, खासकर तब जब बात कश्मीर की आती है। बयानबाजी करने के बजाय अधिकारियों को राजनीतिक नेताओं सहित अवैध रूप से हिरासत में लिए गए लोगों को तुरंत रिहा करना चाहिए। 

जम्मू-कश्मीर में जल्द राजनीतिक गतिविधियों के शुरू होने के वरिष्ठ भाजपा नेता राम माधव के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए पीडीपी ने कहा कि जिस पार्टी ने अपने अहं को संतुष्ट करने के लिए पूरे संवैधानिक तंत्र को रौंद डाला, उसे संवैधानिक अधिकारों को बरकरार रखने के बारे में बात करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।