BREAKING NEWS

मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾टेक्सास सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात की अनुमति बहाल करने वाले आदेश पर रोक लगाई◾दिल्ली पुलिस ने फैक्ट-चेकर मोहम्मद जुबैर पर लगाए विदेशी चंदा लेने और सबूत मिटाने के आरोप◾'छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता, टूटे मन से कोई खड़ा नहीं होता...' सामना के जरिए शिवसेना का फडणवीस पर तंज◾उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र में सत्ता खोने के बाद 'शिवबंधन' बनाने का कर रहे हैं विचार◾उदयपुर हत्याकांड : NIA कोर्ट में पेश किए जायेंगे आरोपी, रिमांड की मांग करेगी जांच एजेंसी◾मुझे भी मिला था ऑफर, लेकिन मैं हूं एक सच्चा शिवसैनिक : संजय राउत ◾CORONA UPDATE : देश में कोरोना संक्रमण के 17 हज़ार से अधिक मामले सामने आए, 29 मरीजों की हुई मौत ◾उदयपुर हत्याकांड के विरोध में आज अलवर बंद, पुलिस और जिला प्रशासन अलर्ट ◾5 हजार फीट पर स्पाइस जेट की फ्लाइट में दिखा धुआं, दिल्ली में हुई इमरजेंसी लैंडिंग◾राजधानी में अगले हफ्तेभर तक रहेगा बरसात का मौसम, लोगों को गर्मी से मिली राहत ◾BJP Meeting : 18 साल बाद हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, ये है पूरा कार्यक्रम◾

उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने मंगलवार को एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार पर तीखा हमला किया। उमर ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केंद्र सरकार अनुच्छेद 370 इसलिये निरस्त कर पाई, क्योंकि 2014 के विधानसभा चुनाव के बाद उनकी पार्टी कमजोर हो गई थी। 

उमर अब्दुल्ला ने आगे कहा कि पीडीपी के संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद ने उनकी पार्टी का बिना शर्त समर्थन का प्रस्ताव ठुकराकर उनके साथ गठबंधन कर लिया, जिनकी जम्मू-कश्मीर को लेकर ''अच्छी नीयत'' नहीं थी। 

यह सरकार केवल भाजपा और कुछ कश्मीर-आधारित दलों के चुनिंदा नेताओं के लाभ के लिए है 

उमर ने लोगों से 5 अगस्त, 2019 को ''जम्मू-कश्मीर पर थोपे गए बदलावों को उलटने'' के लिये नेशनल कांफ्रेंस का समर्थन करने और उसे मजबूत बनाने की अपील की। गौरतलब है कि पांच अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त कर इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया था। 

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के बयान कि उनका प्रशासन केंद्र शासित प्रदेश के सभी लोगों के कल्याण के लिए काम कर रहा है, के संदर्भ में उमर ने कहा, ''मुझे तो ऐसा होते हुए नहीं दिख रहा है। हम देख रहे हैं कि यह सरकार केवल भाजपा और कुछ कश्मीर-आधारित दलों के चुनिंदा नेताओं के लाभ के लिए है।'' 

सरकार बना लेते तो, न तो वे अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए निरस्त कर पाते  

पूर्व मुख्यमंत्री ने किश्तवाड़ जिले के इंदरवल विधानसभा क्षेत्र के चतरू में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ''हम पर बदलाव थोपे जाने के बाद हमने जम्मू-कश्मीर और इसकी जनता के लिये लड़ाई शुरू की। ये बदलाव इसलिये संभव हो सके क्योंकि नेशनल कांफ्रेंस कमजोर थी। 

कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला

यदि हम 2014 के चुनाव में (विधानसभा) सीटें नहीं हारते और सरकार बना लेते तो, न तो वे अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए निरस्त कर पाते और न रोशनी अधिनियम के तहत लोगों को आवंटित भूमि या बाहर से आए लोगों को दी गई नौकरियां और ठेके छीन पाते।'' 

मैं सरकार बनाने के लिए बाहर से बिना शर्त समर्थन देने के लिए मुफ्ती साहब के पास गया था 

उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने नेशनल कांफ्रेंस की ''कमजोर स्थिति'' का फायदा उठाया और संविधान द्वारा जम्मू-कश्मीर के लोगों को जो दिया गया था, उसे छीन लिया। उमर ने कहा, ''मुझे ऐसी स्थिति का पूर्वाभास हो गया था और मैं सरकार बनाने के लिए बाहर से बिना शर्त समर्थन देने के लिए मुफ्ती साहब के पास गया था। मैंने उनसे कहा कि वह जिस रास्ते पर (भाजपा के साथ सरकार बनाकर) जा रहे हैं, वह जम्मू-कश्मीर के लिए एक आपदा लेकर आएगा और हम खुद को बचा नहीं पाएंगे।'' 

नेशनल कांफ्रेंस के नेता ने बताया, ''मैंने उनसे कहा कि मुझे सत्ता का कोई लालच नहीं है क्योंकि मैंने मुख्यमंत्री के रूप में अभी छह साल पूरे किए हैं और उन लोगों को सत्ता में लाने से परहेज किया है जिनके इरादे जम्मू-कश्मीर के लिए अच्छे नहीं हैं।'' उमर ने कहा कि मुफ्ती की मजबूरी थी और उन्होंने अपने हिसाब से फैसला लिया।