BREAKING NEWS

आडवाणी, स्वराज ने शीला दीक्षित को दी श्रद्धांजलि ◾सोमवार को 2 बजकर 43 मिनट पर होगा चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण◾LIVE : कांग्रेस मुख्यालय पहुंचा शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, निगमबोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार◾झारखंड : गुमला में डायन होने के शक में 4 लोगों की पीट-पीटकर हत्या◾कारगिल शहीदों की याद में दिल्ली में हुई ‘विजय दौड़’, लेफ्टिनेंट जनरल ने दिखाई हरी झंडी◾ आज सोनभद्र जाएंगे CM योगी, पीड़ित परिवार से करेंगे मुलाकात ◾शीला दीक्षित की पहले भी हो चुकी थी कई सर्जरी◾BJP को बड़ा झटका, पूर्व अध्यक्ष मांगे राम गर्ग का निधन◾पार्टी की समर्पित कार्यकर्ता और कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक थीं शीला दीक्षित : रणदीप सुरजेवाला ◾सोनभद्र घटना : ममता ने भाजपा पर साधा निशाना ◾मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾

जम्मू-कश्मीर

कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठनों ने 13 जुलाई को मनाया ‘काला दिवस’

जम्मू : विस्थापित कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व कर रहे कुछ संगठनों ने 13 जुलाई को ‘काला दिवस’ मनाया और कहा कि 1931 में इसी दिन कश्मीर घाटी में समुदाय को “अत्याचार” का सामना करना पड़ा। 

संगठन के सदस्यों ने यहां राजभवन के बाहर प्रदर्शन किया जबकि जम्मू कश्मीर में शहीदी दिवस मनाया गया। कश्मीर में 13 जुलाई को शहीदी दिवस के तौर पर मनाया जाता है क्योंकि 1931 में इस दिन डोगरा शासक महाराजा हरि सिंह की सेना द्वारा की गई गोलीबारी में 22 लोगों की मौत हो गई थी। 

ऑल स्टेट कश्मीरी पंडित कॉन्फ्रेंस (एएसकेपीसी) के महासचिव टी के भट ने संवाददाताओं को बताया कि 13 जुलाई को राजनीतिक दलों और सरकार द्वारा शहीदी दिवस मनाया जाना, “विस्थापित समुदाय के जख्मों पर नमक डालने जैसा है।” संगठन के अध्यक्ष रविंदर रैना ने प्रदर्शन का नेतृत्व किया और विस्थापित समुदाय के करीब 400 लोगों ने राज्यपाल भवन के बाहर इकट्ठा होकर प्रदर्शन किया।