BREAKING NEWS

भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾ कांग्रेस ने PM मोदी से किया सवाल, पूछा- क्या गलवान घाटी पर भारत का दावा कमजोर किया जा रहा?◾उज्जैन पुलिस की पीठ थपथपाते हुए बोले CM शिवराज-जल्दी UP पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुबे◾चित्रकूट की खदानों में बच्चियों के यौन शोषण पर बोले राहुल-क्या यही सपनों का भारत है◾देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 24,879 नए मामले और 487 लोगों ने गंवाई जान ◾कानपुर में 8 पुलिसर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार◾ दुनिया में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों आंकड़ा 5 लाख 48 हजार के पार ◾कानपुर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के सहयोगी प्रभात और बउआ को पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान मार गिराया ◾PM मोदी वाराणसी की संस्थाओं के प्रतिनिधियों से आज 11 बजे वीडियो कांफ्रेंस पर संवाद करेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कश्मीर घाटी में शांति प्रक्रिया को मजबूत करेंगे पंचायत सदस्य

जम्मू-कश्मीर पंचायत सम्मेलन (एजेकेपीसी) ने गुरुवार को घोषणा की कि सभी निर्वाचित सरपंच और पंच कश्मीर घाटी में शांति प्रक्रिया को मजबूत करने के लिए काम करेंगे। 

एजेसीपीसी के प्रदेश अध्यक्ष अनिल शर्मा ने यहां संवाददाताओं से कहा,‘‘कश्मीर घाटी में काफी हद तक स्थिति सामान्य हो गई है और हमारे सरपंचों और पंचों ने फैसला किया है कि वे सभी पक्षों के साथ समन्वय स्थापित कर कश्मीर घाटी में शांति प्रक्रिया और सछ्वाव को मजबूत करेंगे।’’ 

केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह से तीन सितंबर को नयी दिल्ली में मुलाकात करने वाले 25 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने वाले श्री शर्मा ने कहा कि निर्वाचित पंचायत सदस्य अपनी जिम्मेदारियों को समझते हैं और वे जम्मू-कश्मीर में स्थिरता और शांति के लिए काम करने के लिए तैयार हैं। 

उन्होंने नयी दिल्ली में अपनी हालिया बैठक के दौरान संगठन की ओर से उठाए गए सभी प्रमुख मांगों को स्वीकार करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री का आभार भी व्यक्त किया। 

एजेकेपीसी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री ने उनके द्वारा उठाए गए पांच प्रमुख मांगों पर सहमति व्यक्त की। 

उन्होंने कहा,‘‘बैठक के दौरान हमने मांग की कि जमीनी स्तर के संस्थानों को सशक्त बनाने के लिए जम्मू-कश्मीर में सभी प्रावधानों के साथ भारतीय संविधान के 73 वें और 74 वें संशोधन का पूर्ण क्रियान्वयन होना चाहिए। केंद्रीय गृह मंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि 73 वें और 74 वें संशोधन को एक नवंबर से जम्मू-कश्मीर में बढ़या जाएगा।’’ 

श्री शर्मा ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय गृह मंत्री से जम्मू-कश्मीर की प्रत्येक पंचायत को एक करोड़ रुपये प्रति वर्ष देने का प्रावधान करने का अनुरोध किया, ताकि विकास की बड़ पहल की जाए। 

उन्होंने कहा,‘‘वे हमारी मांग को पूरा करने के लिए सहमत हुए और यहां तक ??कि 14 वें वित्त आयोग के तहत घोषित 3,700 करोड़ रुपये के अलावा पंचायतों के लिए 3000 करोड़ रुपये जारी करने की भी घोषणा की।’’ 

श्री शाह ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया है कि जम्मू-कश्मीर के हर गांव में कम से कम चार-पांच युवाओं को सरकारी नौकरी प्रदान की जाएगी। उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि सरकारी नौकरियों के लिए चयन विशुद्ध रूप से योज्ञता के आधार पर होगा और बिना किसी पक्षपात के पंचायतों के परामर्श से किया जाएगा। 

श्री शर्मा ने कहा,‘‘हमने प्रत्येक निर्वाचित पंचायत के लिए एक बीमा कवर की मांग की, जिस पर केंद्रीय गृह मंत्री ने आसानी से सहमति व्यक्त की। इस योजना में प्रत्येक सरपंच और पंच को दो लाख रुपये का बीमा देने की घोषणा की गयी है।’’