BREAKING NEWS

एनसीबी-मुंबई के शीर्ष अधिकारी समीर वानखेड़े दिल्ली पहुंचे, कहा - कुछ काम से यहां आया हूँ◾18वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी, जानिए किन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾ केजरीवाल अयोध्या में सरयू आरती में हुए शामिल, मंगलवार को रामलला का करेंगे दर्शन◾देश के किसानों को नहीं मिल रही MSP! कांग्रेस ने केंद्र को घेरते हुए कहा- सरकारी एजेंसी ‘एगमार्कनेट’ ने किया स्वीकार ◾IPL New Teams: लखनऊ और अहमदाबाद के रूप में आईपीएल को मिलीं दो नई टीमें, अगले साल से खेलेंगी◾जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में CRPF जवानों के साथ रात गुजारेंगे शाह, स्थानीय लोगों को दिया अपना मोबाइल नंबर ◾ यूपी चुनाव में संयुक्त किसान मोर्चा भाजपा का विरोध करेगा: राकेश टिकैत◾पश्चिम बंगाल: 20 महीने के बाद खुलेंगे शैक्षणिक संस्थान, CM ममता ने जारी किया आदेश ◾कश्मीर घाटी में हमलों को जल्द रोकने के लिए नई सुरक्षा व्यवस्था◾नरेंद्र गिरि की जगह संभालेंगे महंत रवींद्र पुरी, निरंजनी अखाड़ा ने बनाया अध्यक्ष◾मलिक के आरोपों पर वानखेड़े और पत्नी क्रांति का पलटवार, खुद को बताया मुस्लिम मां और हिंदू पिता का बेटा◾क्रूज ड्रग्स केस: राउत बोले- महाराष्ट्र को जानबूझ कर किया जा रहा है बदनाम, अधिकारी होंगे बेनकाब◾कांग्रेस ने फेसबुक को बताया 'फेकबुक', कहा- यह एक शातिर शैतानी उपकरण जिसका BJP से है गठजोड़◾केजरीवाल सरकार के डेंगू रोकथाम अभियान के बावजूद नए मामलों में वृद्धि जारी, एक हफ्ते में 283 मरीज मिले ◾पाकिस्तान के खिलाफ हार के बाद शमी हुए ट्रोल, यूजर्स पर भड़के सहवाग◾कोविशील्ड और कोवैक्सिन के मास वैक्स के खिलाफ SC में याचिका खारिज, कहा- टीकाकरण पर न करें संदेह ◾अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर साधा निशाना, कहा- PAK के बजाय घाटी के लोगों से बात करेगी सरकार ◾क्रूज ड्रग केस: क्या आर्यन खान को छोड़ने के लिए मांगे गए 25 करोड़, कमिश्नर ऑफिस पहुंचा 'स्वतंत्र गवाह'◾नवाब मलिक ने शेयर किया वानखेड़े का 'बर्थ सर्टिफिकेट', कहा- यहां से शुरू हुआ फर्जीवाड़ा ◾कोई भी नागरिक स्वास्थ्य सुविधा के अभाव में दम नहीं तोड़ेगा, इंतजार हुआ खत्म : सीएम योगी◾

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती बोली- सरकार का दरबार परिवर्तन पर पूर्ण विराम एक असंवेदनशील निर्णय है

पीडीपी (People's Democratic Party) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने ‘दरबार परिवर्तन’ को बंद करने को शनिवार को ‘असंवेदनशील निर्णय’ करार दिया और कहा कि गर्मियों एवं सर्दियों में कार्यालय को इधर-उधर करने के सामाजिक एवं आर्थिक फायदे उस पर आने वाले खर्च से अधिक हैं।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘दरबार परिवर्तन बंद करने का भारत सरकार का हाल का निर्णय छोटे विषयों में अतिसावधानी एवं बड़े विषयों में लापरवाही जैसा है। गर्मियों एवं सर्दियों में कार्यालय को इधर-उधर करने के सामाजिक एवं आर्थिक फायदे उस पर आने वाले खर्च से अधिक हैं।

इससे बिल्कुल स्पष्ट है कि ऐसे असंवेदनशील फैसले ऐसे लोगों ने लिये हैं जिन्हें जम्मू कश्मीर के कल्याण की फिक्र नहीं है।’’ जम्मू कश्मीर प्रशासन ने पिछले महीने घोषण की थी कि उसने ई-कार्यालय को पूरी तरह अपना लिया है और साल में दो बार होने वाले दरबार परिवर्तन पर पूर्ण विराम लगा दिया गया है।

दरबार परिवर्तन के तहत प्रशासन छह महीने जम्मू से और छह महीने श्रीनगर से चलता है और यह प्रथा 1872 में महाराजा गुलाब सिंह ने इन दोनों क्षेत्रों की अतिप्रतिकूल मौसम से बचने के लिए शुरू की थी।