BREAKING NEWS

T20 World CUP : डेविड वॉर्नर की धमाकेदार पारी, ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया◾जी-20 की बैठक में महामारी से निपटने में ठोस परिणाम निकलने की उम्मीद : श्रृंगला◾क्रूज ड्रग केस : 25 दिन के बाद आखिरकार आर्यन को मिली जमानत, लेकिन जेल में ही कटेगी आज की रात ◾विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने 2020-21 में हर दिन दान किए 27 करोड़ रु, जानिये कौन है टॉप 5 दानदाता ◾नया भूमि सीमा कानून पर चीन की सफाई- मौजूदा सीमा संधियों नहीं होंगे प्रभावित, भारत निश्चिन्त रहे ◾कांग्रेस ने खुद को ट्विटर की दुनिया तक किया सीमित, मजबूत विपक्षी गठबंधन की परवाह नहीं: टीएमसी ◾त्योहारी सीजन को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोविड-19 रोकथाम गाइडलाइन्स को 30 नवंबर तक बढ़ाया ◾नवाब मलिक का वानखेड़े से सवाल- क्रूज ड्रग्स पार्टी के आयोजकों के खिलाफ क्यों नहीं की कोई कार्रवाई ◾बॉम्बे HC से समीर वानखेड़े को मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से तीन दिन पहले पुलिस को देना होगा नोटिस◾समीर की पूर्व पत्नी के पिता का सनसनीखेज खुलासा- मुस्लिम था वानखेड़े परिवार, रखते थे 'रमजान के रोजे'◾कैप्टन के पार्टी बनाने के ऐलान ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलें, टूट के खतरे के कारण CM चन्नी ने की राहुल से मुलाकात ◾अखिलेश का भाजपा पर हमला: यूपी चुनाव में 'खदेड़ा' तो होगा ही, उप्र से कमल का सफाया भी होगा ◾दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना के केस से योगी की बड़ी चिंता, CM ने सावधानी बरतने के दिए निर्देश ◾भारत के लिए प्राथमिकता रही है आसियान की एकता, कोरोना काल में आपसी संबंध हुए और मजबूत : PM मोदी◾वानखेड़े की पत्नी ने CM ठाकरे को चिट्ठी लिखकर लगाई गुहार, कहा-मराठी लड़की को दिलाए न्याय ◾सड़क हादसे में 3 महिला किसान की मौत पर बोले राहुल गांधी- देश की अन्नदाता को कुचला गया◾नीट 2021 रिजल्ट का रास्ता SC ने किया साफ, कहा- '16 लाख छात्रों के नतीजे को नहीं रोक सकते'◾देश में कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव का दौर जारी, पिछले 24 घंटे के दौरान संक्रमण के 16156 केस की पुष्टि ◾प्रियंका का तीखा हमला- किसान विरोधी योगी सरकार की नीति और नीयत में खोट, कानों पर जूं तक नहीं रेंगता ◾महाराष्ट्र सरकार पर उंगली उठाने वालों को दी जाती है Z+ सिक्योरिटी : संजय राउत◾

PDP अध्यक्ष महबूबा ने पार्टी नेताओं के आवास खाली कराने के खिलाफ उपराज्यपाल से हस्तक्षेप करने का किया आग्रह

पीडीपी (पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने पूर्व विधायकों सहित अपनी पार्टी के नेताओं के सरकारी आवास कथित तौर पर जबर्दस्ती खाली कराने के खिलाफ रविवार को उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया।

महबूबा ने आरोप लगाया कि प्रशासन चुनिंदा तरीके से पीडीपी नेताओं को निशाना बना रहा है और उन्हें बिना कोई वैकल्पिक आवास उपलब्ध कराए श्रीनगर में उनके सरकारी आवास खाली करा लिये हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि अगर उनके साथ ‘‘कुछ भी अनहोनी होती है’’ तो वह उपराज्यपाल प्रशासन को जिम्मेदार ठहराएंगी।

महबूबा ने सिन्हा को संबोधित एक पत्र में कहा, ‘‘प्रशासन जिस तरह से पीडीपी नेताओं और पूर्व विधायकों को चुनिंदा तरीके से निशाना बना रहा है, उससे मैं बहुत चिंतित हूं। ऐसे समय में जब आतंकवाद फिर से बढ़ रहा है, उन्हें बिना कोई वैकल्पिक आवास उपलब्ध कराए श्रीनगर में अपने सरकारी आवास खाली करने के लिए कहा गया है।’’

उन्होंने कहा कि जो बात इस मामले को और भी बदतर बनाती है वह यह है कि पार्टी नेताओं के उन्हें उन गांवों में सुरक्षा प्रदान करने के बार बार के अनुरोधों के बावजूद जहां के वे मूल रूप से रहने वाले हैं, इन अनुरोधों को “अस्वीकार” कर दिया गया है।

पीडीपी प्रमुख ने पत्र में लिखा है, ‘‘राज्य प्रशासन ने सुरक्षा प्रदान करने से इनकार करने के लिए आतंकवादियों की उपस्थिति का हवाला दिया है। लेकिन उसी प्रशासन को उन्हें श्रीनगर में सुरक्षित सरकारी आवास से बेदखल करने और जानबूझकर उन्हें खतरे में डालने से कोई गुरेज नहीं है।’’

घाटी में नव निर्वाचित पंचायती और शहरी स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों की हत्या की ओर परोक्ष तौर पर इशारा करते हुए महबूबा ने कहा कि यह कोई रहस्य नहीं है कि हाल के दिनों में ‘‘हमने देखा है कि कैसे चुने हुए प्रतिनिधियों को निशाना बनाया गया और यहां तक ​​कि उनकी हत्या कर दी गई क्योंकि वे आसान लक्ष्य हैं, खासकर जब उन्हें पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं की जाती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपके ध्यान में यह भी लाना चाहती हूं कि पीडीपी के पूर्व विधायक जहूर मीर खुद आतंकवाद से पीड़ित रहे हैं। उनके पिता (पूर्व विधायक अब्दुल अजीज मीर) की आतंकवादियों ने (दिसंबर 2002) गोली मारकर हत्या कर दी थी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसी परिस्थितियों में मुझे यह आश्चर्यजनक और बेहद दुखद लगता है कि जहां एक ओर नये नेताओं का एक वर्ग है, जिन्हें पूरे जम्मू-कश्मीर में उनकी आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए सुरक्षा सहित सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाती हैं।

लेकिन दूसरी ओर, पीडीपी के सदस्यों के साथ घोर तिरस्कार और अपमानजनक ​​व्यवहार किया जाता है। यह लगभग ऐसा ही है कि प्रशासन जानबूझ कर उनकी जान जोखिम में डाल रहा है।’’ ‘‘सुधारात्मक कदम’’ उठाने के लिए उपराज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए महबूबा ने कहा कि वह बताना चाहती हैं कि ‘‘अगर मेरी पार्टी के किसी भी व्यक्ति के साथ कुछ भी अनहोनी होती है, तो मैं इस प्रशासन को जिम्मेदार ठहराऊंगी।’’