BREAKING NEWS

भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾ कांग्रेस ने PM मोदी से किया सवाल, पूछा- क्या गलवान घाटी पर भारत का दावा कमजोर किया जा रहा?◾उज्जैन पुलिस की पीठ थपथपाते हुए बोले CM शिवराज-जल्दी UP पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुबे◾चित्रकूट की खदानों में बच्चियों के यौन शोषण पर बोले राहुल-क्या यही सपनों का भारत है◾देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 24,879 नए मामले और 487 लोगों ने गंवाई जान ◾कानपुर में 8 पुलिसर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार◾ दुनिया में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों आंकड़ा 5 लाख 48 हजार के पार ◾कानपुर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के सहयोगी प्रभात और बउआ को पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान मार गिराया ◾PM मोदी वाराणसी की संस्थाओं के प्रतिनिधियों से आज 11 बजे वीडियो कांफ्रेंस पर संवाद करेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

PoK में लोगों को गुप्त तरीके से बनाया जा रहा बंदी : OHCHR

ओएचसीएचआर की एक रिपोर्ट में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में मानवाधिकारों के उल्लंघन को जम्मू एवं कश्मीर की तुलना में कहीं अधिक व्यापक स्तर पर तथा अधिक संरचनात्मक प्रकृति का बताया गया है। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (ओएचसीएचआर) ने इन उल्लंघनों के संबंध में पाकिस्तानी अधिकारियों से कई सिफारिशें की हैं। 

ओएचसीएचआर द्वारा जून 2018 की रिपोर्ट में की गई टिप्पणियों के जवाब में पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान में संवैधानिक और कानूनी तौर पर नागरिकों को पर्याप्त अधिकार दिए गए हैं। 

ओएचसीएचआर निगरानी एवं विश्लेषण में हालांकि पाया गया कि वहां मानवाधिकार से संबंधित चिंताएं बनी हुई हैं। विश्लेषण में कहा गया कि इन क्षेत्रों में संवैधानिक परिवर्तनों की शुरुआत की गई, लेकिन मुख्य समस्याओं को खत्म करने में सफलता नहीं मिली है। इससे वहां रहने वाले लोगों को मानव अधिकारों का पूर्ण लाभ नहीं मिल पाता है। 

ओएचसीएचआर की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उसके पास पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के लोगों को जबरन गायब किए जाने की विश्वसनीय जानकारी है। इसमें गुप्त रूप से बंदी बनाए गए लोग शामिल हैं, जिनके ठिकानों के बारे में कोई भी जानकारी नहीं है। 

रिपोर्ट में बताया गया है कि इन गायब हुए लोगों में पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के साथ काम करने वाले लोग शामिल हैं। इसी के साथ कथित तौर पर सशस्त्र समूहों से जुड़े ऐसे लोग भी शामिल हैं, जो भारतीय-प्रशासित कश्मीर में काम करते थे। कथित रूप से गायब होने के कुछ मामलों को नियंत्रण रेखा के करीब के इलाकों से भी बताया गया है, जो पाकिस्तानी सशस्त्र बलों के नियंत्रण में हैं। 

ओएचसीएचआर के ध्यान में लाए गए लगभग सभी मामलों में पीड़ित समूहों ने आरोप लगाया कि गायब होने के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियां जिम्मेदार हैं। ऐसी आशंकाएं हैं कि पीओके से गायब हुए लोगों को पाकिस्तान के किसी सैन्य-संचालित केंद्र में हिरासत में रखा गया है। 

समिति ने अप्रैल 2017 में लोगों की प्रताड़ना के लिए सेना को दी गई व्यापाक शक्तियों पर चिंता व्यक्त की। 

सेना द्वारा आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता बताकर संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर बिना न्यायिक पर्यवेक्षण के सिविल पावर रेगुलेशन-2011 के तहत कार्रवाई करने की बात कही। 

इसके बाद पाकिस्तान को उक्त सिविल पावर के तहत नजरबंदी केंद्र स्थापित करने की सेना की शक्ति को संशोधित करने या निरस्त करने की सिफारिश भी की। यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया कि क्षेत्र में कहीं भी किसी को गुप्त हिरासत में नहीं रखा जाना चाहिए। ऐसी स्थितियों में व्यक्तियों को हिरासत में रखना कन्वेंशन का उल्लंघन है। 

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में नागरिकों के गायब होने के कई अन्य मामले हैं, लेकिन इन क्षेत्रों में काम करने वाले स्वतंत्र मीडिया या स्वतंत्र मानवाधिकार समूहों की कमी के कारण ये मामले सामने नहीं आ पाते। 

ओएचसीएचआर संयुक्त राष्ट्र के सचिवालय का एक विभाग है जो अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत मानवाधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने के लिए काम करता है।