BREAKING NEWS

केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन, कई स्थानों पर सड़कें अवरुद्ध◾नागरिकता संशोधन बिल में बदलाव को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दिए संकेत◾अनशन पर बैठीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल हुईं बेहोश, LNJP अस्पताल में भर्ती◾CAB के खिलाफ प्रदर्शनों के बाद आज गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू में ढील◾झारखंड विधानसभा चुनाव: देवघर में प्रत्याशियों की आस्था दांव पर◾

जम्मू-कश्मीर

कश्मीर से निषेधाज्ञा हटायें और सभी नेताओं को रिहा करें : NC

 farooq abdullah and nc

नेशनल कांफ्रेंस ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर से निषेधाज्ञा हटाने और ‘‘लगातार हिरासत’’ में चल रहे अपनी पार्टी के अध्यक्ष फारुक अब्दुल्ला एवं उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला समेत तमाम नेताओं को रिहा करने की मांग की। 

केंद्र ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को पांच अगस्त को हटा दिया था। 

यहां शेर-ए-कश्मीर भवन में नेशनल कांफ्रेंस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक में एक प्रस्ताव स्वीकृत किया गया जिसके अनुसार, ‘‘धर्मनिरपेक्ष एवं लोकतांत्रिक भारत का विचार देश के इस हिस्से (जम्मू कश्मीर) में संकट में है जो अपने इतिहास में सबसे भीषण दौर से गुजर रहा है।’’ 

उन्होंने कहा कि मौजूदा हालात 1975 के आपातकाल से भी बदतर हैं। अंतर बस ये है कि जम्मू कश्मीर अपनी पहचान और दर्जा खो बैठा है। 

वरिष्ठ नेताओं पर प्रतिबंधों के चलते इस बैठक की अध्यक्षता रतन लाल गुप्ता ने की और 20 से ज्यादा नेताओं ने इसमें शिरकत की।