BREAKING NEWS

शुभेंदु अधिकारी से बैठक के बाद तृणमूल कांग्रेस ने 'सभी समस्याएं सुलझाने' का किया दावा◾एस जयशंकर ने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मेरिस पेन से की बातचीत ◾पंजाब : BJP नेता और पूर्व मंत्री सतपाल गोसाईं का निधन◾CM योगी आदित्‍यनाथ पहुंचे मुंबई, अभिनेता अक्षय कुमार ने की मुलाकात ◾शिवसेना में शामिल होने के बाद उर्मिला ने कंगना पर बोला हमला, हिंदुत्व पर भी दिया बयान ◾सरकार के साथ किसानों की बैठक बेनतीजा, 3 दिसम्बर को दोबारा होगी वार्ता, तब तक धरना जारी ◾दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी, 4,006 नये मामले आये सामने और 86 की मौत◾प्रधानमंत्री मोदी पर ममता बनर्जी ने साधा निशाना , कहा - पीएम-केयर्स का पैसा कहां गया ◾किसान आंदोलन : कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो की टिप्पणी पर भारत ने जताई कड़ी आपत्ति◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे भीम आर्मी चीफ, कहा- 'किसान की हक की लड़ाई में समर्थन देने आया हूं ◾किसान आंदोलन : PM आज ही तीनों ‘काले कानूनों’ को निलंबित कर, किसानों पर दर्ज मामले वापस लें - कांग्रेस◾उर्मिला मातोंडकर का नया सियासी दांव, कांग्रेस छोड़ CM ठाकरे की मौजूदगी में शिवसेना का थामा दामन ◾BSF का 56वां स्थापना दिवस : DG अस्थाना की पाक को चेतावनी-देश की रक्षा के लिए हमेशा खड़े हैं हमारे जवान ◾किसान नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों की वार्ता में ये होंगे अहम मुद्दे, तीनों कानूनों को लेकर उठा है सारा विवाद◾कृषि कानून के विरोध में किसानों का समर्थन देंगी शाहीन बाग की दबंग दादी, पहुंचेगी सिंघू बॉर्डर ◾किसानों के साथ केंद्र की बातचीत से पहले BJP की बैठक, नड्डा के आवास पर राजनाथ सिंह और शाह मौजूद ◾राहुल का केंद्र पर वार- सरकार अहंकार छोड़कर किसानों को दें उनका अधिकार◾शहला राशिद पर पिता ने लगाया देशविरोधी होने का आरोप, डीजीपी से की बेटी के फंड स्रोतों की जांच की मांग◾केंद्र के वार्ता प्रस्ताव पर किसान नेताओं ने उठाए सवाल, रक्षा मंत्री करेंगे बातचीत की अगुवाई◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सेना से बचने के लिए आतंकवादियों ने बनाए भूमिगत बंकर

कश्मीर घाटी में आतंकवादियों का ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में छिपना या स्थानीय घरों में शरण लेना बीते दिनों की बात हो गई है। सेना व सुरक्षाबलों से बचने के लिए वे अब घने बगीचों में भूमिगत बंकर बनाते हैं और यहां तक कि मौसमी नदियों में बंकर खोदकर रहते हैं।

सेना की आतंकवाद रोधी इकाई 44 राष्ट्रीय राइफल्स की कमान संभाल रहे कर्नल ए के सिंह कहते हैं, “यह प्रवृत्ति हाल में पुलवामा और शोपियां जिलों में देखने को मिली है तथा शोपियां में इनकी संख्या ज्यादा है क्योंकि वहां सेब के घने बगीचे और जंगल हैं।”

सेना की इस इकाई ने अधिकतम आतंकवादियों को मारा, पकड़ा या उनका आत्मसमर्पण कराया है। 44-राष्ट्रीय राइफल्स के बेहद पुख्ता सुरक्षा वाले मुख्यालय से बात करते हुए कर्नल सिंह और उनके दल को अकसर स्थानीय लोगों की समस्याओं को सुलझाने के लिए उनसे मिलते-जुलते देखा जा सकता है।

इस बातचीत के दौरान करियर संबंधी सुझाव देने से लेकर शिक्षा संबंधी उनकी बातों को सुनना शामिल रहता है। आतंकवादियों पर अंकुश लगाने के मामले में भी वे काफी आगे हैं। अब तक उन्होंने 47 आतंकवादियों को मार गिराया है और सात को हिरासत में लिया है या उनका आत्मसमर्पण कराया है।

शोपियां के दो और पुलवामा जिले के तीन इलाकों की निगरानी करने वाले कर्नल सिंह और उनके दल के लिए भूमिगत बंकरों के मिलने के बाद स्थिति आसान नहीं थी क्योंकि यहां बिना सुरक्षा बलों की नजर में आए आतंकवादी कई दिनों तक छिपे रह सकते हैं। इन दोनों ही इलाकों को आतंकवादियों के गढ़ के तौर पर देखा जाता है।

जल-स्तर के उतार-चढ़ाव और अचानक आने वाली बाढ़ से प्रभावित रहने के लिए चर्चित इलाके रामबी अरा के मध्य में कोई बंकर मिलना सुरक्षाबलों के लिए किसी अचरज से कम नहीं था और इसने कर्नल सिंह तथा उनकी टीम को नए सिरे से अपनी योजना पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया।

उन्होंने कहा, “आतंकवादी रामबी अरा के मध्य में लोहे के बने बंकर के अंदर छिपे हुए थे। सतर्क जवानों ने तेल के एक ड्रम का ढक्कन खुला देखा जिसका इस्तेमाल आतंकवादी बंकर में आने-जाने के रास्ते के तौर पर करते थे।” अधिकारी ने कहा, “यह संदेहजनक था और इसके बाद वहां गुपचुप तरीके से नजर रखी जाने लगी।

हमें यह देखकर बेहद हैरानी हुई कि नदी के बीच से आतंकवादी निकल रहे हैं, जो आम तौर पर बारिश के मौसम में ही पानी से भरी रहती है।” प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के पांच आतंकवादियों को इस साल के शुरू में हमला कर मार गिराया।

हालांकि सेना के लिए इन आतंकवादियों के मारे जाने से ज्यादा चिंता की बात यह थी कि आतंकवादी भूमिगत बंकरों को बनाने और उनमें रहने में सक्षम हैं। तकनीकी खुफिया निगरानी और मानव संसाधनों के जरिए आसपास के इलाकों तथा खासकर शोपियां में सर्वेक्षण का आदेश दिया गया जिसके नतीजे उत्साहजनक रहे।

पारंपरिक कश्मीरी घरों के अंदर तहखानों और भूमिगत बंकरों की जानकारी मिलनी शुरू हो गई। इस साल जून में बंदपोह में सेब के घने पेड़ों से ढके और ऊंचाई वाले इलाके में स्थित एक और भूमिगत बंकर का सुरक्षाबलों ने पता लगाया। यहां आतंकवादी 12 फुट लंबे और 10 फुट चौड़ा भूमिगत बंकर बनाकर रह रहे थे।

सुरक्षाबलों की नजर जब एक प्लास्टिक से जमीन के ढके होने और वहां की मिट्टी ताजी खुदी होने पर गई तो इस बंकर का खुलासा हुआ। कर्नल सिंह ने कहा कि भूमिगत बंकर के आसपास पांच आतंकवादियों को मार गिराया गया।

44 राष्ट्रीय राइफल्स की कमान संभालने के बाद से कर्नल सिंह कई नागरिकों के घरों में गए जिनके रिश्तेदार आतंकवाद की राह पर चल निकले थे। अधिकारी ने उन्हें सलाह दी कि वे इन युवाओं का वापस आना सुनिश्चित करें और उन्हें हरसंभव मदद का भी आश्वासन दिया।