BREAKING NEWS

शिवसेना ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- एनडीए की अनुमति ली थी क्या? ◾संजय राउत का शायराना ट्वीट- 'अगर जिंदगी में कुछ पाना हो तो तरीके बदलो इरादे नहीं'◾सरहदों की निगरानी के लिए ISRO लॉन्च करेगा कार्टोसैट-3, दुश्मन देशों की हरकतों पर रहेगी नजर ◾जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक संशोधन विधेयक राज्यसभा में आज होगा पेश◾JNU छात्र आज फिर उतर सकते है सड़को पर, प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे स्टूडेंट ◾1 दिसंबर से ग्राहकों की जेब पर बढ़ेगा बोझ, ये दूरसंचार कंपनियां बढ़ाएंगी मोबाइल सेवाओं की दरें◾इंदिरा गांधी की जयंती पर PM मोदी, सोनिया, मनमोहन और प्रणब मुखर्जी ने दी श्रद्धांजलि◾महाराष्ट्र : महीनेभर बाद भी एक ही सवाल, कब और कैसे बनेगी सरकार? ◾झारखंड के चुनाव परिणाम बिहार राजग पर डालेंगे असर! ◾ खट्टर ने स्थानीय युवाओं को नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण देने वाला विधेयक न लाने के संकेत दिए ◾सबरीमला में श्रद्धालुओं की जबरदस्त भीड़, 2 महिलायें वापस भेजी गयी ◾जेएनयू छात्रसंघ पदाधिकारियों का दावा, एचआरडी मंत्रालय के अधिकारी ने दिया समिति से मुलाकात का आश्वासन ◾प्रियंका गांधी ने इलेक्टोरल बांड को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात ◾TOP 20 NEWS 18 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद पवार बोले- किसी के साथ सरकार बनाने पर चर्चा नहीं◾INX मीडिया धनशोधन मामला : चिदंबरम ने जमानत याचिका खारिज करने के आदेश को न्यायालय में दी चुनौती ◾मनमोहन सिंह ने कहा- राज्य की सीमाओं के पुनर्निधार्रण में राज्यसभा की अधिक भूमिका होनी चाहिए◾'खराब पानी' को लेकर पासवान का केजरीवाल पर पटलवार, कहा- सरकार इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करना चाहती◾संसद का शीतकालीन सत्र : राज्यसभा के 250वें सत्र पर PM मोदी का संबोधन, कहा-इसमें शामिल होना मेरा सौभाग्य◾बीजेपी बताए कि उसे चुनावी बॉन्ड के जरिए कितने हजार करोड़ रुपये का चंदा मिला : कांग्रेस ◾

जम्मू-कश्मीर

अशांति के बीच कश्मीर घाटी की कहानी कहती एक किताब आयी सामने

कश्मीर घाटी में आतंकवाद, लोगों पर इसका प्रभाव और अशांति के बीच उनका अपनापन जैसे कुछ पहलुओं पर बात करती एक नयी किताब सामने आयी है। संचित गुप्ता की किताब द ट्री विथ ए थाउजैंड ऐपल्स, बचपन के उन तीन दोस्तों के जीवन की दास्तां है जो वैसे तो श्रीनगर में शांति एवं सौहार्द के माहौल में पले बढ़ लेकिन 20 जनवरी 1990 की रात के बाद से हालात बद से बदतर होते गये।

कश्मीर में वर्ष 1990 से 2013 के कालखंड को बयां करती यह किताब अपनी अपनी किस्मत चुनने के लिये मजबूर सफीना मलिक, दीवान भट और बिलाल आहानगर की कहानी कहती है।

नियोगी बुक्स द्वारा प्रकाशित इस उपन्यास में अपने घरों से निर्वासित कश्मीरी पंडितों, दिशाहीन युवा आतंकवादियों, अपने कर्तव्य से बंधे सैन्य अधिकारियों एवं बेकसूर लोगों को रेखांकित किया गया है, जो इन हालात का निशाना बने।

दीवान को अपना घर-बार छोड़ना पड़ा, सफीना की मां इसका निशाना बनीं और बिलाल को गरीबी एवं डर से भरे जीवन को गले लगाना पड़।

जिस जगह को वे स्वर्ग कहते थे अब वह युद्धभूमि बन गयी है और जब मर्जी के खिलाफ उन्हें अपनी किस्मत का चुनाव करना पड़ तो उनकी दोस्ती को भी इससे जूझना पड़।

20 साल बाद किस्मत उन्हें एक बार फिर मिलाती है और तब वे यह नहीं जानते कि क्या सही है और क्या गलत।

उनके जीवन में कुछ भी सही नहीं चल रहा है। सफीना का भाई तारिक माछिल में सेना की गोली लगने से मारा जाता है और एक आतंकवादी उसके पिता की हत्या कर देता है। बिलाल गरीबी में जी रहा होता है तो दीवान घर छोड़कर मुंबई जा बसता है। वह अपना एक हाथ भी गंवा चुका है।

गुप्ता जिक्र करते हैं कि किस तरह से उनके मन में इस किताब का विचार आया। उन्होंने कहा, वर्ष 2009 में जब मैं कश्मीर गया था तब मैंने 12 साल के एक कश्मीरी मुस्लिम बच्चे को 20 वर्षीय सेना के जवान के साथ कहवा पीते देखा था। तब मैंने आस पास मौजूद नफरत के माहौल के बीच पनपते प्यार को देखा था।

उन्होंने बताया, जिन लोगों से मैं मिला था, जिनसे मैंने उनकी कहानी सुनी थी, उसे मैं कहानी की शक्ल में बताना चाहता था। उन्होंने कहा कि यह किताब संस्कृति, अपनेपन, प्रतिशोध और पश्चाताप की सार्वभौमिक कहानी है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।