BREAKING NEWS

भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने की मध्यस्थता की पेशकश◾चीन के साथ तनातनी पर रविशंकर प्रसाद बोले - नरेंद्र मोदी के भारत को कोई भी आंख नहीं दिखा सकता◾LAC पर भारत के साथ तनातनी के बीच चीन का बड़ा बयान , कहा - हालात ‘‘पूरी तरह स्थिर और नियंत्रण-योग्य’’ ◾बीते 24 घंटों में दिल्ली में कोरोना के 792 नए मामले आए सामने, अब तक कुल 303 लोगों की मौत ◾प्रियंका ने CM योगी से किया सवाल, क्या मजदूरों को बंधुआ बनाना चाहती है सरकार?◾राहुल के 'लॉकडाउन' को विफल बताने वाले आरोपों को केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने बताया झूठ◾वायुसेना में शामिल हुई लड़ाकू विमान तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन, इजरायल की मिसाइल से है लैस◾केन्द्र और महाराष्ट्र सरकार के विवाद में पिस रहे लाखों प्रवासी श्रमिक : मायावती ◾कोरोना संकट के बीच CM उद्धव ठाकरे ने बुलाई सहयोगी दलों की बैठक◾राहुल गांधी से बोले एक्सपर्ट- 2021 तक रहेगा कोरोना, आर्थिक गतिविधियों पर लोगों में विश्वास पैदा करने की जरूरत◾देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा डेढ़ लाख के पार, अब तक 4 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾राजस्थान में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 7600 के पार, अब तक 172 लोगों की मौत हुई ◾Covid-19 : राहुल गांधी आज सुबह प्रसिद्ध स्वास्थ्य पेशेवरों के साथ करेंगे चर्चा ◾कोरोना संकट के बीच असम-मेघालय में बाढ़ का कहर जारी, करीब 2 लाख लोग हुए प्रभावित◾दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- ढील दिए जाने के बाद 5 राज्यों में बढ़े कोरोना मामले◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

अशांति के बीच कश्मीर घाटी की कहानी कहती एक किताब आयी सामने

कश्मीर घाटी में आतंकवाद, लोगों पर इसका प्रभाव और अशांति के बीच उनका अपनापन जैसे कुछ पहलुओं पर बात करती एक नयी किताब सामने आयी है। संचित गुप्ता की किताब द ट्री विथ ए थाउजैंड ऐपल्स, बचपन के उन तीन दोस्तों के जीवन की दास्तां है जो वैसे तो श्रीनगर में शांति एवं सौहार्द के माहौल में पले बढ़ लेकिन 20 जनवरी 1990 की रात के बाद से हालात बद से बदतर होते गये।

कश्मीर में वर्ष 1990 से 2013 के कालखंड को बयां करती यह किताब अपनी अपनी किस्मत चुनने के लिये मजबूर सफीना मलिक, दीवान भट और बिलाल आहानगर की कहानी कहती है।

नियोगी बुक्स द्वारा प्रकाशित इस उपन्यास में अपने घरों से निर्वासित कश्मीरी पंडितों, दिशाहीन युवा आतंकवादियों, अपने कर्तव्य से बंधे सैन्य अधिकारियों एवं बेकसूर लोगों को रेखांकित किया गया है, जो इन हालात का निशाना बने।

दीवान को अपना घर-बार छोड़ना पड़ा, सफीना की मां इसका निशाना बनीं और बिलाल को गरीबी एवं डर से भरे जीवन को गले लगाना पड़।

जिस जगह को वे स्वर्ग कहते थे अब वह युद्धभूमि बन गयी है और जब मर्जी के खिलाफ उन्हें अपनी किस्मत का चुनाव करना पड़ तो उनकी दोस्ती को भी इससे जूझना पड़।

20 साल बाद किस्मत उन्हें एक बार फिर मिलाती है और तब वे यह नहीं जानते कि क्या सही है और क्या गलत।

उनके जीवन में कुछ भी सही नहीं चल रहा है। सफीना का भाई तारिक माछिल में सेना की गोली लगने से मारा जाता है और एक आतंकवादी उसके पिता की हत्या कर देता है। बिलाल गरीबी में जी रहा होता है तो दीवान घर छोड़कर मुंबई जा बसता है। वह अपना एक हाथ भी गंवा चुका है।

गुप्ता जिक्र करते हैं कि किस तरह से उनके मन में इस किताब का विचार आया। उन्होंने कहा, वर्ष 2009 में जब मैं कश्मीर गया था तब मैंने 12 साल के एक कश्मीरी मुस्लिम बच्चे को 20 वर्षीय सेना के जवान के साथ कहवा पीते देखा था। तब मैंने आस पास मौजूद नफरत के माहौल के बीच पनपते प्यार को देखा था।

उन्होंने बताया, जिन लोगों से मैं मिला था, जिनसे मैंने उनकी कहानी सुनी थी, उसे मैं कहानी की शक्ल में बताना चाहता था। उन्होंने कहा कि यह किताब संस्कृति, अपनेपन, प्रतिशोध और पश्चाताप की सार्वभौमिक कहानी है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।