BREAKING NEWS

नए कोविड दिशा-निर्देश: सभी जरूरी इंतजाम समय पर किए जाएंगे: दिल्ली हवाई अड्डा◾भारत में‘ओमीक्रोन’ का एक भी मामला नहीं, दक्षिण अफ्रीका से आये एक व्यक्ति में डेल्टा से अलग वायरस प्रतीत ◾किसानों को फसल बुवाई के लिए पर्याप्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए : मुख्यमंत्री ◾केजरीवाल जी दिल्लीवासियों तक आयुष्मान भारत योजना नहीं पहुंचने दे रहे हैंः BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा◾1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक, क्या आंदोलन खत्म करने पर होगी चर्चा ?◾कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾

स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, ड्रोन और होंगे तैनात स्नाईपर्स

जम्मू-कश्मीर में 75वें स्वतंत्रता दिवस को मनाने के लिए कार्यक्रम निर्धारित कर लिए गए हैं, साथ ही, स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए केंद्र शासित प्रदेश के सभी 20 जिलों में सुरक्षा के सख्त सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। 

मुख्य राष्ट्रीय ध्वजारोहण और परेड श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में होगी, जहां उपराज्यपाल मनोज सिन्हा सलामी लेंगे। उनके सलाहकार आरआर भटनागर जम्मू शहर के मौलाना आजाद स्टेडियम में झंडा फहराएंगे और मुख्य समारोह की अध्यक्षता करेंगे। 

15 अगस्त को जम्मू-कश्मीर के सभी 20 जिला मुख्यालयों, ब्लॉक और तहसील स्तर के कार्यालयों, शैक्षणिक संस्थानों और पंचायतों में ध्वजारोहण, औपचारिक परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रम निर्धारित हैं। इन समारोहों को सुरक्षित मनाने के लिए समारोह के दिन आतंकवादियों द्वारा बिना किसी नापाक हरकतों को रोकने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। 15 अगस्त से कुछ दिन पहले, श्रीनगर और जम्मू शहरों के दोनों मुख्य स्थलों को सुरक्षा बलों ने अपने कब्जे में ले लिया है। 

इन स्थानों की ओर जाने वाली सभी इमारतों और अन्य ढांचों को सुरक्षा बलों ने अपने कब्जे में ले लिया है, जिनके शार्प शूटर श्रीनगर और जम्मू के दो स्टेडियमों में और उसके आसपास नजर रखे हुए हैं। हाल की घटनाओं के कारण ड्रोन के माध्यम से हवाई निगरानी, मानव और इलेक्ट्रॉनिक खुफिया के माध्यम से जमीनी निगरानी बढ़ा दी गई है, जिसमें आतंकवादियों ने संवेदनशील प्रतिष्ठानों पर तोड़फोड़ आदि के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया था। 

उन्होंने कहा, "सभी संवेदनशील प्रतिष्ठानों पर खोजी कुत्तों और नागरिकों को तैनात किया गया है। यह सुनिश्चित करने के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं कि 15 अगस्त को समारोह सुचारू रूप से आयोजित हो।" एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, "श्रीनगर और जम्मू शहरों में प्रवेश करने वाले सभी वाहनों और इनमें रहने वालों की पूरी तरह से जांच की जाती है, जबकि यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि आम आदमी को कम से कम असुविधा हो।" 

ड्रॉप गेट्स, स्टैटिक और मोबाइल चेक पोस्ट कुछ ऐसी विशेषताएं हैं, जो 15 अगस्त से पहले जम्मू-कश्मीर के सभी शहरों और कस्बों में देखी जाती हैं। अधिकारी ने कहा कि विभिन्न सुरक्षा बल एजेंसियों और सेना के बीच पूर्ण तालमेल है जो स्थानीय प्रशासन को जब भी और जहां भी आवश्यक होगा, सहायता प्रदान करेगा। 

श्रीनगर और जम्मू में इन सभी व्यापक सुरक्षा व्यवस्थाओं के बावजूद, देश के गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस जैसे अवसरों पर पिछले इतने दशकों के दौरान की तुलना में इस साल केंद्र शासित प्रदेश में जीवन अधिक आरामदायक है। जम्मू और कश्मीर दोनों संभागों में यातायात सामान्य रूप से चल रहा है, जबकि दुकानों और अन्य प्रतिष्ठानों के लिए यह व्यवसाय सामान्य की तरह है।