मणिपुर में भाजपा के बीरेन सिंह ने जीता विश्वासमत

0
79

इंफाल : मणिपुर में भाजपा नीत सरकार ने राज्य विधानसभा में ध्वनिमत से विश्वासमत हासिल कर लिया। विश्वासमत में तृणमूल कांग्रेस के एकमात्र विधायक ने भी एन. बिरेन सिंह सरकार का समर्थन किया। राज्य की 60 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 21 विधायक हैं। पार्टी को नगा पीपुल्स फ्रंट (एपीएफ) के चार विधायकों, नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के चार, लोजपा के एकमात्र विधायक और एक निर्दलीय विधायक असबउद्दीन के अलावा कांग्रेस के एक विधायक का समर्थन प्राप्त है जिन्हें मंत्रिपरिषद में भी शामिल किया गया है।

तृणमूल कांग्रेस के एकमात्र विधायक टी. रोबिन्द्रो सिंह ने भी भाजपा नीत सरकार को समर्थन दिया है। हालांकि, उनकी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने आरोप लगाया है कि उन्होंने इसे लेकर पार्टी से मशविरा नहीं किया था। सिंह ने बताया, ”मैंने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व से मशविरा करने के बाद भाजपा को समर्थन दिया। मैंने पार्टी के आदेश का न तो कभी उल्लंघन किया है न ही इसके हितों के खिलाफ कुछ किया है। पार्टी ने मुझसे जो कुछ करने को कहा, मैंने किया।” तृणमूल कांग्रेस विधायक ने दलील दी कि यदि उन्होंने पार्टी लाइन का उल्लंघन किया होता तो उन्होंने अनुशासनिक कार्रवाई का सामना किया होता। ”लेकिन पार्टी ने ऐसा कुछ नहीं किया, जिसका मतलब है कि यह मेरे साथ खड़ी है।”

वहीं, पार्टी उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने कहा, ”चुनाव जीतने के बाद सिंह कांग्रेस के संपर्क में थे क्योंकि हमने उन्हें कहा था कि यदि कांग्रेस सरकार बनाने की स्थिति में होगी और हमारे समर्थन की जरूरत होगी तो हम अपना समर्थन देंगे।” रॉय ने कहा, ”लेकिन कांग्रेस जरूरी सीटें हासिल करने में नाकाम रही और सिंह हमसे चर्चा किए बगैर भाजपा नेताओं से मिलने गए और उनके साथ राजभवन चले गए।” यह पूछे जाने पर कि पार्टी ने उनके खिलाफ कोई अनुशासनिक कार्रवाई क्यों नहीं की, रॉय ने कहा, ”हम किसी भी वक्त अनुशासिनक कार्रवाई कर सकते हैं लेकिन हम ऐसी स्थिति पैदा नहीं करना चाहते जिसमें उनकी जान को खतरा हो।” इससे पहले दिन में भाजपा के युमनाम खेमचंद ङ्क्षसह को सदन का नया स्पीकर चुना गया। उन्हें कांग्रेस उम्मीदवार गोविंददास खोनथोउजम के खिलाफ ध्वनिमत से चुना गया। मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने 15 मार्च को एन. बिरेन सिंह को राज्य का प्रथम भाजपा मुख्यमंत्री नियुक्त किया था। राज्यपाल के अभिभाषण के बाद विधानसभा का तीन दिवसीय बजट सत्र शुरू होगा।

– भाषा

LEAVE A REPLY