BREAKING NEWS

RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾पुतिन ने यूक्रेन के इलाकों को रूस का हिस्सा किया घोषित , कीव और पश्चिमी देशों ने किया खारिज , EU ने कहा -कभी मान्यता नहीं देंगे ◾आखिर ! क्या होगा सोनिया का फैसला ?, अब सब की निगाहें राजस्थान पर◾PM मोदी ने अंबाजी मंदिर में प्रार्थना की, गब्बर तीर्थ में ‘महा आरती’ में हुए शामिल◾Maharashtra: महाराष्ट्र में कोविड-19 के 459 नए मामले, 5 मरीजों की मौत◾शाह के दौरे से पहले कश्मीर को दहलाना चाहते थे आतंकी, सुरक्षाबलों ने बरामद किया जखीरा ◾भाजपा ने थरूर को घोषणापत्र में भारत का विकृत नक्शा दिखाने पर लिया आड़े हाथ, जानें क्या कहा ... ◾कार्यकर्ताओं से थरूर का वादा - बंद करूंगा एक लाइन की पंरपरा, क्षत्रपों को दूंगा बढ़ावा ◾कांग्रेस का अध्यक्ष मैं हूं? थरूर बोले- पार्टी को लेकर मेरा अपना दृष्टिकोण.... मैं हूं शशि पीछे नहीं हटूंगा ◾KCR द्वारा राष्ट्रीय पार्टी की औपचारिक घोषणा के बाद विमान खरीदेगा टीआरएस ◾अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾ अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबूल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾पंजाब : कांग्रेस ने भगवंत मान पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, पूछा- क्या हुआ उन उपदेशों का ?◾CDS जनरल चौहान ने कार्यभार संभालने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में नामांकन कर सबको चौंकाने वाले केएन त्रिपाठी कौन ? चुनाव को लेकर कितने गंभीर ◾इलाहाबाद HC ने मुख्यमंत्री योगी द्वारा दिए गए राजस्थान में आपत्तिजनक भाषण पर दायर याचिका को खारिज किया ◾

कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने कहा, कर्नाटक में कांग्रेस एकजुट, अकेले और सामूहिक नेतृत्व में लड़ेंगे विधानसभा चुनाव

कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डी के शिवकुमार ने राज्य में पार्टी के एकजुट होने का दावा करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि अगले साल होने वाला विधानसभा चुनाव अकेले और सामूहिक नेतृत्व में लड़ा जाएगा तथा कांग्रेस 224 सदस्यीय विधानसभा में 135 से अधिक सीटें हासिल करेगी।उन्होंने साक्षात्कार में यह भी कहा कि उन्हें इस बात की बहुत ज्यादा परवाह नहीं है कि मुख्यमंत्री कौन होगा क्योंकि उनकी जिम्मेदारी कर्नाटक की भलाई के लिए कांग्रेस को जीत दिलाने की है।

राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार

पिछले कुछ महीनों के दौरान कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और शिवकुमार के बीच मतभेद की खबरें आई हैं। दोनों कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जाते हैं। राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल की भूमिका में है। प्रदेश में अगले साल के मध्य में विधानसभा चुनाव होने हैं।शिवकुमार ने दावा किया कि कर्नाटक की भारतीय जनता पार्टी की सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह से विफल रही है और उसे पता है कि वह चुनाव नहीं जीत रही है, इसलिए वह ध्रुवीकरण का सहारा ले रही है।

सिद्धरमैया की मुख्यमंत्री पद की दावेदारी से जुड़े सवाल 

विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर शिवकुमार ने कहा, जिस दिन से मैंने प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान संभाली, उसी दिन से मैं विधानसभा चुनाव को लक्ष्य बनाये हुए हूं। मैं यह पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि कर्नाटक में डबल इंजन की सरकार कोई योगदान नहीं दे रही है। लोग भी महसूस करते हैं कि कर्नाटक में कोई शासन नहीं है और यह ‘देश में भ्रष्टाचार की राजधानी’ बन गया है।सिद्धरमैया की मुख्यमंत्री पद की दावेदारी से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘मुझे इस बात की ज्यादा परवाह नहीं है कि कौन मुख्यमंत्री बनता है, कौन नहीं। मुझे जिम्मा मिला है कि कर्नाटक में कांग्रेस की जीत के लिये काम करना चाहिए ताकि राज्य का भला हो सके और लोगों को अच्छा शासन मिल सके।’’

 टिकट वितरण को लेकर सर्वसम्मति से फैसला

मुख्यमंत्री पद के चेहरे संबंधी सवाल पर शिवकुमार ने कहा, ‘‘कांग्रेस सामूहिक नेतृत्व के साथ चुनाव लड़ेगी। यह पार्टी का फैसला है, यही निर्देश मुझे दिया गया है। प्रेम और पूरी टीम भावना के साथ यह सुनिश्चित करूंगा कि हम एकजुट रहें। हमारा सामूहिक नेतृत्व होगा।’’टिकट वितरण से संबंधित सवाल पर उनका कहना था, ‘‘कर्नाटक (कांग्रेस) में कोई गुटबाजी नहीं है। कर्नाटक (कांग्रेस) एकजुट है। हम सभी साथ बैठेंगे। सिर्फ चुनाव जीतने की संभावना (टिकट का) एकमात्र आधार होगा। हम टिकट देने में युवाओं और महिलाओं को सामने लाकर सामाजिक असंतुलन दूर करेंगे। हम सभी साथ बैठकर टिकट वितरण को लेकर सर्वसम्मति से फैसला करेंगे।’’

भाजपा की तरह नकारात्मक मार्ग पर नहीं  जाएंगे 

कर्नाटक में पिछले कई महीनों से ध्रुवीकरण के मुद्दों के हावी रहने को लेकर उन्होंने भाजपा पर निशाना साधा और दावा किया कि अच्छा शासन देने और विकास में विफल रहने के कारण सत्तारूढ़ पार्टी ध्रुवीकरण का सहारा ले रही है।

उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के लोग जानते हैं कि वे अपनी जिम्मेदारी पूरी करने में विफल रहे हैं और उनकी सरकार अब नहीं आने वाली है। इसी कारण वे सांप्रदायिक तनाव पैदा करने और ध्रुवीकरण करने का प्रयास कर रहे हैं।’’यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस ध्रुवीकरण की काट कैसे ढूंढेगी, उन्होंने कहा, ‘‘हमारा मुख्य लक्ष्य यह है कि राज्य के लोग सुरक्षित रहें, शांति कायम रहे, सरकार विकासोन्मुखी हो तथा विकास पर ध्यान दे। हम भाजपा की तरह नकारात्मक मार्ग पर नहीं जाएंगे बल्कि कर्नाटक के विकास पर ध्यान देंगे।’’

राज्य में बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा 

उन्होंने दावा किया, कर्नाटक सरकार में 40 प्रतिशत कमीशन का बोलबाला है। कोविड के समय भ्रष्टाचार हुआ, रोजगार में भ्रष्टाचार है। राज्य में बेरोजगारी एक बड़ा मुद्दा है। इसलिए लोग महसूस करते हैं कि राज्य में नयी सरकार होनी चाहिए।शिवकुमार के अनुसार, आगामी चुनाव में भ्रष्टाचार सबसे बड़ा मुद्दा होगा।एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी और 224 सदस्यीय विधानसभा में 135 से अधिक सीटें हासिल करेगी।

सरकार पर सवाल खड़ा करने संबंधी कथित बयान 

बसवराज बोम्मई सरकार के कुछ मंत्रियों की ओर से अपनी ही सरकार पर सवाल खड़ा करने संबंधी कथित बयानों पर उन्होंने कहा, ‘‘सच्चाई बाहर आ चुकी है। आप सच को नहीं छिपा सकते।’’हाल ही में निकाले गए कांग्रेस के ‘फ्रीडम मार्च’ में उमड़ी भीड़ से उत्साहित शिवकुमार ने कहा, ‘‘यह एक गैर राजनीतिक यात्रा थी। हमने सबसे इसमें शामिल होने का आग्रह किया था। मैं बहुत खुश हूं कि इस मार्च में शामिल लोगों में 70 प्रतिशत से अधिक लोग युवा थे। इस यात्रा में 2.5 लाख से अधिक लोग शामिल हुए।’’कर्नाटक में वी डी सावरकर की तस्वीर से जुड़े विवाद पर उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के लोग ध्यान भटकाने का प्रयास कर रहे हैं। सावरकर कहीं भी मुद्दा नहीं हैं। भाजपा के लोग स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास को नहीं बदल सके और देश के लिए गांधी परिवार के योगदान से जुड़े इतिहास को भी वे नहीं बदल सकते।’’