BREAKING NEWS

आज का राशिफल (15 अगस्त 2022)◾Independence Day : प्रधानमंत्री मोदी आज लाल किले की प्राचीर से फहराएंगे तिरंगा, सुरक्षा ऐसी व्यवस्था की परिंदा भी पर न मार सके◾J&K : कश्मीर में आतंकवादियों के घरों पर तिरंगा फहराया◾राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में भारत की सफलता की कहानी पर प्रकाश डाला◾उपराष्ट्रपति ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को दी बधाई ◾PM मोदी 15 अगस्त को प्रमुख स्वास्थ्य परियोजनाओं की कर सकते हैं घोषणा◾ममता ने Modi सरकार पर साधा निशाना , कहा -गैर-राजग शासित राज्यों में सरकार गिराने की कोशिश कर रही है BJP◾हमने तरक्की की, पर कई देश भारत से आगे निकल गए भारत पीछे क्यों रह गया : AK◾जम्मू-कश्मीर : 'छड़ी-मुबारक' 'पूजन' और 'विसर्जन' के साथ वार्षिक अमरनाथ यात्रा का समापन◾राष्ट्रपति मुर्मू ने वीरता पुरस्कारों को मंजूरी दी; सेना के स्वान एक्सेल की सेवा को भी सराहा गया◾राजस्थान में दलित बच्चे की पिटाई करने के मामले में आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए : राहुल◾स्वतंत्रता दिवस से पहले पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस की मदद से बड़े आतंकी खतरे को किया नाकाम ◾स्वतंत्रता दिवस : दिल्ली से लेकर कश्मीर तक सुरक्षा के चाक चौबंद इंतज़ाम◾J&K : श्रीनगर के नौहट्टा इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी घायल◾एकनाथ का ऐलान - ‘वास्तविक’ शिवसेना और भाजपा मिलकर महाराष्ट्र में निकाय चुनाव लड़ेंगे◾J&K : श्रीनगर में 1850 मीटर लंबा तिरंगा प्रदर्शित किया गया, अधिकारियों ने बताया इसे देश में सबसे लंबा झंडा ◾भाकपा ने कहा- सम्मानजनक प्रतिनिधित्व मिलने पर नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में शामिल होंगे◾भारत ने दुनिया को लोकतंत्र की वास्तविक क्षमता का पता लगाने में मदद की: राष्ट्रपति मुर्मू◾Delhi: केजरीवाल ने कहा- ऊंचाई वाले 500 स्तंभों पर झंडा लहराने के साथ दिल्ली ‘तिरंगे का शहर’ बन गया◾मध्यप्रदेश : शहर की 80 फीसदी सरकार पर भी भाजपा का कब्जा ◾

बोर्ड परीक्षा के दौरान ‘हिजाब’ पहनने की अनुमति नहीं होगी: शिक्षा मंत्री बी. सी. नागेश

कर्नाटक के प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री बी. सी. नागेश ने रविवार को कहा कि राज्य बोर्ड की 10वीं कक्षा की परीक्षा के दौरान हिजाब पहनने की अनुमति नहीं दी जाएगी। परीक्षा सोमवार से शुरू होगी और 11 अप्रैल को संपन्न होगी। राज्य में 3,440 से अधिक केंद्रों में 40,000 से ज्यादा सभागारों में 8.76 लाख से अधिक छात्र परीक्षा में बैठने वाले हैं।

उच्च न्यायालय के आदेश के बाद हमने हिजाब पहनने को अनुमति नहीं दी

नागेश ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘उच्च न्यायालय के आदेश के बाद हमने उसे (हिजाब पहनने) को अनुमति नहीं दी है। हमने स्पष्टीकरण दिया है कि वे (हिजाब पहनी छात्राएं) हिजाब पहनकर कैम्पस में आ सकती हैं लेकिन उन्हें कक्षा में हिजाब उतारना होगा। परीक्षाओं के दौरान भी यह स्थिति लागू रहेगी।’’ उन्होंने कहा कि परीक्षा न देने वाले छात्रों के लिए फिर से परीक्षा नहीं होगी।

मंत्री ने बताया कि याचिकाकर्ताओं ने... 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय के वकीलों ने उच्च न्यायालय की संपूर्ण पीठ के समक्ष हिजाब के लिए दलील दी थी, जिसके बाद फैसला सुनाया गया। मंत्री ने बताया कि याचिकाकर्ताओं ने सरकारी अधिसूचना को चुनौती दी थी, जिसमें शांति, सौहार्द और लोक व्यवस्था में खलल डाल सकने वाले किसी भी वस्त्र के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गयी है। उन्होंने दलील दी थी कि हिजाब पहनना एक मौलिक अधिकार है।

कर्नाटक शिक्षा कानून और नियमों के अनुसार

नागेश ने कहा, ‘‘कर्नाटक शिक्षा कानून और नियमों के अनुसार, धार्मिक भावनाएं समान पोशाक संहिता का हिस्सा नहीं होनी चाहिए। उच्च न्यायालय ने यही अधिसूचना बरकरार रखी थी। कल, पोशाक संहिता के उल्लंघन की कोई गुंजाइश नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि परीक्षा सुचारू रूप से कराने के लिए व्यवस्था की गयी है।

मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने छात्रों से बिना डर के परीक्षा देने की अपील की

इस बीच, यहां से 120 किलोमीटर से अधिक दूरी पर स्थित हुब्बाली में कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने छात्रों से बिना डर के परीक्षा देने की अपील की। बोम्मई ने कहा, ‘‘छात्रों की भलाई और कोविड-19 के असर को ध्यान में रखते हुए हमने आसान परीक्षा कराने का फैसला किया है। बच्चों को परीक्षा देनी है और अपना भविष्य बनाना है। मैं उनसे बिना किसी डर के परीक्षा देने की अपील करता हूं।’