BREAKING NEWS

राजनाथ ने केंद्रीय विभागों के पुन आवंटन पर मंत्री समूह की अध्यक्षता की ◾कर्नाटक : येदियुरप्पा को अमित शाह ने दी मंत्रिमंडल विस्तार की हरी झंडी ◾जलवायु परिवर्तन पर ‘बेसिक’ देशों को एक सुर में आवाज उठानी होगी : जावड़ेकर ◾BJP सरकार का रवैया नकारात्मक, अमेठी-मैनपुरी में सैनिक स्कूल की स्थापना समाजवादी सरकार में हुई : अखिलेश◾MP : मुख्यमंत्री कमलनाथ उज्जैन मंदिर को दे सकते हैं 300 करोड़ की सौगात ◾TOP 20 NEWS 17 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ AIIMS अस्पताल में लगी भीषण आग, अभी तक कोई हताहत नहीं◾जेटली जीवन रक्षक प्रणाली पर : नीतीश, पीयूष गोयल समेत अन्य नेता हाल जानने एम्स पहुंचे ◾PM मोदी : भूटान का पड़ोसी होना सौभाग्य कि बात, भूटान कि पंचवर्षीय योजनाओं में करेंगे सहयोग◾पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद◾प्रियंका गांधी बोलीं- देश में 'भयंकर मंदी' लेकिन सरकार के लोग खामोश◾ मायावती का ट्वीट- देश में आर्थिक मंदी का खतरा, इसे गंभीरता से लें केंद्र◾AAP के पूर्व विधायक कपिल मिश्रा भाजपा में शामिल◾चिदंबरम बोले- मीर को नजरबंद करना गैरकानूनी, नागरिकों की स्वतंत्रता सुनिश्चित करें अदालतें◾राजनाथ के आवास पर ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की बैठक शुरू, शाह समेत कई मंत्री मौजूद◾भूटान पहुंचे मोदी का PM लोटे ने एयरपोर्ट पर किया स्वागत, दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर◾शरद पवार बोले- पता नहीं राणे का कांग्रेस में शामिल होने का फैसला गलत था या बड़ी भूल◾उत्तर कोरिया ने किया नए हथियार का परीक्षण, किम ने जताया संतोष◾12 दिन बाद आज से घाटी में फोन और जम्मू समेत कई इलाकों में 2G इंटरनेट सेवा बहाल◾राम माधव बोले- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को मिलेगा देश के कानूनों के अनुसार लाभ◾

अन्य राज्य

कर्नाटक : बाढ़ में मरने वालों की संख्या हुई 11, स्कूल-कॉलेज 10 अगस्त तक के लिए बंद

कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्थिति गंभीर बनी हुई है और पिछले दो सप्ताहके दौरान बाढ़ जनित घटनाओं में मरने वालों की संख्या 11 हो गई है। राज्य के 30 में से 15 जिले बाढ़ की गिरफ्त में हैं जहां सामान्य जन जीवन प्रभावित है। महाराष्ट्र और कर्नाटक के विभिन्न बांधों से भारी मात्रा में पानी छोड़ जाने के कारण राज्य में बाढ़ की स्थिति और गंभीर हो गई है। 

राज्य के कई जगहों पर भूस्खलन और पेड़ के गिरने से सड़क और रेल यातायात बुरी तरह प्रभावित है। उत्तर कर्नाटक के कई हिस्सों और पश्चिमी घाट के अंतर्गत आने वाले जिलों में लगातार बारिश हो रही है। बेलगावा जिले के गोकक शहर में बाढ़ का पानी घुस गया है। 

उत्तर कर्नाटक के नियाग्रा जल-प्रपात माने जाने वाले गोकक जलप्रपात में पानी का स्तर बहुत बढ़ गया है। राज्य के कई जिलों में लोग बाढ़ के पानी में फंसे हुए हैं और उन्हें पुनर्वास केंद्रों में सुरक्षित पहुंचाने के प्रयास जारी हैं। अथानी तालुक के 21 से अधिक गांव में बाढ़ का पानी घुस गया है। 

बाढ़-प्रभावित गांवों में मवेशियों की हालत बहुत खराब है। उन्हें खुले स्थानों पर पेड़ से बांध दिया गया है जहां वे बारिश में लगातार भींगने के लिए मजबूर हैं। यादगीर, बेगालकोट, बेलागावी, रायचूर, वीजापुर जिलों समेत पूरे उत्तर कनार्टक में बाढ़ की वजह से स्थिति बहुत गंभीर है। 

मदीकेरी और विराजपेट को जोड़ने वाले एक पुल पर बाढ़ का पानी बह रहा है जिसके कारण दोनों शहरों के बीच यातायात बाधित हो गया है। बाढ़ और बारिश के कारण व्यावसायिक प्रतिष्ठानें और बाजार पूरी तरह से बंद हैं और लोगों को अपने-अपने घरों के अंदर ही रहना पड़ रहा है। 

चारमाडी घाट सेक्शन में चार स्थानों पर भूस्खलन होने की सूचना है जिसकी वजह से अधिकारियों ने वाहनों की आवाजाही स्थगित कर दी है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार महाराष्ट्र के कोयना जलाशय से और पानी के छोड़ जाने की आशंका है जिसकी वजह से उत्तर कर्नाटक में बाढ़ की स्थिति और गंभीर हो सकती है। 

राज्य के बाढ़-प्रभावित क्षेत्रों में स्कूल और कॉलेजों को 10 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया है और इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सीईटी शुल्क के भुगतान की तिथि भी बढ़ दी गई है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने मौजूदा स्थिति पर अधिकारियों के साथ चर्चा की है। 

उन्होंने बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित जिले बेलगावी का दौरा किया और वह अगले तीन दिनों के दौरान वह अन्य प्रभावित जिलों की यात्रा भी करेंगे। उन्होंने कहा है कि बाढ़ जनित घटनाओं में मरने वाले लोगों के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। 

जिला अधिकारियों ने लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने और पुलों को पार न करने की सलाह दी है। सेना, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और दमकल कर्मियों के साथ-साथ कुछ गैर-सरकारी संगठन लोगों को बाढ़ प्रभावित स्थलों से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए दिन-रात कड़ मशक्कत कर रहे हैं।