BREAKING NEWS

दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾

असम : हिरासत में उत्पीड़न करने पर 2 पुलिसकर्मी निलंबित, NCW ने की कड़ी कार्रवाई की मांग

असम के दरांग जिले में हिरासत में तीन महिलाओं का कथित रूप से उत्पीड़न करने पर एक महिला कांस्टेबल समेत दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। तीनों बहनों द्वारा दरांग के पुलिस अधीक्षक (एसपी) के पास शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने 11 सितंबर को बरहा पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी महेंद्र शर्मा और कांस्टेबल बिनीता बोरो को निलंबित कर दिया। 

डीजीपी कुलधर सैकिया का कहना है, "2 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। गंभीर मामला दर्ज किया गया है। पूछताछ चल रही है। पूछताछ की रिपोर्ट 7 दिनों के भीतर सौंपी जानी है।" वहीं इस पूरे मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने राज्य प्रशासन से कहा कि जिम्मेदार पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। आयोग की ओर से जारी बयान के मुताबिक, यह घटना इसलिए भी गंभीर है क्योंकि इसे कानून-व्यवस्था की रक्षा करने की जिम्मेदारी वाली पुलिस के लोगों की तरफ से अंजाम दिया गया। 

महिला आयोग ने असम प्रशासन से कहा है कि इस घटना में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि आगे ऐसी कोई घटना नहीं हो। शिकायत के अनुसार, आरोपी पुलिसकर्मियों ने छह सितंबर को उनका उत्पीड़न किया था और उनके कपड़े उतरवा दिए थे। आरोपों की जांच शुरू करा दी गई है। 

एक लड़की के परिजनों ने एफआईआर दर्ज की थी कि छह सितंबर को एक लड़का उनकी बेटी को भगा ले गया है। इसके बाद पुलिस द्वारा कथित रूप से लड़के की बहनों को हिरासत में लेकर उन्हें बुरी तरह पीटा गया और उनके कपड़े उतरवाए गए। उत्पीड़न के कारण तीनों बहनों में से एक ने, जो गर्भवती थी, मृत बच्चे को जन्म दिया। उसी शाम लड़के ने जब लड़की के साथ आत्मसमर्पण कर दिया, तब पुलिस ने तीनों बहनों को रिहा किया।