BREAKING NEWS

भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में 80वें स्थान पर भारत◾अमित शाह ने केजरीवाल पर लगाया दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप ◾मैंने अपना भगवा रंग नहीं बदला है : उद्धव ठाकरे◾राज की मनसे ने अपनाया भगवा झंडा, घुसपैठियों को बाहर करने के लिए मोदी सरकार को समर्थन◾भाजपा नेता ने मोदी को चेताया, देश बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ◾पासवान से मिला ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल, एथेनॉल प्रौद्योगिकी साझेदारी पर बातचीत◾हिंदू समाज में साधु-संतों को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती : अखिलेश◾पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें : ठाकरे◾दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾

27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण को चुनौती : मध्यप्रदेश सरकार को उच्च न्यायालय का नोटिस

मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने राज्य में सरकारी नौकरियों और शिक्षा में अन्य पिछड़ा वर्ग :ओबीसी: के लिये 14 प्रतिशत आरक्षण से बढ़ाकर 27 फीसद करने को चुनौती देने वाली याचिका पर शुक्रवार को राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। 

न्यायमूर्ति जे के महेश्वरी तथा न्यायमूर्ति अंजुली पालो की पीठ ने भोपाल निवासी प्रत्युष्य द्विवेदी सहित चार लोगों द्वारा दायर याचिका की सुनवाई करते हुए राज्य के प्रमुख सचिव गृह विभाग, सामान्य प्रशासन विभाग तथा विधि विभाग के साथ-साथ सचिव मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। 

याचिकाकर्ताओं के अधिवक्ता संघी ने पीठ को बताया कि वर्तमान में अनुसूचित जाति वर्ग के लिए 16 प्रतिशत तथा अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए 20 प्रतिशत आरक्षण है। राज्य सरकार ने ओबीसी वर्ग के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने का एक्ट पारित कर दिया है। 

इसके अलावा 10 प्रतिशत आरक्षण सामान्य जाति के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों (ईडब्ल्यूएस) के लिए निर्धारित है। इस प्रकार कुल आरक्षण प्रतिशत 73 प्रतिशत पहुंच जायेगा, जो संविधान की अनुच्छेद 14, 15 तथा 16 में दिये गये प्रावधानों का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के स्पस्ष्ट आदेश है कि कुल आरक्षण 50 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए।