प्रेमिका की हत्या कर प्रयागराज में साधु बनकर रह रहे एक युवक को पुलिस ने मध्य प्रदेश के छतरपुर में भागवत कथा वाचन करते वक़्त गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि आरोपी ने पांच साल पहले अपनी प्रेमिका की हत्या कर दी थी और साधु के भेष में वह छिपा हुआ था। पुलिस के मुताबिक, 18 अक्टूबर 2013 को भिलाई के रामनगर में एक युवती की लाश मिली थी। उसकी पहचान रीता साहू के रूप में की गई थी। मृतका का प्रेमी सुशील दूबे घटना के बाद से फरार था।

आरोपी सुशील ने बताया कि वो रीता से बहुत प्यार करता था। रीता के दूसरे लड़कों से शारीरिक संबंध थे। कई बार मना करने के बावजूद वह उनसे मिलती थी इसलिए सुशील ने गुस्से में उसकी हत्या कर दी थी। जिसके बाद वह प्रयागराज में साधु बनकर कथा-भागवत सुनाने लगा। दुर्ग के एडिश्नल एसपी विजय कुमार ने बताया कि पेंडिंग केसों की समीक्षा के दौरान यह मामला सामने आया, जिसके बाद दोबारा से मामले की छानबीन शुरू की गई।

सुशील के लोकेशन का पता करने के लिए पुलिस ने उसकी पत्नी का कॉल ट्रेस किया, जिससे पता चला कि उसकी पत्नी पिछले दो सालों से किसी हनुमान दास महाराज लगातार बात कर रही है। जिसके बाद शक के आधार पर पुलिस ने छानबीन शुरू की और हनुमान दास तक जा पहुंची। सुशील की पहचान करने के लिए पुलिस ने उसका स्कैच बनवाया था। जिसके आधार पर उसकी पहचान हो सकी।

पुलिस ने जिस वक्त सुशील को गिरफ्तार किया उस समय वह संत हनुमान दास महाराज के नाम से मध्य प्रदेश के छतरपुर में ढेरों भक्तों के बीच भागवत कथा का वाचन कर रहा था। हनुमान दास को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस उसे भिलाई ले आई। जहां उससे पूछताछ जारी है। पुलिस के मुताबिक आरोपी सुशील दुबे रामनगर के सुपेला गांव का रहने वाला है।