BREAKING NEWS

सिंघु बॉर्डर से पकड़ा गया संदिग्ध, किसानों ने साजिश रचे जाने का आरोप लगाया◾आज का राशिफल (23 जनवरी 2021)◾अयोध्या में राम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण कार्य फिर शुरू ◾दुनिया के कई देश भारत में बनी कोरोना वैक्सीन के प्रति इच्छुक◾रद्द हुए, तो कोई सरकार 10-15 साल तक इन कानूनों को लाने का साहस नहीं करेगी : नीति आयोग सदस्य◾दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सुरक्षा कड़ी की ◾मोदी के दौरे से पहले, आसु ने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के लिए असम में मशाल जुलूस निकाला ◾राम मंदिर के लिए दान के खिलाफ विधायक की टिप्पणी, भाजपा का तेलंगाना में विरोध प्रदर्शन ◾गुरुग्राम : टीका लगने के 130 घंटे बाद हेल्थ वर्कर की मौत, अधिकारियों ने कहा- टीके से कोई लेना-देना नहीं◾बिहार : सोशल मीडिया पर जारी आदेश को लेकर तेजस्वी ने CM नितीश को दी चुनौती, कहा- 'करो गिरफ्तार'◾पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी ने जगमोहन डालमिया की विधायक बेटी वैशाली को पार्टी से निष्कासित किया◾बैठक के बाद कृषि मंत्री तोमर बोले- कुछ ‘‘ताकतें’’ हैं जो अपने निजी स्वार्थ के लिए आंदोलन खत्म नहीं करना चाहती◾किसानों और सरकार के बीच की बैठक रही बेनतीजा, अगली वार्ता के लिए अभी कोई तारीख तय नहीं◾बंगाल चुनाव में सुरक्षा को लेकर कई दलों ने जताई चिंता : CEC सुनील अरोड़ा◾केसी वेणुगोपाल का ऐलान- जून 2021 तक मिल जाएगा निर्वाचित कांग्रेस अध्यक्ष◾पूर्व CJI रंजन गोगोई को मिली Z+ सिक्योरिटी, 500 साल पुराने मामले में सुनाया था ऐतिहासिक फैसला◾BJP को छोड़कर सभी राजनीतिक दल परिवारवाद से ग्रस्‍त, 'वाद' शब्द लोकतंत्र को करता है कमजोर : नड्डा◾सोशल मीडिया पर टिप्पणी को लेकर बिहार सरकार के आदेश पर बिफरे तेजस्वी, मांझी ने किया बचाव◾कोरोना वैक्सीन दुनिया की सबसे बड़ी जरूरत, भारत इस मामले में पूरी तरह आत्मनिर्भर : पीएम मोदी ◾ममता के एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा, BJP में हो सकते हैं शामिल◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

BJP के खिलाफ लड़ाई में TMC की पेशकश पर बोली कांग्रेस-विलय कर लें पार्टी

बंगाल में आगामी चुनावों को देखते हुए बीजेपी और राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी आक्रामक रुख अपनाए हुए है। टीएमसी को राज्य की सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए बंगाल में बीजेपी का चुनावी समीकरण तैयार करने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अमित शाह लगातार बंगाल का दौरा कर रहे हैं। 

बीजेपी के इन प्रयासों को विफल करने के लिए टीएमसी ने विपक्षी दलों से ममता के समर्थन की अपील की है, जिसपर विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया सामने आई है। कांग्रेस ने इस सलाह के बाद तृणमूल कांग्रेस को गठबंधन बनाने के स्थान पर पार्टी (कांग्रेस) में विलय कर लेने की पेशकश की है। वहीं वाम मोर्चा ने भी पीठ दिखा दी है।

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद सौगत रॉय ने पत्रकारों से कहा, ‘‘अगर वाम मोर्चा और कांग्रेस वास्तव में बीजेपी के खिलाफ हैं तो उन्हें भगवा दल की सांप्रदायिक एवं विभाजनकारी राजनीति के खिलाफ लड़ाई में ममता बनर्जी का साथ देना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ही ‘‘बीजेपी के खिलाफ धर्मनिरपेक्ष राजनीति का असली चेहरा’’ हैं।’’ 

बंगाल : ममता के मंत्री ने बंद किया NH, वैक्सीन ले जा रहे वाहन को करना पड़ा डायवर्ट

तृणमूल कांग्रेस के प्रस्ताव पर राज्य कांग्रेस प्रमुख अधीर रंजन चौधरी ने प्रदेश में बीजेपी के मजबूत होने के लिए सत्तारूढ़ दल को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा, ‘‘हमें तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन में कोई दिलचस्पी नहीं है। पिछले 10 सालों से हमारे विधायकों को खरीदने के बाद तृणमूल कांग्रेस को अब गठबंधन में दिलचस्पी क्यों है। अगर ममता बनर्जी बीजेपी के खिलाफ लड़ने को इच्छुक हैं तो उन्हें कांग्रेस में शामिल हो जाना चाहिए क्योंकि वही सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई का एकमात्र देशव्यापी मंच है।’’ 

बनर्जी ने कांग्रेस से अलग होकर 1998 में तृणमूल कांग्रेस की स्थापना की थी। माकपा के वरिष्ठ नेता सुजान चक्रवर्ती ने आश्चर्य जताया कि तृणमूल कांग्रेस वाम मोर्चा और कांग्रेस को राज्य में नगण्य राजनीतिक बल करार देने के बाद उनके साथ गठबंधन के लिए बेकरार क्यों है। उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी भी वाम मोर्चा को लुभाने का प्रयास कर रही है।

 उन्होंने कहा, ‘‘यह दिखाता है कि वह (वाम मोर्चा) अभी भी महत्वपूर्ण हैं। वाम मोर्चा और कांग्रेस विधानसभा चुनावों में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी दोनों को हराएंगे।’’ घटनाक्रम पर पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष और लोकसभा सदस्य दिलीप घोष ने कहा कि यह तृणमूल कांग्रेस की ‘हताशा’ को दर्शाता है। उन्होंने कहा, ‘‘वे (तृणमून कांग्रेस) हमसे अकेले नहीं लड़ सकते हैं, इसलिए वे अन्य दलों से मदद मांग रहे हैं। इससे साबित होता है कि भाजपा ही तृणमूल कांग्रेस का एकमात्र विकल्प है।’’