BREAKING NEWS

सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾खट्टर ने केजरीवाल को लिया आड़े हाथ, कहा- जैन को नहीं हटाया तो... कोर्ट या फिर लोग हटा देंगे◾सांप्रदायिक आधार पर प्रचार कर रही BJP, देश को आगे ले जाने का नहीं है कोई विजन : खड़गे◾दहशत में राष्ट्रीय राजधानी, स्कूल को ईमेल से मिली बम की धमकी, जांच में जुटा प्रशासन ◾गोवा में ड्रग्स का कहर, भाजपा विधायक बोले- राज्य में नए तस्कर आ रहे हैं ◾गहलोत द्वारा पायलट को 'गद्दार' कहे जाने पर बोले राहुल-दोनों नेता कांग्रेस की संपत्ति◾पांडव नगर हत्याकांड : खून बहने के लिए गला काटकर छोड़ा शव, फिर किए 10 टुकड़े◾पश्चिम बंगाल : CM ममता बनर्जी कर सकती हैं दो नए जिलों की आधिकारिक घोषणा ◾Vijay Hazare Trophy: रुतुराज गायकवाड़ का धमाल, एक ओवर में सात छक्के जड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड◾CM अरविंद केजरीवाल ने किया दावा, कहा- गुजरात में मिल रहा है महिलाओं और युवाओं का भारी समर्थन ◾इस्लामिक कट्टरपंथियों का एजेंडा बेनकाब, महिला के जबरन धर्मांतरण की कोशिश के आरोप में 3 लोगों पर केस दर्ज◾Gujarat Polls: भाजपा को झटका! पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास ने थामा कांग्रेस का दामन ◾चीन : राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जीरो-कोविड नीति को लेकर हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, 'आजादी-आजादी' के लगे नारे ◾Border dispute: सीएम बोम्मई जाएंगे दिल्ली, महाराष्ट्र सीमा विवाद पर नड्डा, शीर्ष अधिवक्ता से करेंगे मुलाकात◾गुजरात : कांग्रेस खेमे में गए BJP के पूर्व मंत्री, टिकट कटने से नाराज जयनारायण व्यास ने छोड़ी पार्टी◾लोकप्रिय लेखक चेतन भगत को आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद उर्फी जावेद ने लिया निशाने पर◾दिल्ली : मां-बेटे ने पिता की हत्या कर फ्रिज में रखा शव, नाले और रामलीला मैदान में फेंके टुकड़े◾मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई लोगों की आंखों की रोशनी, प्रशासन ने नेत्र शिविरों पर लगाई रोक◾कांग्रेस अध्यक्ष का PM मोदी पर हमला, कहा-‘लोग आपकी चाय तो पीते हैं, मेरी तो पीते ही नहीं’◾इटावा रेलवे स्टेशन पर उस वक़्त चौंक गए यात्री जब माइक से गूंजा 'डिंपल भाभी जिंदाबाद' का नारा◾

CAA विरोधी आंदोलन में शामिल होने वाले अखिल गोगोई को राहत, NIA कोर्ट ने किया बरी

असम के नेता अखिल गोगोई को NIA कोर्ट से राहत मिली है। यूएपीए के तहत सीएए विरोधी प्रदर्शनों में शामिल होने के मामले में गोगोई को कोर्ट ने बरी कर दिया है। गुवाहाटी में राष्ट्रीय जांच एजेंसी की एक अदालत ने यह फैसला सुनाया है। गोगोई दिसंबर 2019 से विभिन्न मामलों में जेल में बंद हैं।

बीते साल ही उन्होंने रायजोर दल की स्थापना की थी और शिबसागर विधानसभा सीट से हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में उतरे थे। हिरासत में रहने के बावजूद वह चुनाव जीत गए थे। राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अखिल गोगोई के खिलाफ दो केस दायर किए थे। 

आज एनआईए कोर्ट ने अखिल गोगोई को छाबुआ थाने में दर्ज मामले में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत सभी आरोपों से मुक्त कर दिया। अप्रैल में, उन्हें इस मामले में बरी कर दिया गया था, लेकिन केंद्रीय एजेंसी ने फिर से अपील की थी।

गोगोई पर लगभग 600 लोगों की भीड़ का नेतृत्व करने का आरोप लगाने के बाद मामला दर्ज किया गया था, जिसके कारण "आर्थिक नाकाबंदी", "पत्थर फेंकना" और "ड्यूटी पर एक पुलिसकर्मी" की हत्या हुई थी। हालांकि, उन्हें न्यायिक हिरासत में रहना होगा क्योंकि एक अन्य मामला भी एनआईए द्वारा लिया गया था, जो अभी भी लंबित है। 

सीएए-विरोध के दौरान, अखिल गोगोई ने अधिनियम के विरोध में 61 से अधिक संगठनों के एक समूह का नेतृत्व किया था। हिंसक प्रदर्शनों के बाद पूरे असम (सिबसागर, डिब्रूगढ़, गौरीसागर, टीओक, जोरहाट) में उनके खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए थे।