उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में कानून की पढ़ाई करने वाले छात्र दिलीप सरोज की हत्या के मामले में माहौल गरमा गया है। बदमाशों ने दिलीप को रॉड से पीटा और ईंट से कुचल कर फरार हो गए है। इस मामले में अबतक दो आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं और मुख्य आरोपी अभी फरार है। यहां पर छात्रों के साथ ही वकील तथा व्यापारी भी हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। जिलाधिकारी सुहास एलवाइ के आवास को छात्रों ने घेर रखा है। उनको बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं। वहीं, लापरवाही बरतने के आरोप में चौकी प्रभारी समेत तीन पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है।

इलाहाबाद में छात्र की हत्या के बाद बवाल बढ़ा, मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी की मांग

छात्रों की मांग है कि गाजीपुर में टीटीई विजय सिंह को तत्काल गिरफ्तार किया जाए। छात्रों ने शहर के कई सड़कों पर बड़ा जुलूस निकाला है। कर्नलगंज थाना क्षेत्र के एक रेस्टोरेंट में शुक्रवार रात रात बेरहमी से पीटे गए एलएलबी के छात्र दिलीप कुमार सरोज की कल इलाज के दौरान अस्पताल में मौत हो गई। इस हत्या के मामले में अभी तक मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। उसकी गिरफ्तारी को लेकर समाजवादी छात्रसभा और आईसा के छात्रों ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एसएसपी दफ्तर तक जुलूस निकाला। इस दौरान छात्रों ने एसएसपी दफ्तर का घेरावकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। छात्रों ने मृतक के परिवार के लोगों को मुआवजा देने के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है।

एसएसपी ने प्रदर्शनकारियों को सभी आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी करने का आश्वासन दिया। माना जा रहा है कि हत्यारोपी के गिरफ्तार ड्राइवर को आज दिन में ही मीडिया के सामने पेश किया जायेगा। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिसमें से एक वेटर मुन्ना सिंह और दूसरा होटल का मालिक अमित उपाध्याय है। मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच सहित तीन टीमों का गठन किया गया है। वहीं, दलित छात्र दिलीप सरोज की हत्या में लापरवाही के आरोप में इलाके के चौकी प्रभारी और दो सिपाहियों की निलंबित कर दिया गया है। इलाके के एसएचओ के खिलाफ भी जांच के आदेश दिए गए हैं। मामले का मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह अभी तक फरार है।

अन्य विशेष खबरों के लिए पढ़िये पंजाब केसरी की अन्य रिपोर्ट।