छत्तीसगढ़ में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज संकल्प पत्र जारी किया। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री रमन सिंह मौजूद रहे। संकल्प पत्र जारी करते हुए अमित शाह ने रमन सरकार की उपलब्धियां गिनवाई। उन्होंने कहा कि भाजपा का संकल्प पत्र 15 साल के अनुभव का निचोड है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भ्रष्टाचारविहीन प्रक्रिया से सरकारी योजनाओं को सरकार जनता तक पहुंचाने में सफल रही। कृषि की लागत कम करने में सबसे ज्यादा सफलता अगर किसी सरकार ने पाई है, वह छत्तीसगढ़ की रमन सरकार है। किसान के घर समृद्धि पहुंचाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि अभी एक मणिकंचन योग है, केंद्र में मोदी जी की सरकार है और राज्य में रमन सिंह जी की सरकार है और ये दोनों सरकार राज्य को और आगे ले जाएंगे।

शाह ने आगे कहा कि किसानों को मुफ्त में अल्पकालीन लोन देने वाला छत्तीसगढ़ पहला राज्य है। इस दौरान नक्सलवाद और कांग्रेस पर जमकर प्रहार करते हुए अमित शाह ने कहा कि जिस पार्टी को नक्सलवाद में क्रांति दिखाई देती हो वो छत्तीसगढ़ का भला नहीं कर सकती है। उन्होंने कहा कि उन्हें नक्सलवाद में क्रांति नहीं दिखाई देती है।

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने राहुल गांधी के नेतृत्व में जारी किया घोषणा पत्र

शाह ने कहा कि कांग्रेस ने देश में करीब-करीब 55 साल शासन किया है लेकिन देश के अंतिम व्यक्ति तक विकास पहुंचाने का काम केंद्र की मोदी सरकार और राज्य में भाजपा सरकारें कर रही है। भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि बीजेपी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की मुख्य सिफारिश डेढ़ गुना लागत मूल्य को स्वीकार किया, जिससे किसानों को फायदा पहंचा।

उन्होंने कहा कि धान की खरीद को 5 लाख मीट्रिक टन से 70 लाख मीट्रिक टन तक पहुंचाने का काम रमन सरकार ने किया है। इसके अलावा अमित शाह ने कहा कि आज हर घर में बिजली पहुंचाने की दिशा में छत्तीसगढ़ आगे निकल गया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के दूर-दराज के अंचलों तक 24 घंटे बिजली, शुद्ध पानी, पक्की सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य, परिवहन सुविधाओं का विस्तार करना रमन सरकार की बड़ी उपलब्धि है।

वही, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि छत्तीसगढ़ के अंदर काफी परिवर्तन आए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए पांच सौ करोड़ रुपये किए। कुल मिलाकर 18 हजार करोड़ रुपये से तमाम विकास कार्य किए। राज्य में मुद्रा योजना के तहत 26 लाख लोगों को लाभ मिला वहीं उज्जवला योजना के 20 लाख लाभार्थी हुए।

बता दें कि छत्तीसगढ़ विधानसभा सीटों पर 12 नवंबर को पहले चरण का मतदान है। वही, 20 नवंबर को राज्य में दूसरे चरण का मतदान है। वोटों की गिनती 11 दिसबंर को होगी।