BREAKING NEWS

1988 रोड रेज केस : एक साल की सजा पर बोले सिद्धू-कानून का सम्मान करूंगा◾Delhi High Court ने लगाई घर-घर राशन योजना पर रोक, कहा: दिल्ली सरकार नहीं कर सकती केंद्र के राशन का इस्तेमाल ◾'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक◾जिसका शिवपाल को था इंतजार.. वो घड़ी आ गई! आजम की जमानत का चाचा-भतीजे पर कैसा होगा असर? ◾SC से रिहाई के बाद फिर जेल जा सकते हैं आजम खान, जानिए किस मामले में फंस सकते हैं SP नेता ◾Delhi News: राजधानी फिर हुई धुआं-धुंआ! मुस्तफाबाद की फैक्ट्री में लगी भीषण आग, दमकल की गाड़ियां मौके पर मौजूद◾नवजोत सिंह सिद्धू को SC से मिला बड़ा झटका, 34 वर्ष पुराने रोडरेज मामले में मिली एक वर्ष की सजा ◾कांग्रेस का हाथ छोड़ हार्दिक पटेल खोल रहे पार्टी की पोल.. BJP में शामिल होने पर कही यह बात ◾ कांग्रेस का छुटा हाथ अब बीजेपी के साथ! वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾दिल्ली : बवाना की थिनर फैक्ट्री में भीषण आग से हड़कंप, 17 फायर टेंडर मौके पर मौजूद◾परिवारिक पार्टियों का उद्देश्य सिर्फ सत्ता पाना, 'भाई-बहन' की पार्टी बनकर रह गई है कांग्रेस : नड्डा ◾टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक दोषी करार, इस तारीख को सुनाई जाएगी सजा◾ कृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह विवाद पर बड़ी खबर : मथुरा की सिविल कोर्ट में होगी सुनवाई, पुलिस हुई अलर्ट ◾औरंगजेब के मकबरे पर लगा ताला..., महाराष्ट्र में बढ़ती हलचल के बीच ASI का फैसला, जानें पूरा मामला ◾दिल्ली : अनिल बैजल के बाद कौन होगा LG पद का दावेदार? इन चार नामों पर चर्चा◾'पत्थर, लाल झंडा और दो पीपल के पेड़...बन गया मंदिर', अखिलेश के बयान पर भड़की BJP◾22 महीनों से जेल में बंद आजम खान ने ली राहत की सांस! SC ने दी अंतरिम जमानत, शर्तों को लेकर कहा... ◾J&K : पुलिस ने शराब के ठेके पर हमले का मामला सुलझाया, LET के चार आतंकियों को किया गिरफ्तार ◾जहां चुनौतियां हैं बड़ी... वहां भारत बन रहा उम्मीद, PM मोदी बोले- देश पेश कर रहा समस्याओं का समाधान ◾ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट में टली सुनवाई, हिंदू पक्ष ने मांगा कल का समय◾

अनिल देशमुख ने धन शोधन मामले में जमानत के लिए विशेष अदालत में दायर की याचिका

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता अनिल देशमुख ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उनके खिलाफ दर्ज किए गए धन शोधन मामले में निर्धारित अवधि में आरोप-पत्र दाखिल नहीं किए जाने पर जमानत के लिये मंगलवार को यहां विशेष अदालत में याचिका दायर की।  

दो नवंबर 2021 से ईडी की हिरासत में देशमुख  

उधर, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दो नवंबर 2021 को देशमुख को गिरफ्तार किया था और फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं। अधिवक्ता अनिकेत निकम के जरिये दायर याचिका में देशमुख ने कहा कि विशेष अदालत ने उन्हें आगे की न्यायिक हिरासत में भेजने से पहले ईडी द्वारा दायर अभियोजन शिकायत (आरोपपत्र) पर संज्ञान नहीं लिया। देशमुख ने बताया कि वह 60 दिन से हिरासत में हैं और चूंकि अदालत ने अभी तक आरोप पत्र पर संज्ञान नहीं लिया है, इसलिए उन्हें दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 167 के प्रावधानों के तहत वैधानिक जमानत दी जानी चाहिए। 

सीआरपीसी की धारा 167 के अनुसार, यदि आरोप पत्र दायर नहीं किया जाता है और किसी व्यक्ति की गिरफ्तारी के 60 दिन के भीतर उसका संज्ञान नहीं लिया जाता है, तो वह वैधानिक जमानत की मांग कर सकता है। देशमुख ने अपने आवेदन में दावा किया कि 29 दिसंबर, 2021 को ईडी ने अदालत को यह बताए बिना कि 60 दिनों की वैधानिक अवधि एक जनवरी, 2022 को समाप्त हो रही है, 9 जनवरी, 2022 तक के लिये “गुपचुप तरीके से” उनकी न्यायिक हिरासत प्राप्त कर ली।  

तो आरोपी को वैधानिक जमानत का अधिकार मिल जाता है 

याचिका में कहा गया है, “कानून के प्रावधानों के अनुसार, यदि 60 दिनों की उक्त अवधि की समाप्ति पर जांच पूरी नहीं होती है और आरोप पत्र का संज्ञान नहीं लिया जाता है तो आरोपी को वैधानिक जमानत का एक अपरिहार्य अधिकार मिल जाता है।” इसमें कहा गया है कि आवेदक (देशमुख) अदालत की संतुष्टि के अनुसार मुचलका/जमानत देने के लिए तैयार है। धन शोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत मामलों की सुनवाई के लिए नामित विशेष अदालत बुधवार को देशमुख की जमानत याचिका पर सुनवाई कर सकती है। 

बता दे कि ईडी ने 29 दिसंबर, 2021 को देशमुख और उनके बेटों के खिलाफ 7,000 पन्नों का पूरक आरोप पत्र दाखिल किया था।अभियोजन पक्ष के अनुसार, देशमुख और उनके परिवार के सदस्य कई कंपनियों के मालिक थे, जिनका इस्तेमाल धन शोधन के लिए किया जाता था। अप्रैल 2021 में राज्य के गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाले देशमुख ने बार-बार अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है।