कटोरिया  : मां काली पूजा समिति बहदिया के तत्वावधान में किसी भी गांव देश की पहचान कला व संस्कृति से होती है। ग्रामीण क्षेत्र की कला व संस्कृति को समय समय पर प्रदर्शित कर सभ्य समाज की स्थापना की जा सकती है। ये बातें पूर्व विधायक राज किशोर प्रसाद उर्फ पप्पू यादव ने मां काली पूजा समिति बहदिया में सांस्कृतिक कार्यक्रम का उदघाटन करते हुए कही। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के मेधावी कलाकारों को मंच देकर उभरा जा सकता है इसलिए मां काली पूजा समिति अग्रसर है।

सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजन समिति के अध्यक्ष एवं पत्रकार जयप्रकाश चौधरी ने कहा कि गांव के विकास के बगैर देश का विकास संभव नहीं है। गांव में फैले कुरीतियां, कुपोषण, अंधविश्वास को दूर करने में कला एवं संस्कृति सहायक हो सकता है। कार्यक्रम में उपस्थित गायकों ने कभी राम बन के कभी श्याम बन के…, मां काली आईली हमरा घर… जैसे महत्वपूर्ण गानों पर लोग थिरकते नजर आये।

उसके बाद मूर्ति विसर्जन सह शोभा यात्रा में हजारों की भीड़ ने जय मां काली के नारा लगाते हुए मूर्ति विसर्जन किया। इस अवसर पर गिरिश यादव, महेश यादव, टुनटुन खान, मल्होरी यादव, मुन्द्रिका यादव, योगेन्द्र यादव, सुरेश यादव, भाजपा नेता मनोज यादव, रणजीत कुमार, भोला यादव, सिकन्दर यादव, आशीष चौधरी, कारू यादव, नुनु लाल यादव, पं. भूदेव पांडे, सचिव कमलेश्वरी प्रसाद यादव, अध्यक्ष कुल दीप यादव, उपाध्यक्ष त्रिवेदी यादव, कैलाश ठाकुर, राजेन्द्र ठाकुर, कौशल यादव, कैलाश यादव, कोषाध्यक्ष पुरन कुमार पुरूषोत्तम, राकेश चौधरी इत्यादि शामिल थे।