BREAKING NEWS

दिल्ली में गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में रहने की संभावना, 6 दिसंबर को हो सकती है बारिश ◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे के दौरान 8 हजार से अधिक नए केस, 415 लोगों की मौत◾चक्रवाती तूफान 'जवाद' की दस्तक, स्कूल-कॉलेज बंद, पुरी में बारिश और हवा का दौर जारी◾विश्वभर में कोरोना के आंकड़े 26.49 करोड़ के पार, मरने वालों की संख्या 52.4 लाख से हुई अधिक ◾आजाद ने सेना ऑपरेशन के दौरान होने वाली सिविलिन किलिंग को बताया 'सांप-सीढ़ी' जैसी स्थिति◾SKM की बैठक से पहले राकेश टिकैत ने कहा- उम्मीद है कि आज की मीटिंग में कोई समाधान निकलना चाहिए◾राष्ट्रपति ने किया ट्वीट, देश की रक्षा सहित कोविड से निपटने में भी नौसेना ने निभाई अहम भूमिका◾तेजी से फैल रहा है ओमिक्रॉन, डब्ल्यूएचओ ने कहा- वेरिएंट पर अंकुश लगाने के लिए लॉकडाउन अंतिम उपाय◾सिंघु बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की आज होगी अहम बैठक, आंदोलन की आगे की रणनीति होगी तय◾ओमीक्रोन का असर कम रहने का अंदाजा, वैज्ञानिक मार्गदर्शन पर होगा बूस्टर देने का फैसला◾सुरक्षा के प्रति किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है भारतीय नौसेना : एडमिरल कुमार◾एक बच्चे सहित तीन यात्री कोरोना संक्रमित , जांच के बाद ही ओमीक्रन स्वरूप की होगी पुष्टि : तमिलनाडु सरकार◾जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾

असम विधानसभा में आज मदरसों को बंद करने संबंधी विधेयक पेश करेगी राज्य सरकार

असम कैबिनेट द्वारा राज्य में सभी सरकारी मदरसों को बंद करने का विधेयक आज विधानसभा में पेश किया जाएगा। आज से राज्य विधानसभा का तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। राज्य सरकार में मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने सोमवार को इसकी जानकारी दी।

सरमा ने कहा, 'मैं मदरसे के प्रांतीयकरण को निरस्त करने के लिए एक विधेयक पेश करूंगा। एक बार विधेयक पारित हो जाने के बाद, असम सरकार द्वारा मदरसा चलाने की प्रथा समाप्त हो जाएगी, जो एक प्रथा स्वतंत्रता-पूर्व असम में मुस्लिम लीग सरकार द्वारा शुरू की गई थी।'

गौरतलब है कि पिछले दिनों ही मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक के दौरान सरकारी मदरसों और संस्कृत स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया गया था। इसके बाद सरकार ने विधेयक को विधानसभा में पेश करने का प्लान बनाया था।

सरकार के इस फैसले से राज्य के सभी सरकारी मदरसों और अरबी कॉलेजों को मिलने वाली सरकारी मदद बंद कर दी जाएगी। अगले शैक्षणिक सत्र से राज्य मदरसा बोर्ड को भंग कर दिया जाएगा और उसकी सभी शैक्षणिक गतिविधियों को माध्यमिक शिक्षा निदेशालय को हस्तांतरित कर दिया जाएगा। मदरसों में धार्मिक पाठ्यक्रम पढ़ाने वाले शिक्षकों को सामान्य विषयों को पढ़ाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।