BREAKING NEWS

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में रॉबर्ट वाड्रा के करीबी सीसी थंपी को ईडी ने किया गिरफ्तार◾CAA को लेकर चंद्र कुमार बोस बोले-लोकतांत्रिक देश के नागरिकों पर कोई कानून नहीं थोप सकते◾BJP सांसद सौमित्र खान के बिगड़े बोल, कहा- CAA का विरोध करने वाले प्रख्यात नागरिक ममता बनर्जी के कुत्ते हैं◾दिल्ली आ रही 14 ट्रेनें 1 से 5.30 घंटे तक लेट ◾पंचतत्व में विलीन हुए श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा 'मिन्ना जी' ◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾

असम एनआरसी : न्यायालय का तीस्ता सीतलवाड के संगठन की अर्जी पर विचार से इंकार

उच्चतम न्यायालय ने असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी तैयार करने की कवायद से संबंधित चुनिन्दा मुद्दे उठाने की अनुमति के लिये तीस्ता सीतलवाड के मुंबई स्थित गैर सरकारी संगठन के आवेदन पर विचार करने से इंकार कर दिया। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति आर एफ नरिमन की पीठ ने कहा कि गैर सरकारी संगठन सिटीजन फार जस्टिस एंड पीस इस मामले में सिर्फ एक पक्षकार बनना चाहता है और उसने किसी अन्य निर्देश का अनुरोध नहीं किया है। ऐसी स्थिति में कोई निर्देश कैसे दिया जा सकता है। 

पीठ में गैर सरकारी संगठन के वकील सी यू सिंह ने जब अपना पक्ष रखने का प्रयास किया तो पीठ ने कहा,‘‘गैर सरकारी संगठन ने पक्षकार बनने के लिये आवेदन किया है। आपने कोई निर्देश देने का अनुरोध नहीं किया है। हमें आपको क्यों सुनना चाहिए? 

पीठ ने कहा, ‘‘हम क्या कर सकते हैं? क्या हम आपको बुलाकर आदेश दे सकते हैं। आपने किसी निर्देश के लिये आवेदन दाखिल नहीं किया है। आपका अनुरोध सिर्फ पक्षकार बनने के लिये है।’’ 

पीठ ने कहा, ‘‘हमने रजिस्ट्री से पता किया है। कोई राहत नहीं मांगी गयी है। हम कोई राहत कैसे दे सकते हैं?’’ सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने गैर सरकारी संगठन के कथन पर आपत्ति करते हुये कहा कि मुंबई स्थित गैर सरकारी संगठन असम के मामले में कैसे हस्तक्षेप कर सकता है। तीस्ता सीतलवाड और उनके पति जावेद आनंद इस गैर सरकारी संगठन के संस्थापकों में हैं जो मानव अधिकारों की रक्षा के क्षेत्र में काम कर रहा है।