BREAKING NEWS

कोझीकोड में हुए विमान हादसे पर PM मोदी ने ट्वीट कर जताया दुख, कहा- हादसे से व्यथ‍ित हूं◾केरल के कोझीकोड एयरपोर्ट पर रनवे से फिसला विमान, दो हिस्सों में टूटा, पायलट और को-पायलट समेत 17 लोगों की मौत◾महाराष्ट्र में कोरोना से 300 लोगों की मौत, 10483 नए मामले की पुष्टि◾सुशांत केस: रिया चक्रवर्ती की याचिका में पक्षकार बनने के लिये केन्द्र ने न्यायालय में दी अर्जी◾असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ अवमानना कार्यवाही को लेकर SC में याचिका दायर ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 1,192 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 1.42 लाख के पार ◾केरल में भूस्खलन की घटना पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जताया दुख, कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राहत बचाव कार्य में मदद करने की अपील की◾सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तबीयत बिगड़ी, लखनऊ मेदांता अस्पताल में भर्ती◾देश में 24 घंटे के भीतर कोरोना से 49 हजार 769 मरीज हुए ठीक, मृत्यु दर घटकर 2.05 % हुई : स्वास्थ्य मंत्रालय◾यूपी में 24 घंटे में कोरोना से 63 लोगो की मौत, 4404 नए मामले◾मुझे नहीं, सुशांत मामले की जांच को किया गया था क्वारंटाइन : IPS विनय तिवारी◾शपथ ग्रहण के बाद बोले उपराज्यपाल सिन्हा-अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद मुख्यधारा में आया J&K◾CM केजरीवाल ने दिल्ली में इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी का किया ऐलान◾केरल में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात, इडुक्की में भूस्खलन से 5 लोगों की मौत ◾सुशांत सुसाइड केस : रिया चक्रवर्ती ED के सामने हुई पेश, एजेंसी ने मोहलत देने से किया इंकार◾नई शिक्षा नीति : PM मोदी- 'हाऊ टू थिंक' पर दिया जा रहा है बल, नए भारत की फाउंडेशन की एक कोशिश◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 62538 नए मरीजों का रिकॉर्ड, संक्रमितों का आंकड़ा 20 लाख के पार◾कोरोना को लेकर राहुल का केंद्र पर वार- देश में '20 लाख का आंकड़ा पार, गायब है मोदी सरकार'◾अमेरिका में कोरोना का कहर बरकरार, पॉजिटिव मामलों की संख्या 48 लाख के पार ◾विश्व में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 90 लाख के पार, सवा सात लाख के करीब लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बाबुल सुप्रियो बोले- पराली जलाना दिल्ली के लिये ‘‘मृत्युदंड’’ बन गया

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने बुधवार को कहा कि सर्दियों से पहले पंजाब और हरियाणा में पराली जलाना दिल्लीवासियों के लिये ‘‘मौसमी सौगात’’ है और इसके चलते होने वाले भीषण वायु प्रदूषण के कारण यह उनके लिये ‘‘मृत्युदंड’’ के समान बन गया है। यहां ‘इंडियन इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल’ के पांचवें संस्करण में उन्होंने कहा कि दिल्ली एवं अन्य शहरों में वायु प्रदूषण से लड़ने का ‘‘सही तरीका’’ लागू नहीं किया गया है। 

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कोष की मांग करने का जिक्र करते हुए केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री ने कहा कि उन्हें ‘‘खुद के अंदर झांककर देखना’’ चाहिए, खासकर तब जब पराली जलाने के बजाय इसके प्रबंधन के लिये राज्य को मशीनें दी गयी हैं। 

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में वाहन प्रदूषण कम है और तस्वीरों एवं टेलीविजन पर धूमकोहरे की जो तस्वीरें हम देखते हैं वह आम तौर पर धूलकण, जैव ईंधन और पराली जलाने तथा मानव जाति की लापरवाह गतिविधियों के कारण होता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पराली जलाना दिल्ली वालों के लिये मौसमी सौगात बन गया है और हवाएं भी इसमें मदद नहीं कर पा रही हैं... नतीजतन राष्ट्रीय राजधानी मृत्युदंड से गुजर रही है।’’ 

उन्होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री ने पिछले साल फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने और कोष की मांग करते हुए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। उन्होंने कहा, ‘‘यह अपील खारिज कर दी गयी क्योंकि किसी एक विशेष राज्य को यह छूट नहीं दी सकती है। इस साल उनकी ओर से ऐसा ही पत्र आया है। वास्तव में उन्हें अपनी गिरेबान में झांकना चाहिए।’’ 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पराली को जलाये बिना उसे खाद में तब्दील करने के लिये पंजाब को 1500 मशीनें दी गयीं थीं। इसमें केंद्र से अक्टूबर में 2,000 करोड़ रुपये की मांग की गयी थी ताकि प्रदूषण और मिट्टी के कटान की रोकथाम के लिये वे धान के पुआल को जलाये बिना उन्हें हटा सकें। 

दिल्ली सरकार शहर में पड़ोसी राज्यों में फसलों के अवशेष जलाये जाने को जहरीले धुंध का कारण बता चुकी है और किसान पराली जलाने का कोई व्यवहार्य विकल्प नहीं होने के कारण अपनी असमर्थता जता चुके हैं। उन्होंने कहा कि लोगों की लापरवाह गतिविधियां भी पर्यावरण क्षति का अहम कारक है। उन्होंने कहा कि हर मंत्रालय के भीतर एक लघु विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय होना चाहिए ताकि उन्हें वैज्ञानिक तरीके से कुछ नया करने के लिये समृद्ध बनाया जा सके।