मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए दोनों दलों की ओर से सभी सीटों के लिए घोषित अपने प्रत्याशियों में कई नाम चौंकाने वाले रहे। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे मरहूम रसूल अहमद सिद्दीकी की बेटी फातिमा रसूल को भोपाल उत्तर सीट से अपना दावेदार बनाया। फातिमा ने हाल ही में बीजेपी ज्वाइन किया था, जिसके बाद उन पर भरोसा जताते हुए पार्टी ने भोपाल की उत्तर विधानसभा से उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया है।

वहीं कांग्रेस ने लंबे समय से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सीट बुधनी से पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव की दावेदारी घोषित कर सबको चौंका दिया। कांग्रेस में रहीं फातिमा रसूल कल ही भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुई थीं। मरहूम सिद्दीकी भोपाल उत्तर से दो बार कांग्रेस विधायक रह चुके हैं। हालांकि 90 के दशक के बाद से आरिफ अकील इस सीट से विधायक हैं। कांग्रेस ने इस बार भी भोपाल उत्तर से आरिफ अकील को ही उतारा है। ऐसे में अब सुश्री सिद्दीकी का आरिफ अकील से मुकाबला होगा।

वहीं कांग्रेस ने लंबे इंतजार के बाद कल पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्षअरुण यादव को बुधनी से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। अरुण यादव यहां मुख्यमंत्री शिवराज का सामना करेंगे। उन्होंने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि पार्टी ने उन्हें शिवराज के खिलाफ चुनाव लड़ने का आदेश दिया है। वह पूरी ताकत से चुनाव मैदान में रहेंगे और चुनाव भी जीतेंगे।

उन्होंने कहा कि वे बुधनी क्षेत्र के गांव गांव में जाकर भाजपा और उसके नेता शिवराज चौहान की असलियत आम लोगों को बताएंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि बुधनी क्षेत्र में नर्मदा नदी के किनारे सबसे अधिक अवैध उत्खनन हो रहा है। अरुण यादव को पिछले साल पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष पद से हटा कर उनके स्थान पर सांसद कमलनाथ को ये जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

तभी से अरुण यादव के राजनीतिक भविष्य को लेकर अटकलें लगाईं जा रहीं थीं। ऐसे में पार्टी ने बीजेपी के इस पुराने गढ़ को ध्वस्त करने के लिए अरुण यादव का नाम आगे बढ़कर सभी को चौंका दिया है। मध्यप्रदेश में आज नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन है। 12 तारीख तक नामांकनों की जांच होगी और 14 नवंबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे।