BREAKING NEWS

UP News: योगी पर प्रहार करते हुए अखिलेश यादव बोले- यूपी को किया तहस नहस! शिक्षा व्यवस्था पर भी कसा तंज◾ Gyanvapi Case: सोमवार को हिंदू और मुस्लिम पक्ष को मिलेंगी सर्वे की वीडियो और फोटो◾ RR vs RCB ipl 2022: राजस्थान ने टॉस जीतकर किया गेंदबाजी का फैसला, यहां देखें दोनों टीमों की प्लेइंग XI◾नेहरू की पुण्यतिथि पर राहुल गांधी का मोदी पर प्रहार, बोले- 8 सालों में भाजपा ने लोकतंत्र को किया कमजोर◾Sri Lanka crisis: आर्थिक संकट के चलते श्रीलंका में निजी कंपनियां भी कर सकेगी तेल आयात◾ नजर नहीं है नजारों की बात करते हैं, जमीं पे चांद सितारों की बात करते...शायराना अंदाज में योगी का विपक्ष पर निशाना ◾मंकीपॉक्स की चपेट में आए 20+ देश! जानें कैसे फैल रही यह बिमारी.. WHO ने दी अहम जानकारियां ◾Ladakh Accident News: लद्दाख के तुरतुक में हुआ खौफनाक हादसा, सेना की गाड़ी श्योक नदी में गिरी, 7 जवानों की हुई मौत◾ कर्नाटक में हिन्दू लड़के को मुस्लिम लड़की से प्यार करने की मिली सजा, नाराज भाईयों ने चाकू से गोदकर की हत्या◾कांग्रेस को मझदार में छोड़ अब हार्दिक पटेल कर रहे BJP के जहाज में सवारी की तैयारी? दिए यह बड़े संकेत ◾RBI ने कहा- खुदरा महंगाई पर दबाव डाल सकती है थोक मुद्रास्फीति की ऊंची दर◾ SC से सपा नेता आजम खान को राहत, जौहर यूनिवर्सिटी के हिस्सों को गिराने की कार्रवाई पर रोक◾आर्यन खान केस में पूर्व निदेशक की जांच में थी गलतियां.. NCB ने कबूली यह बात, जानें वानखेड़े की प्रतिक्रिया ◾ शेख जफर से बना चैतन्य सिंह राजपूत...,MP के मुस्लिम शख्स ने अपनाया सनातन धर्म ◾कांग्रेस में फिर दोहरा रहा इतिहास? पंजाब की तरह राजस्थान में CM गहलोत के खिलाफ बन रहा माहौल... ◾ J&K : TV एक्ट्रेस अमरीन भट्ट के परिजनों से मिलीं महबूबा मुफ्ती, बोलीं- बेगुनाहों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया ◾गुजरात बंदरगाह पर मिली ड्रग्स को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- देश को बताएं किसका संरक्षण है ◾Maharashtra: कोरोना ने फिर एक बार सरकार की बढ़ाई चिंता, जानें- CM ठाकरे ने जनता से क्या कहा? ◾ OP Chautala news: हरियाणा के पूर्व CM ओपी चौटाला को हुई 4 साल की सजा, 50 लाख रुपये का जुर्माना◾कांग्रेस में मची है भगदड़, भारत जोड़ रैली के बजाय निकालनी चाहिए पार्टी जोड़ रैली : नरोत्तम मिश्रा◾

4 महीने बाद मिला बंगाल हिंसा में मारे गए BJP कार्यकर्ता का शव, दिलीप घोष ने लगाया बड़ा आरोप

कोलकाता पुलिस ने 130 दिनों के बाद अदालत के निर्देश पर गुरुवार को दिवंगत भाजपा कार्यकर्ता अभिजीत सरकार का शव उनके परिवार और पार्टी के नेताओं को सौंप दिया। 2 मई को विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद पश्चिम बंगाल में हुई चुनाव के बाद हुई हिंसा में सरकार कथित रूप से मारे गए थे।

वहीं इस मामले में दिलीप घोष ने कहा कि "भाजपा सदस्य पार्टी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार को श्रद्धांजलि देते हैं, सरकार चुनाव के बाद की हिंसा के शिकार थे, उनका शव 4 महीने बाद उनके परिवार को सौंपा गया। ऐसी कई घटनाएं हो सकती हैं। ऐसे कार्यकर्ताओ को सम्मान देना जरूरी है, जिन्होंने अपनी जान गंवाई।" भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने चुनाव के बाद की हिंसा के पीड़ितों के पोस्टमार्टम में भी गड़बड़ी की थी। घोष ने कहा, "शव को सौंपने में 4 महीने का समय लगा ताकि सबूत मिटाए जा सकें।"

सरकार के शव को जांच के उद्देश्य से यहां एनआरएस मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में सुरक्षित रखा गया है। कोर्ट के निर्देश के बाद उसे उसके परिवार को सौंप दिया गया। अदालत ने पहले शरीर पर डीएनए परीक्षण का आदेश दिया था, क्योंकि सरकार का परिवार इसकी पहचान नहीं कर सका था। परिवार ने लगातार आरोप लगाया था कि कोलकाता पुलिस मामले की ठीक से जांच नहीं कर रही है और हत्या के लिए जिम्मेदार 'तृणमूल गुंडों' को गिरफ्तार नहीं कर रही है, जो न केवल बेखौफ घूम रहे हैं, बल्कि परिवार के सदस्यों को धमकी भी दे रहे हैं।

पीड़िता के बड़े भाई बिस्वजीत सरकार ने सुप्रीम कोर्ट और कलकत्ता हाईकोर्ट में सरकार की मौत की जांच के लिए याचिकाएं दायर की हैं। सरकार की कथित तौर पर एक टेलीविजन केबल से गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। वह एकमात्र भाजपा कार्यकर्ता थे जिनकी राज्य की राजधानी में चुनाव के बाद हुई हिंसा में मौत हो गई थी। 19 अगस्त को, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की एक रिपोर्ट के आधार पर कलकत्ता उच्च न्यायालय ने राज्य में चुनाव के बाद की हिंसा के दौरान दुष्कर्म और हत्या के मामलों की सीबीआई जांच का आदेश दिया था।

केंद्रीय एजेंसी द्वारा परिवार के सदस्यों से बात करने के बाद सरकार ने शव शरीर को छोड़ने का अनुरोध किया, जिस पर अदालत ने अनुमति दी थी। एनआरएस मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में दोपहर में कोहराम मच गया, जब बिस्वजीत सरकार भाजपा नेताओं के साथ शव को कब्जे में लेने वहां पहुंचे। सांसद अर्जुन सिंह, सजल घोष और अन्य सहित भाजपा नेताओं ने पुलिस के असहयोग के कारण शव को परिवार को सौंपने में अनावश्यक देरी की शिकायत की।

भाजपा नेता देवदत्त माजी वहां मौजूद पुलिस अधिकारियों के साथ जुबानी जंग में लगे दिखे। माजी ने कथित तौर पर एक होमगार्ड को थप्पड़ मार दिया जब कोलकाता पुलिस के जवान मुर्दाघर में प्रवेश बिंदु का प्रबंधन कर रहे थे, जहां शव रखा गया था। माजी ने कहा, "पुलिस ने हमें रोकने की कोशिश की तो कुछ धक्का-मुक्की हुई। मैंने जानबूझकर किसी को नहीं मारा। अगर आरोप लगाए गए, तो मैं अदालत में उनका मुकाबला करूंगा।"

माजी का बचाव करते हुए, बंगाल भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने कहा, "अगर उन्होंने होमगार्ड को थप्पड़ मारा, तो उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया। मैं किसी को इतना अमानवीय नहीं मान सकता। वे अभी भी हमारे लोगों को परेशान और अपमान कर रहे हैं।" इसके बाद पार्थिव शरीर को मध्य कोलकाता में राज्य भाजपा मुख्यालय ले जाया गया। बाद में इसे सरकार के घर ले जाया गया। दोपहर में दाह संस्कार हुआ।

विधानसभा चुनावों में किसी माफिया को टिकट नहीं देगी BSP, मुख्तार अंसारी की जगह भीम राजभर होंगे उम्मीदवार