BREAKING NEWS

Maharashtra Politics: मुख्यमंत्री शिंदे के साथ शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई के लिए रवाना◾ बडा़ खुलासा : कन्हैया का सर कलम करने वाले मौहम्मद रियाज ने की थी बीजेपी दफ्तर की रेकी, गौस ने पाक में ली आतंकी ट्रेनिंग ◾ IPS Transfer list: यूपी में 21 IPS अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर, इन जिलों के SP बदले गए, देखें पूरी सूची◾आंख निकालने, सिर काटने की धमकी देने वाले जहरीले मौलाना को गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही मिली जमानत ◾वकीलों ने की कन्हैया के कसाईयों की धुनाई, जबरदस्त पिटाई, वीडीयो सोशल मीडीया पर वायरल ◾भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक शुरु, प्रधानमंत्री मोदी भी मौजूद◾ कन्हैयालाल के परिवार को एक करोड़ की आर्थिक सहायता देंगे भाजपा नेता कपिल मिश्रा◾ बिहार में नीतीश कुमार NDA के चेहरा थे, हैं और रहेंगे, JDU नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान ◾ Nupur Sharma: सस्पेंड BJP नेता नूपुर के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, 10 FIR हैं दर्ज◾ presidential election : चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई बन गया है: यशवंत सिन्हा◾KCR की बीजेपी को खुली चुनौती- मेरी सरकार गिराकर दिखाओ मैं केंद्र सरकार गिरा दूंगा ◾मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾

अवमानना केस: बंबई HC ने NCP नेता को जमकर लगाई फटकार, कहा- रियायत का दुरुपयोग ना करें मलिक

बंबई हाई कोर्ट ने गुरुवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक से स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े की अवमानना याचिका पर जवाब मांगा। न्यायमूर्ति एस जे कथावाला और न्यायमूर्ति मिलिंद जाधव की पीठ ने यह भी पूछा कि मलिक वानखेड़े परिवार के खिलाफ कोई मानहानिकारक टिप्पणी नहीं करने के लिए हाई कोर्ट को दिए गए हलफनामे के साथ बार-बार रियायतें क्यों ले रहे हैं। 

बंबई हाई कोर्ट ने दी नवाब मलिक को चेतावनी 

पीठ ने कहा कि अगर मंत्री इस तरह से रियायत का दुरुपयोग करते रहे तो अदालत इसे वापस ले लेगी। पिछले महीने, ज्ञानदेव वानखेड़े ने मलिक के खिलाफ हाई कोर्ट में अवमानना याचिका दायर की थी। इसमें आरोप लगाया गया था कि मंत्री ने वानखेड़े परिवार के खिलाफ कोई अपमानजनक टिप्पणी नहीं करने या सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के संबंध में पिछले साल दिसंबर में अदालत को दिए गए अपने वचन का जानबूझकर उल्लंघन किया।

समीर वानखेड़े के पिता ने दायर किया था अवमानना केस 

ज्ञानदेव वानखेड़े ने पिछले साल हाई कोर्ट में एक मुकदमा दायर किया था, जिसमें मलिक को ऐसी कोई भी सार्वजनिक टिप्पणी या सोशल मीडिया पर पोस्ट करने से रोकने का अनुरोध किया गया था जो उनके, उनके बेटे समीर या उनके परिवार के लिए अपमानजनक हो। अपनी अवमानना याचिका में ज्ञानदेव वानखेड़े ने दावा किया कि मलिक ने अपने वचन का उल्लंघन किया और हाल में इस साल दो और तीन जनवरी को आपत्तिजनक टिप्पणी की।

हाई कोर्ट ने कहा- रियायत का दुरुपयोग ना करें मलिक 

गुरुवार को, ज्ञानदेव के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता बीरेंद्र सराफ ने मलिक द्वारा अपना हलफनामा देने के बाद समीर वानखेड़े के खिलाफ जाति प्रमाण पत्र और क्रूज जहाज से मादक पदार्थ की जब्ती मामले में अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से जुड़ी कुछ टिप्पणियों का जिक्र किया। मलिक की टिप्पणियों पर गौर करने के बाद न्यायमूर्ति कथावाला ने कहा कि अगर मंत्री को इस तरह से रियायत का दुरुपयोग करना है तो अदालत इसे वापस ले लेगी।

हाई कोर्ट ने नवाब मलिक से पूछा यह सवाल 

पीठ ने पूछा, ‘‘अगर आप इसी मंशा से रियायत लेते हैं तो हम रियायत वापस ले लेंगे। प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से आप (मलिक) उनको (वानखेड़े) बदनाम करना चाहते हैं। आपका इरादा क्या है?’’ मलिक के वकील रमेश दुबे ने कहा कि मंत्री यह दिखाने के लिए अपना जवाब दाखिल करना चाहते हैं कि ये बयान रियायत (केवल एक लोक अधिकारी के आधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन के बारे में टिप्पणी करने पर) के दायरे में आते हैं। हाई कोर्ट ने मलिक को अपना जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया और मामले की अगली सुनवाई सात फरवरी को निर्धारित की।