सिंगरौली (मप्र) : बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को कहा कि अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को आरक्षण सुविधा बसपा ने ही दिलवाई थी, क्योंकि इसके लिये बसपा ने ही पूरे देश में आंदोलन किया था, जिसे वीपी सिंह सरकार ने पारित किया था।

मायावती ने बिजौली एनसीएल ग्राउंड पर चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए कहा, “ओबीसी समाज के लोगों को आरक्षण देने, मंडल कमीशन लागू करने के लिये बसपा ने पूरे देश में आंदोलन किया था, जिसे वीपी सिंह सरकार ने पास किया। कांग्रेस जहां इस मंडल कमीशन के खिलाफ थी तो वहीं वीपी सिंह सरकार का बाहर से समर्थन कर रही भाजपा ने भी विरोध करते हुए समर्थन वापस ले लिया था। ये दोनों पार्टियां एससी, एसटी और ओबीसी विरोधी हैं।” उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं उक्त समाज के लोगों के लिए बने कानूनों को भी इन दोनों दलों ने प्रभावहीन बनाने का काम किया है।

Mayawati

मायावती ने कहा कि एससी, एसटी और ओबीसी के साथ ऊंची जाति के गरीब परिवारों को आर्थिक आधार पर आरक्षण मिलना चाहिये। उन्होंने केन्द्र की भाजपानीत सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार की गलत नीतियों से देश में गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई व भ्रष्टाचार के साथ रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल की बढ़ी कीमतों से लोग परेशान हैं।

उन्होने देश की कमजोर अर्थव्यवस्था के लिये नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराया। बसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि कांग्रेस व भाजपा पूंजीपतियों व धन्नासेठों की आर्थिक मदद से सत्ता में आती हैं और यह केवल उनका भला करने की नीति तैयार करती है। इनकी नीतियों का लाभ आज भी सर्वसमाज के लोगों को नहीं मिलता है।

मायावती ने दावा किया कि पूरे देश में बसपा ही एक ऐसी पार्टी है जो कार्यकर्ताओं के आर्थिक सहयोग से चलती है और बसपा की सरकार आयी तो बिना किसी दबाव के सर्वसमाज के कल्याण के लिए काम करेगी।

शिवराज सरकार पदोन्नति में आरक्षण को खत्म करने का रच रही है षड्यंत्र – मायावती