BREAKING NEWS

मोदी है तो मुश्किल है। GDP पाताल में महंगाई आसमान में है...,सीएम KCR की बेटी का PM पर निशाना ◾ हरियाणा के पूर्व CM ओपी चौटाला भ्रष्टाचार के मामले में हुए दोषी करार, इस दिन होगा सजा का ऐलान ◾ श्रीलंका सरकार ने देश में आपातकाल हटाने का किया ऐलान, लेकिन प्रशासन के खिलाफ लोगो में अब भी गुस्सा◾राउत ने किया राहुल की ‘केरोसिन’ वाली टिप्पणी का समर्थन, बोले-हमने भी अलग शब्दों में यही बात कही ◾ भारत में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA.4 का दूसरा मामला दर्ज ,तमिलनाडु में पाया गया◾ फव्वारा 2700 साल पुराना है....,ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग के दावे पर फिर भड़के ओवैसी◾'जब बड़ा पेड़ गिरता है, तो धरती हिलती है...', राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर अधीर रंजन का ट्वीट ◾ सिख दंगों में देश ने देखी है कांग्रेस की नफरत की राजनीति...,राहुल के बयान पर BJP का पलटवार◾ज्ञानवापी विवाद : मौलाना तौकीर रजा का आह्वान, हर जिले में 2 लाख मुसलमान दें गिरफ्तारी ◾ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद : DU प्रोफेसर की गिरफ्तारी को लेकर छात्रों का हंगामा◾NSE Co-Location Case : मुंबई-दिल्ली समेत 10 ठिकानों पर CBI का एक्शन◾नफरत की राजनीति कर रही है BJP, राहुल गांधी के बयान को AAP का समर्थन◾नवनीत राणा को BMC का नोटिस, 7 दिन में जवाब नहीं दिया तो होगी कार्रवाई◾शर्मनाक! JNU कैंपस में MCA की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तार◾उत्तराखंड : सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे बंद, फंसे 3 हजार यात्री, सख्त हुए पंजीकरण के नियम ◾MP : मुस्लिम समझकर बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, Video जारी कर जीतू पटवारी ने गृहमंत्री से पूछा सवाल◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,323 नए केस, 25 मरीजों की हुई मौत ◾रूस ने मारियुपोल पर पूरी तरह से कब्जे का किया दावा, मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पूरा शहर ◾यूरोप में Monkeypox का कहर, जानें क्या है ये बला, और कैसे फैलता है संक्रमण◾कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने BJP पर जमकर बोला हमला, कहा-भारत में आज अच्छे हालात नहीं◾

CAG ने गुजरात सरकार के वित्तीय प्रबंधन में खामियों को उजागर किया

कैग का गुजरात सरकार को सुझाव: 

देश के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने गुजरात सरकार के वित्तीय व्यवहार में कई खामियां उजागर की हैं। कैग ने राज्य को सुझाव दिया है कि वह जरूरत के विश्वसनीय अनुमानों के आधार पर सही बजट बनाए। कैग की 31 मार्च, 2020 को समाप्त वित्त वर्ष के लिए राज्य वित्त आडिट रिपोर्ट को मंगलवार को गुजरात विधानसभा में रखा गया। यह दो दिन के मानसून सत्र का आखिरी दिन भी था। 

कैग ने दिया नियमावली-1983 का हवाला: 

कैग ने कहा, ‘‘गुजरात के बजट नियमावली-1983 के अनुसार, कोई भी खर्च बिना बजट प्रावधान या बिना अनुपूरक मांग के अनुमान के आधार पर किसी मद में भी नहीं किया जा सकता। इन दो मामलों में 2019-20 में एक करोड़ रुपये से अधिक का खर्च (कुल 11.07 करोड़ रुपये) बिना बजट प्रावधान के किया गया।’’ 

कैग ने कहा कि बिना बजट प्रावधान के खर्च वित्तीय नियमनों का उल्लंघन और यह वित्तीय अनुशासन की कमी को दर्शाता है। कैग ने अपने ऑडिट में यह भी पाया कि सरकारी खातों में 14,273 ग्राम पंचायतों को कोष के प्रवाह को नहीं दर्शाया गया है। इसका मतलब है कि इन ग्राम पंचायतों के खाते अनुसूचित बैंकों (सरकारी खाते से बाहर) से बाहर हैं। सरकारी ऑडिटर ने कहा कि सरकार के पास पंचायतों के खातों में पड़े बिना इस्तेमाल के कोष का पता लगाने को कोई तंत्र नहीं है।

पंजाब के बाद छत्तीसगढ़ कांग्रेस टूट की ओर अग्रसर! सियासी अटकलों के बीच कई विधायक पहुंचे दिल्ली